मानव तस्करी / पश्चिम बंगाल और असम की युवतियों को नौकरी के बहाने ग्वालियर में बेचा



Woman from WB and Assam sold to Gwalior on the pretext of job
X
Woman from WB and Assam sold to Gwalior on the pretext of job

  • नाबालिग छत से कूदी, पुलिस को बुलाया

Dainik Bhaskar

Mar 26, 2019, 06:17 AM IST

ग्वालियर . मानव तस्करी का एक सनसनीखेज मामला ग्वालियर में सामने आया है। पश्चिम बंगाल और असम की दो अनाथ युवतियों को नौकरी का झांसा देकर ग्वालियर लाया गया और यहां के मेवाती माेहल्ले में रहने वाले तस्कर मुन्ना खान को बेच दिया गया। दोनों को देह व्यापार में धकेलने की तैयारी थी, लेकिन ये युवतियां उनके इरादे भांप गईं। किसी तरह इनमें से एक युवती जिसकी उम्र 17 साल थी, वह भागकर पड़ोसी की छत पर पहुंची और वहां से छलांग लगा दी।

 

नीचे आने के बाद उसने अपने मोबाइल से पुलिस को फोन लगाया और तुरंत पुलिस आ गई। पुलिस ने दूसरी युवती को भी वहां से मुक्त करा लिया। हालांकि पुलिस के पहुंचने से पहले सरगना मुन्ना खान फरार हो गया, वह ग्वालियर में इनकी खरीद-फरोख्त में शामिल है। इतना ही नहीं, उसने एक युवती के साथ गलत काम भी किया है।

 

प्रारंभिक पड़ताल में सामने आया है कि ग्वालियर में युवतियों की तस्करी का गोरखधंधा लंबे समय से चल रहा था। इसमें मुन्ना की पत्नी सितारा बाई भी लिप्त है। ग्वालियर के अलावा असम, पश्चिम बंगाल और पंजाब के कुछ लोग शामिल हैं। पुलिस मुन्ना की तलाश कर रही है, जिससे पूरे गिरोह के बारे में पता लग सके। दोनों युवतियों को ग्वालियर के तस्कर तक लाने वाले आरोपी असम में गोवाहटी के रहने वाले हैं। 

 

युवतियों को देह व्यापार में धकेलने की थी तैयारी 

 

मैं गोवाहटी के पास बोबोई गांव में रहती हूं। मेरी उम्र 19 साल है। मेरे माता-पिता भी नहीं है। मैं काम की तलाश में 19 मार्च को गोवाहटी स्टेशन पर भटक रही थी। इसी दौरान एक बुजुर्ग मिला, जिसने मुझे काम दिलाने की बात कही। वह मुझे गोवाहटी में रहने वाली बबली के घर ले आया। यहां मुझे दो दिन रखा गया। जब प्रीति आ गई, तब हम दोनों को अगले दिन ग्वालियर के लिए लेकर निकले। यहां मेरे साथ गलत काम किया गया। मुझसे बोला कि या तो मैं शादी कर लूं या फिर मुझे कुछ दिनों के लिए कुछ लोग किराए पर ले जाएंगे। यह पता लगते ही हम समझ गए कि हमें देह व्यापार में धकेला जा रहा है। इसके बाद हमने भागने का प्लान बनाया। -मुमताज (परिवर्तित नाम)

मैं सिलीगुड़ी में रहती हूं। मेरे माता पिता नहीं है। एक बड़ी बहन है। काम की तलाश में 20 मार्च को ट्रेन से गोवाहटी पहुंची। गोवाहटी रेलवे स्टेशन पर काम की तलाश में बैठी थी। यहां एक बुजुर्ग आए, जिनकी उम्र करीब 65 साल होगी। उन्होंने मुझसे कहा कि वह काम दिलवा देंगे। उन्होंने मुझे बबली से मिलवाया। 23 मार्च को ग्वालियर आए। यहां मुन्ना के यहां हमें रखा गया। उसी दिन दो महिलाएं हमारे पास आईं। उन्होंने बताया कि बबली हमें बेच गई है। अब या तो हमें देह व्यापार करना होगा या फिर शादी करा दी जाएगी। दूसरी युवती पर शादी के लिए जोर डाला गया। इसके बाद 24 मार्च को हमने भागने का प्लान बनाया।' -प्रीति (परिवर्तित नाम)

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना