--Advertisement--

ससुराल पहुंचते ही दुल्हन को लगा झटका, जैसे-तैसे कुछ दिन एडजेस्ट किया, मायके जाते ही पति के सामने रख दी शर्त

नैंसी की जितेंद्र से 29 अप्रैल को शादी हुई थी, वर्तमान में मायके में रह रही है।

Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 04:23 PM IST

शिवपुरी (एमपी)। शहर की नैंसी की लुधावली इलाके में रहने वाले जितेंद्र से 29 अप्रैल 2018 को शादी हुई थी। पहली बार दुल्हन बनकर नैंसी ससुराल पहुंची तो घर में टॉयलेट नहीं होने पर उसे खुले में जाना पड़ा। कुछ दिन तक इस माहौल में खुद को एडजेस्ट किया, इसके बाद मायके लौट आई नैंसी फिर पति के घर नहीं गई। मायके से पत्नी घर नहीं आई तो जितेंद्र ने थाने में शिकायत दर्ज करा दी। इसके बाद मामला परिवार परामर्श केंद्र में पहुंचा। यहां दोनों पक्षों को बुलाया गया जहां नैंसी ने खुलकर कहा- पति के घर में टॉयलेट नहीं है। उसे खुले में जाना पड़ता है। घर में टॉयलेट बन जाएगा, तभी ससुराल जाऊंगी। परिवार परामर्श केंद्र में फिलहाल मामले का निराकरण नहीं हो सका है।

मायके में सारी व्यवस्था है, इसलिए माता-पिता के पास रहती है नैंसी

नैंसी के पिता रामहेत शाक्य बस क्लीनर और मां सुमन गृहिणी हैं। वे किराए के मकान में रहते हैं। इनके घर में टॉयलेट है। अब ससुराल में भी यह व्यवस्था हो जाए, तब नैंसी पति के साथ जाने के लिए तैयार होगी।

टॉयलेट के लिए जितेंद्र के पिता डेढ़ साल पहले कर चुके हैं आवेदन

जितेंद्र के पिता मातादीन व्यक्तिगत रूप से टॉयलेट के लिए नगर पालिका में डेढ़ साल पहले आवेदन कर चुके हैं, लेकिन परिवार की माली हालत ठीक नहीं होने से 1360 रुपए जमा नहीं करा सके। इस कारण ठेकेदार ने टॉयलेट नहीं बनवाया।

हम इस मामले की जांच कराएंगे

घर में टॉयलेट नहीं होने का मामला मेरे संज्ञान में नहीं आया है। मंगलवार को मामले की जांच कराकर पता लगाएंगे। पात्रता के आधार पर शौचालय का निर्माण कराया जाएगा।

- चंद्रप्रकाश राय, सीएमओ, नगर पालिका, शिवपुरी