• Hindi News
  • Mp
  • Bhopal
  • Women feel fearless and secure, so the bride who reached the mare reached the pavilion

मप्र / महिलाएं निडर और सुरक्षित महसूस करें, इसलिए घोड़ी पर चढ़कर मंडप पहुंची दुल्हन



भोपाल की बापू कालोनी में बुधवार को एक शादी में दुल्हन घोड़े पर चढ़कर मंडप पर पहुंची। भोपाल की बापू कालोनी में बुधवार को एक शादी में दुल्हन घोड़े पर चढ़कर मंडप पर पहुंची।
Women feel fearless and secure, so the bride who reached the mare reached the pavilion
X
भोपाल की बापू कालोनी में बुधवार को एक शादी में दुल्हन घोड़े पर चढ़कर मंडप पर पहुंची।भोपाल की बापू कालोनी में बुधवार को एक शादी में दुल्हन घोड़े पर चढ़कर मंडप पर पहुंची।
Women feel fearless and secure, so the bride who reached the mare reached the pavilion

  • दुल्हन मनाली का मंडप पर इंतजार करता रहा दुल्हा 
  • भोपाल की बापू कालोनी का मामला, घोड़ी पर चढ़ी दुल्हन को देखने के लिए जुटी भीड़ 

Dainik Bhaskar

May 16, 2019, 12:39 PM IST

भोपाल. राजधानी भोपाल में बुधवार की शाम को एक शादी में अलग नजारा देखने को मिला। आमतौर पर शादियों में दूल्हे को घोड़ी पर बैठकर मंडप पर पहुंचते देखा होगा, लेकिन यहां इसके ठीक उलट दुल्हन घोड़ी पर चढ़कर शादी के मंडप पर पहुंची। वहां दूल्हा उसका इंतजार कर रहा था। लड़की को घोड़ी पर चढ़कर बारात चलने लगी तो देखने वालों की भीड़ जुट गई, वह वीडियो भी बना रहे थे। 

 

भोपाल में बापू कॉलोनी जहांगीराबाद की रहने वाली 22 वर्षीय दुल्हन मनाली मेहरोलिया इसलिए घोड़ी पर चढ़ीं, ताकि हर लड़की समाज में निडर बने और खुद को सुरक्षित महसूस करे। इसलिए, मनाली घोड़े पर चढ़कर गाजे-बाजे और बारात लेकर विवाह स्थल पर पहुंचीं, जहां दूल्हा कुणाल चांवरिया उनका इंतजार कर रहा था। 

 

मनाली ने बताया कि ऐसा करने के पीछे उनका मकसद शहर की महिलाओं और युवतियों को निर्भीक बनने का संदेश देना था। परिजनों ने बताया कि मनाली ने संकल्प लिया था कि जब प्रदेश में महिलाओं पर अत्याचार में कमी आएगी और उनका विवाह होगा, तब वे बारात घोड़ी पर चढ़कर निकालेंगी, जिससे अन्य महिलाएं भी निडर बन सकें। 

 

पहले लव मैरिज की इच्छा फिर घोड़ी चढ़ने की
मनाली के पिता महेंद्र कुमार मेहरोलिया का कहना है कि मनाली चार बच्चों में इकलौती बेटी है। वह 12वीं कक्षा तक पढ़ी है। मनाली ने नगर निगम में सेवारत लड़के से लव मैरिज करने का प्रस्ताव रखा था। इस पर हमने कोई एतराज नहीं किया। लड़की ने इससे भी बढ़कर कार्यक्रम स्थल तक घोड़ी पर बैठकर जाने की इच्छा जताई। इस पर भी हमने सहमति दे दी। लड़के वालों ने भी कोई आपत्ति नहीं ली। 

 

दूल्हे ने पहुंचकर की थीं शादी की रस्में 

इसके पूर्व दूल्हा कुणाल शाम को दुल्हन के घर घोड़ी पर सवार होकर पहुंचा और रस्में अदाकर विवाह स्थल पर लौट गया। इसके बाद दुल्हन बारात लेकर निकली। बारात सिकंदरिया ग्राउंड शब्बन चौराहा पहुंचीं। यहां विवाह समारोह हुआ।

 

हर लड़की घोड़े पर चढ़कर शादी करने जाए

मनाली ने कहा, "मैंने ये फैसला इसलिए लिया, जिससे लड़कियां और महिलाएं खुद को सुरक्षित समझें, मैं चाहती हूं कि हर महिला सशक्त, निडर बने और खुद को समाज में सुरक्षित महसूस करे। साथ ही अपनी शादी में घोड़े पर चढ़कर शादी करने जाए।" 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना