Hindi News »Madhya Pradesh »Bina» दलित वर्ग ने रैली निकालकर कहा- अधिनियम यथावत रखें

दलित वर्ग ने रैली निकालकर कहा- अधिनियम यथावत रखें

खुरई में एससी-एसटी वर्ग के लोगों ने रैली निकालकर प्रदर्शन किया। भास्कर संवाददाता | बीना सुप्रीम कोर्ट द्वारा...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 03, 2018, 03:20 AM IST

खुरई में एससी-एसटी वर्ग के लोगों ने रैली निकालकर प्रदर्शन किया।

भास्कर संवाददाता | बीना

सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी/एसटी अत्याचार निवारण अधिनियम की कुछ धाराओं में बदलाव किए जाने के विरोध में दलित वर्ग ने रैली निकाल कर प्रदर्शन कर तहसीलदार को ज्ञापन देकर पुर्नविचार कर अधिनियम को यथावत रखे जाने की मांग की है।

अजा/जजा संघों के सदस्य गांधी तिराहा पर एकत्र हुए और फिर वहां से पैदल रैली निकालते हुए कॉलेज तिराहा से अंबेडकर तिराहा पहुंचे। यहां राष्ट्रपति के नाम तहसीलदार को ज्ञापन दिया।

ज्ञापन में लिखा है सुप्रीम द्वारा एससी,एसटी एर्टोसिटी एक्ट 1989 की जो व्याख्या की गई है उससे समाज में सामाजिक सुरक्षा समाप्त हो चुकी है। दलित वर्ग असुरक्षित और भय का अनुभव कर रहा है। उक्त नियम में तत्काल गिरफ्तारी समाप्त किया जाना एवं जांच उपरांत केश रजिस्टर्ड करना ऐसा समाज पर सीधा अन्याय को बढ़ावा मिलेगा। मांग करते हैं कि इस प्रावधान को यथावत रखा जाए। इस दौरान दशरथ अहिरवार, मुकेश कैम्या, दयाराम, बल्लू मैना, जन्नूलाल राय, कमलेश, सुरेंद्र चौधरी, मूलचंद, दिनेश राज, विनोद पोरिया, देवेंद्र, विक्रांत गोलंदाज, पंचमलाल अहिरवार, राकेश, अशोक अहिरवार के अलावा कई लोग थे।

खुरई में दो दुकानों पर

झड़प

खुरई | बहुजन यूथ्स एंड स्टूडेंट फ्रंट के आव्हन पर एससी,एसटी समुदाय के लोगों ने जय भीम के नारे लगाते हुए जुलूस निकाला। नगर बंद कराने को लेकर छुटपुट घटनाएं हुईं, बंद शांतिपूर्ण रहा। पठार दो दुकानदारों से झड़प हुई उसके बाद हाईस्कूल के सामने कुल्फी के ठेले वाले का सामान बिखरा दिया। लेकिन पुलिस की सर्तकता एवं जुलूस के वालेंटियरों की सुरक्षा से कोई विवाद नहीं हुआ। जुलूस तहसील प्रांगण में पहुंचा जहां ज्ञापन राष्ट्रपति के नाम एसडीएम को दिया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bina

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×