• Hindi News
  • Mp
  • Bhopal
  • World famous tourist destination Sanchi Stupa covered with fog, visibility reduced to 100 meters

मौसम / विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल सांची के स्तूप कोहरे से ढंके, विजिबिलिटी घटकर 100 मीटर हो गई

गुरुवार को सुबह 7 बजे विश्व प्रसिद्ध सांची स्तूप घने कोहरे में ढंक गए। विजिबिलिटी भी 50 मीटर रह गई। गुरुवार को सुबह 7 बजे विश्व प्रसिद्ध सांची स्तूप घने कोहरे में ढंक गए। विजिबिलिटी भी 50 मीटर रह गई।
मप्र के कई जिलों में बुधवार को रात से बारिश होने से मौसम का मिजाज एक बार फिर बदला है। इससे सुबह से ही घना कोहरा छाया हुआ है। मप्र के कई जिलों में बुधवार को रात से बारिश होने से मौसम का मिजाज एक बार फिर बदला है। इससे सुबह से ही घना कोहरा छाया हुआ है।
कोहरे के कारण दिल्ली से भोपाल आने वाली ट्रेनें और भोपाल से आने और जाने वाली फ्लाइट्स भी देरी से चल रही हैं। सांची में सुबह 8 बजे विजिबिलिटी 100 मीटर से कम दर्ज की गई। कोहरे के कारण दिल्ली से भोपाल आने वाली ट्रेनें और भोपाल से आने और जाने वाली फ्लाइट्स भी देरी से चल रही हैं। सांची में सुबह 8 बजे विजिबिलिटी 100 मीटर से कम दर्ज की गई।
विदिशा में सुबह 11 बजे विजिबिलिटी थोड़ा बढ़ी और 500 मीटर तक हो गई। सुबह लोगों का सामना घने कोहरे से हुआ। विदिशा में सुबह 11 बजे विजिबिलिटी थोड़ा बढ़ी और 500 मीटर तक हो गई। सुबह लोगों का सामना घने कोहरे से हुआ।
गुरुवार को करीब 6 से 7 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ठंडी हवाएं चलीं। इससे सांची आने वाले पर्यटकों की संख्या भी कम हुई है। गुरुवार को करीब 6 से 7 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ठंडी हवाएं चलीं। इससे सांची आने वाले पर्यटकों की संख्या भी कम हुई है।
विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल सांची में सुबह से कोहरा छाया रहा। सुबह पर्यटक आए तो सांची के स्तूप भी कोहरे से ढंके हुए थे। विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल सांची में सुबह से कोहरा छाया रहा। सुबह पर्यटक आए तो सांची के स्तूप भी कोहरे से ढंके हुए थे।
सीहोर कृषि कॉलेज के मौसम वैज्ञानिक एसएस तोमर ने बताया कि सुबह दृश्यता कम थी। सीहोर कृषि कॉलेज के मौसम वैज्ञानिक एसएस तोमर ने बताया कि सुबह दृश्यता कम थी।
बीती रात ढाई बजे से ही कोहरे की चादर तन गई थी और अलसुबह तो दृश्यता 100 मीटर रही। बीती रात ढाई बजे से ही कोहरे की चादर तन गई थी और अलसुबह तो दृश्यता 100 मीटर रही।
X
गुरुवार को सुबह 7 बजे विश्व प्रसिद्ध सांची स्तूप घने कोहरे में ढंक गए। विजिबिलिटी भी 50 मीटर रह गई।गुरुवार को सुबह 7 बजे विश्व प्रसिद्ध सांची स्तूप घने कोहरे में ढंक गए। विजिबिलिटी भी 50 मीटर रह गई।
मप्र के कई जिलों में बुधवार को रात से बारिश होने से मौसम का मिजाज एक बार फिर बदला है। इससे सुबह से ही घना कोहरा छाया हुआ है।मप्र के कई जिलों में बुधवार को रात से बारिश होने से मौसम का मिजाज एक बार फिर बदला है। इससे सुबह से ही घना कोहरा छाया हुआ है।
कोहरे के कारण दिल्ली से भोपाल आने वाली ट्रेनें और भोपाल से आने और जाने वाली फ्लाइट्स भी देरी से चल रही हैं। सांची में सुबह 8 बजे विजिबिलिटी 100 मीटर से कम दर्ज की गई।कोहरे के कारण दिल्ली से भोपाल आने वाली ट्रेनें और भोपाल से आने और जाने वाली फ्लाइट्स भी देरी से चल रही हैं। सांची में सुबह 8 बजे विजिबिलिटी 100 मीटर से कम दर्ज की गई।
विदिशा में सुबह 11 बजे विजिबिलिटी थोड़ा बढ़ी और 500 मीटर तक हो गई। सुबह लोगों का सामना घने कोहरे से हुआ।विदिशा में सुबह 11 बजे विजिबिलिटी थोड़ा बढ़ी और 500 मीटर तक हो गई। सुबह लोगों का सामना घने कोहरे से हुआ।
गुरुवार को करीब 6 से 7 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ठंडी हवाएं चलीं। इससे सांची आने वाले पर्यटकों की संख्या भी कम हुई है।गुरुवार को करीब 6 से 7 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ठंडी हवाएं चलीं। इससे सांची आने वाले पर्यटकों की संख्या भी कम हुई है।
विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल सांची में सुबह से कोहरा छाया रहा। सुबह पर्यटक आए तो सांची के स्तूप भी कोहरे से ढंके हुए थे।विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल सांची में सुबह से कोहरा छाया रहा। सुबह पर्यटक आए तो सांची के स्तूप भी कोहरे से ढंके हुए थे।
सीहोर कृषि कॉलेज के मौसम वैज्ञानिक एसएस तोमर ने बताया कि सुबह दृश्यता कम थी।सीहोर कृषि कॉलेज के मौसम वैज्ञानिक एसएस तोमर ने बताया कि सुबह दृश्यता कम थी।
बीती रात ढाई बजे से ही कोहरे की चादर तन गई थी और अलसुबह तो दृश्यता 100 मीटर रही।बीती रात ढाई बजे से ही कोहरे की चादर तन गई थी और अलसुबह तो दृश्यता 100 मीटर रही।

Dainik Bhaskar

Jan 16, 2020, 05:46 PM IST

विदिशा. मौसम का मिजाज एक बार फिर बुधवार सुबह बदल गया। सुबह घना कोहरा छाया रहा है। कोहरे के कारण दिल्ली से आने वाली ट्रेन भी देरी से आई। शहर में सुबह 8 बजे दृश्यता 100 मीटर से कम दर्ज की गई। सुबह 11 बजे विजिबिलिटी 500 मीटर तक रही। सुबह लोगों का सामना घने कोहरे से हुआ। बुधवार को करीब 6 से 7 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चली।


विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल सांची में कोहरा छाया रहा। सुबह पर्यटक आए तो सांची के स्तूप भी कोहरे से ढंके हुए थे। हालांकि सुबह 11 बजे के बाद कोहरा कम होता गया। सीहोर कृषि कॉलेज के मौसम वैज्ञानिक एसएस तोमर ने बताया कि सुबह दृश्यता कम थी। बीती रात ढाई बजे से ही कोहरे की चादर तन गई थी और अलसुबह तो दृश्यता 100 मीटर रही। बुधवार को रात को पारा 14.5 डिग्री दर्ज किया गया। इससे पहले मंगलवार को रात का पारा 8.5 डिग्री दर्ज हुआ था।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना