• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Bina
  • शिक्षा विभाग का आदेश न मानने वाले निजी स्कूल बंद होंगे
--Advertisement--

शिक्षा विभाग का आदेश न मानने वाले निजी स्कूल बंद होंगे

Bina News - शिक्षा विभाग द्वारा बार-बार निर्देश के बावजूद निजी स्कूल संचालक नियम- कानून का पालन नहीं कर रहे हैं। ऐसे स्कूलों...

Dainik Bhaskar

Apr 06, 2018, 03:40 AM IST
शिक्षा विभाग का आदेश न मानने वाले निजी स्कूल बंद होंगे
शिक्षा विभाग द्वारा बार-बार निर्देश के बावजूद निजी स्कूल संचालक नियम- कानून का पालन नहीं कर रहे हैं। ऐसे स्कूलों पर कार्रवाई करने के लिए शिक्षा विभाग ने कमर कस ली है। बीईओ ने 8 दल बनाए हंै। इसमें दो-दो कर्मी शामिल है। जो रुपरेखा तहत अलग-अलग निजी स्कूल जाकर निरीक्षण कर 15 बिंदुओं के तहत जानकारी जुटाएंगे।

रिपोर्ट बनाकर शिक्षा विभाग में पेश करेंगे। रिपोर्ट का सत्यापन करने के बाद यदि नियमों का पालन नहीं मिला तो निजी स्कूल संचालक के खिलाफ उचित कार्रवाई प्रस्तावित की जाएगी। इसमें स्कूल बंद करने के साथ ही यदि धोखाधड़ी पाई जाती है तो एफआईआर की कार्रवाई भी हो सकती है। बीना शहर सहित विकसित ग्रामीण क्षेत्र में करीब 64 निजी स्कूल खुले हैं। इनमें 10 हजार से ज्यादा बालक-बालिकाएं पढ़ते हैं। ये स्कूल नर्सरी से 8 वीं तक एवं 9 वीं से 12 वीं कक्षा तक है। अभिभावकों द्वारा सीएम हेल्प लाइन, अफसरों से लगातार शिकायत की जा रही है कि स्कूल संचालक फीस, बिलंव फीस, ड्रेस, कापी-किताबों सहित बच्चों को अन्य सुविधाएं देने के नाम पर लूट रहे हैं।

स्कूल में सुविधाएं न के बराबर है। शिकायत मिलने पर शिक्षा विभागीय अधिकारी बार-बार निर्देश जारी कर रहा है और बैठक लेकर भी दिशा निर्देश देकर नियम-कानून का पालन करने कहा जाता है। संचालक बैठक में हामी भरते हैं लेकिन फिर बाद में वहीं लूट खसोट जारी कर दी जाती है। एक बीएसी ने बताया कि निजी स्कूल संचालकों की मनमानी शासन के नियमों पर भारी पड़ रही है। बार-बार सूचित, नोटिस देने के बाद भी आज तक पूरी जानकारी विभाग में उपलब्ध नहीं कराई गई है। इनकी मनमानी का खामियाजा कर्मियों को भुगतना पड़ रहा है। कई बार तो शासन से नोटिस भी मिल चुके हैं। जानकारी अनुसार निजी स्कूलों का निरीक्षण करने के लिए जो 8 दल बनाए गए हैं। उसमें एक बीएसी और एक सीएसी को शामिल किया गया है। जिसमें अखलेश शर्मा-राजेश शर्मा, संजय डबरया-आनंद कुमार दुबे, सरनाम सिंह मौर्य- प्रमोद कुमार अहिरवार, बेताल खन्ना- अजय सिंह सकवार, महेंद्र श्रीवास्तव- नीलिमा दूर्वार, मनीष कठरया- बृजेंद्र शर्मा, माधव सिंह राय- संतोष कुमार सोलंकी, रंजीत सिंह बेलदार- रविंद्र साहू शामिल है। ये कर्मी रुपरेखा तहत निजी स्कूल पहुंचकर जानकारी जुटाएंगे।

इन बिंदुओं के तहत करेंगे जांच

शाला में पीटीए गठित है कि नहीं। दाखिला खारिज पंजी, रजिस्टर की जांच, छात्र प्रवेश के समय जरुरी दस्तावेज, एक कक्षा में 30 से अधिक छात्र तो नहीं बैठे, बोर्ड, फर्नीचर, शौचालय, पेयजल, खेल मैदान, बिजली, वाहन की सुविधा। छात्रों से ली जाने वाली शिक्षण व प्रवेश फीस कितनी ली जा रही है और कैसे ली जा रही है। शुल्क में 10 प्रतिशत से ज्यादा वृद्धि तो नहीं की, बिलंव शुल्क फीस वृद्धि। फीस, किताबों आदि की जानकारी नोटिस बोर्ड पर चस्पा है कि नहीं। गणवेश, पुस्तके किन दुकानों पर उपलब्ध है। पिछले साल कब ड्रेस बदली गई थी समेत 15 बिंदुओं तहत जानकारी जुटाएंगे।

गोपनीय दल भी रखेगा नजर

इस दल पर नजर रखने के लिए एक गोपनीय दल भी बनाया गया है दरअसल सुनने में आता है कि कर्मी निरीक्षण करने निजी स्कूल तो गए थे, लेकिन सांठगांठ के चलते बहुत से नियमों को अनदेखा कर स्कूल संचालक के पक्ष में रिपोर्ट बना देते हैं। इस शिकायत को दूर करने के लिए गोपनीय दल भी बनाया गया जो निरीक्षण दल के साथ ही स्कूल पर नजर रखेगा। बीईओ ने बताया कि निजी स्कूल संचालकों की मनमानी पर रोक लगाने के लिए 8 दल बनाए गए हैं।

X
शिक्षा विभाग का आदेश न मानने वाले निजी स्कूल बंद होंगे
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..