--Advertisement--

खारी विसर्जन करने गया युवक बेतवा में डूबा

बेतवा नदी में ग्रामीणों के साथ खारी विसर्जन के लिए गए एक युवक के नदी मंे डूबने का मामला सामने आया है। घटना मंगलवार...

Danik Bhaskar | May 09, 2018, 04:20 AM IST
बेतवा नदी में ग्रामीणों के साथ खारी विसर्जन के लिए गए एक युवक के नदी मंे डूबने का मामला सामने आया है। घटना मंगलवार की शाम करीब 5 बजे भानगढ़ थाना क्षेत्र के कंजिया गांव बेतवा नदी घाट की बताई गई है। सूचना पर पुलिस पहुंची और युवक को तलाशना शुरू किया ।

जानकारी अनुसार परसोरा गांव का जितेंद्र अहिरवार 25 साल गांव के कुछ लोगों के साथ बेतवा नदी में खारी विसर्जन करने के लिए कंजिया के पास बेतवा नदी घाट गया हुआ था। जो नदी में उतरकर खारी विसर्जन करने के दौरान डूब गया। सूचना पर पुलिस कर्मी पहुंचे और उसे तलाशने का प्रयास किया। वे रात 9 बजे तक तलाशते रहे लेकिन उसका कोई पता नहीं चल पाया था। लोगों ने बताया कि पुलिस बिना गोताखोरों के ही जितेंद्र को नदी मंे तलाश रही थी। इस पर उन्होंने गोताखोरों को बुलाने की मांग की है। एसआई नारायण सिंह ने बताया कि बेतवा नदी में एक युवक के डूबने की सूचना मिली थी। जिस पर कर्मी पहुंचे और तलाशना शुरू किया है। देर रात युवक का पता नहीं चल पाया है। डूबने वाला युवक कौन है इसके बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।

रहली में ट्रांसफॉर्मर जला; देवरी में मकान में लगी आग, सामान खाक

भास्कर संवाददाता | रहली

शहर और गांवों में आगजनी की तीन अलग अलग घटनाएं हुई। पहली घटना दोपहर में गांधी मूर्ति के पास हुई जहां अचानक बिजली के ट्रांसफार्मर में आग की लपटें उठने लगीं।

गनीमत रही कि स्थानीय लोगों ने जल्दी ही रेत बगैरह डालकर आग पर काबू पा लिया जिससे बड़ा गंभीर हादसा होते होते टला। दूसरी घटना सागर रोड पर कड़ता के जंगल में हुई जहां पेड़ ने आग पकड़ ली। जो जंगल में फैल गई। तीसरी घटना सागर रोड पर अरविंद साहू के खलिहान में हुई जहां रात करीब 1 बजे आग लगने से खलिहान और गृहस्थी का सामान जल गया। इसके अलावा देवरी के ग्राम टिकरिया में एक खेत में बने मकान में अचानक आग लग गई जिससे घर गिरस्ती एव किसानी का का सारा सामान जलकर खाक हो गया । जिसमें करीब 50000 का सामान जलकर नष्ट हो गया। ग्राम टिकारिया में प्रदीप पिता लक्ष्मण राजपूत के खेत में बने मकान मैं अचानक आग लग जाने से घर में रखा अनाज पाइप और बिजली की डोरी जलकर खाक हो गई मौके पर फायर ब्रिगेड ने पहुचकर आग पर काबू पाया ।

दो दिन बाद हुआ नेपाल के रहने वाले यात्री का पीएम

बीना | रविवार को जीटी एक्सप्रेस में यात्रा के दौरान नेपाल निवासी कमल बहादुर पिता रामबहादुर बीसट उम्र 42 वर्ष की अटैक से मौत हो गई थी। शव को दो दिन बर्फ की सिल्लियों पर रखा गया और मंगलवार को परिजनों के आने के बाद पीएम कराकर कटरा मंदिर मुक्ति धाम में अंतिम संस्कार किया। जीआरपी एसआई एचएस वर्मा ने बताया कि रविवार को कमल अपनी प|ि साधना, बेटा, भतीजा सहित जीटी एक्सप्रेस से नई दिल्ली का यात्रा कर रहे थे। जिन्हें दिल्ली से नेपाल जाना था। यात्रा के दौरान अटैक आ गया और उसकी मौत हो गई। प|ि एवं छोटे बच्चें साथ में होने के कारण उन्होंने पीएम करने से मना कर दिया और परिजनों को सूचना दी। इस दौरान शव को करीब 35 घंटे तक बर्फ की सिल्लियों पर रखा गया।

जीआरपी ने प|ि सहित बच्चों को रहने, खाने, पीने का इंतजाम किया जब मंगलवार को बैंगलोर एवं दिल्ली से परिजनों के आने के बाद शव का पीएम करवाया गया और कटरा मुक्ति धाम में अंतिम संस्कार किया गया।इस मामले में जीआरपी ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है।