बीना

  • Home
  • Madhya Pradesh News
  • Bina
  • आरपीएफ जवानों की वर्दी में कंधे पर बैज के पास लगेंगे स्माल कैमरे
--Advertisement--

आरपीएफ जवानों की वर्दी में कंधे पर बैज के पास लगेंगे स्माल कैमरे

ट्रांसपोर्ट रिपोर्टर | भोपाल रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स (आरपीएफ) के जवान आने वाले दिनों में यदि किसी यात्री के साथ...

Danik Bhaskar

Apr 09, 2018, 03:40 AM IST
ट्रांसपोर्ट रिपोर्टर | भोपाल

रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स (आरपीएफ) के जवान आने वाले दिनों में यदि किसी यात्री के साथ अभद्रता करेंगे, तो उनकी वर्दी ही इस हरकत को कैद कर लेगी। इसके बाद संबंधित आरपीएफ कंट्रोल रूम या थाने में उसकी रिकार्डिंग देखकर संबंधित जवान पर कार्रवाई की जा सकेगी। इस व्यवस्था के लिए ट्रेनों के स्क्वाड में शामिल किए जाने वाले जवानों की वर्दी में कंधे पर बैज के नजदीक स्माल कैमरे लगाए जाएंगे। हाई रेजोल्यूशन व एक बार में 15 घंटे तक की रिकार्डिंग करने की इन कैमरों की क्षमता होगी। इतना ही नहीं रिकॉर्डिंग के साथ संबंधित जवान कोई छेड़छाड़ भी नहीं कर सकेंगे। रिकॉर्डिंग को केवल आरपीएफ कंट्रोल या थाने के कंप्यूटर पर ही देखा जा सकेगा। पश्चिम-मध्य रेलवे के आरपीएफ डीआईजी विजय खातरकर का कहना है कि इसका मई से ट्रायल शुरू कर दिया जाएगा। जून से हमारे जोन में इसकी शुरुआत कर दी जाएगी। आरपीएफ जवानों की कार्यप्रणाली को बेहतर बनाने तथा उन पर नजर रखने के लिए रेलवे बोर्ड ने पहले चरण में ट्रेनों में स्क्वाडिंग करने वाली टीम के सदस्यों की वर्दी में कैमरे लगाने का निर्णय लिया है। इसकी मॉनिटरिंग कंट्रोल रूम के अलावा रेलवे कमांडेंट व संबंधित थाने के प्रभारी को करना होगी। कई बार आरपीएफ जवानों पर सीट दिलाने के नाम पर यात्रियों से अनावश्यक वसूली करने, अभद्रता या फिर उन्हें धमकाने जैसी शिकायतें यात्री करते रहते हैं। इसको देखते हुए यह व्यवस्था की जा रही है।

संदिग्धों और नियम तोड़ने वालों पर नजर रखना होगा आसान

रेल मंडल के भोपाल, हबीबगंज, इटारसी व बीना स्टेशनों से चलने वाली ट्रेनों में स्क्वाडिंग करने वाले आरपीएफ जवानों की वर्दी में ऐसे कैमरे लगाकर ट्रायल की शुरुआत अगले महीने की जाएगी। इनके लग जाने से ट्रेनों में सवार संदिग्धों के साथ ही रेलवे के नियम तोड़ने वालों की भी पहचान हो सकेगी। साथ ही आरपीएफ जवान द्वारा यात्रियों से सीट दिलाने के लिए रिश्वत मांगना, यदि कोई यात्री ट्रेन में सिगरेट-बीड़ी, शराब पीने जैसे कृत्य करता है या ट्रेन के गेट पर बैठकर यात्रा करता है तब भी उसकी गतिविधियों की रिकार्डिंग आरपीएफ के पास होगी।

Click to listen..