बीना

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Bina
  • विदाई गीतों के बीच उपहार देकर मंत्री और कलेक्टर ने उठाई बेटियों की डोली
--Advertisement--

विदाई गीतों के बीच उपहार देकर मंत्री और कलेक्टर ने उठाई बेटियों की डोली

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत हुए सामूहिक विवाह मंे खुरई में 311 ब्याह और 7 निकाह हुए। इसके अलावा खिमलासा में 41...

Dainik Bhaskar

Apr 19, 2018, 04:10 AM IST
विदाई गीतों के बीच उपहार देकर मंत्री और कलेक्टर ने उठाई बेटियों की डोली
मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत हुए सामूहिक विवाह मंे खुरई में 311 ब्याह और 7 निकाह हुए। इसके अलावा खिमलासा में 41 जोड़ों ने 7 फेरे लेकर जीवन भर का एक-दूजे का हाथ थामा।

खुरई में गृह एवं परिवहन मंत्री भूपेन्द्र सिंह की उपस्थिति में 311 विवाह और 7 निकाह हुए। मंत्री सिंह और कलेक्टर आलोक सिंह ने बेटियों की डोली को कांधा देकर विदाई की हर रस्म अदा की। मंत्री सिंह की धर्मप|ि सरोज सिंह ने हर जोड़ों को टिपारे देकर पांव पखरई की रस्म पूरी की।

इस अवसर मंत्री सिंह ने कहा- हम सब तो इस पुण्य काम के निमित मात्र हैं। इसका श्रेय तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को है। पहले ऐसी कोई योजना नहीं थी तब गरीब परिवार को बेटी का विवाह बड़ी समस्या हुआ करती थी। उन्होंने कहा कि यह मेरा सौभाग्य है कि इस पुनीत काम को करने का अवसर ईश्वर ने मुझे दिया है। उन्होंने कहा कि एक विवाह पर सरकार 28 हजार रुपए खर्च करती है इसके अलावा टिपारा, साड़ी, बिछड़ी आदि मेरी तरफ से प्रत्येक जोड़े को दी जाती है।

मंत्रोच्चार के बीच रस्में हुई पूरी : आॅडीटोरियम पंडाल में हजारों की भीड़ के बीच 311 जोड़ों के विवाह दो शिफ्ट में हुए। माइक पर पंडित ने मंत्रोच्चार किया वहीं मौलवी द्वारा निकाह की रस्में अदा की गई। विदाई के वक्त कहीं दूल्हा-दुल्हन को गोद में उठाकर परिजनों ने विदा किया तो कहीं लड़की को भाई ने गोद में उठाया।

सम्मेलन में विवाह करने वाली युवतियों की डोली उठाकर गृह मंत्री और कलेक्टर ने उन्हें विदाई दीद्ध

भास्कर संवाददाता | खुरई

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत हुए सामूहिक विवाह मंे खुरई में 311 ब्याह और 7 निकाह हुए। इसके अलावा खिमलासा में 41 जोड़ों ने 7 फेरे लेकर जीवन भर का एक-दूजे का हाथ थामा।

खुरई में गृह एवं परिवहन मंत्री भूपेन्द्र सिंह की उपस्थिति में 311 विवाह और 7 निकाह हुए। मंत्री सिंह और कलेक्टर आलोक सिंह ने बेटियों की डोली को कांधा देकर विदाई की हर रस्म अदा की। मंत्री सिंह की धर्मप|ि सरोज सिंह ने हर जोड़ों को टिपारे देकर पांव पखरई की रस्म पूरी की।

इस अवसर मंत्री सिंह ने कहा- हम सब तो इस पुण्य काम के निमित मात्र हैं। इसका श्रेय तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को है। पहले ऐसी कोई योजना नहीं थी तब गरीब परिवार को बेटी का विवाह बड़ी समस्या हुआ करती थी। उन्होंने कहा कि यह मेरा सौभाग्य है कि इस पुनीत काम को करने का अवसर ईश्वर ने मुझे दिया है। उन्होंने कहा कि एक विवाह पर सरकार 28 हजार रुपए खर्च करती है इसके अलावा टिपारा, साड़ी, बिछड़ी आदि मेरी तरफ से प्रत्येक जोड़े को दी जाती है।

मंत्रोच्चार के बीच रस्में हुई पूरी : आॅडीटोरियम पंडाल में हजारों की भीड़ के बीच 311 जोड़ों के विवाह दो शिफ्ट में हुए। माइक पर पंडित ने मंत्रोच्चार किया वहीं मौलवी द्वारा निकाह की रस्में अदा की गई। विदाई के वक्त कहीं दूल्हा-दुल्हन को गोद में उठाकर परिजनों ने विदा किया तो कहीं लड़की को भाई ने गोद में उठाया।

सबसे बड़ा बंधन : विधायक

बीना। खिमलासा पंचायत के दशहरा मैदान में 41 जोड़े विवाह बंधन में बंधे। विधायक महेश राय, विधानसभा प्रभारी शिवकुमार सिंह ठाकुर, कृषि मंडी सदस्य अमरप्रताप सिंह ठाकुर, पंचायत सरपंच राधारानी कन्हैया साहू, सचिव जगदीश साहू के साथ ही अन्य जनप्रतिनिधि, अधिकारी एवं गांव के लोग पहुंचे और नव दंपत्ति को आशीर्वाद देकर सुखी दाम्पत्य जीवन की शुभकामनाएं दी। मौके पर ही उपहार सामग्री भेंेट की गई। विधायक राय ने कहा विवाह जीवन का एक पवित्र बंधन है। पति-प|ी का संबंध दुुनिया का सबसे विश्वशनीय संबंध होता है।

X
विदाई गीतों के बीच उपहार देकर मंत्री और कलेक्टर ने उठाई बेटियों की डोली
Click to listen..