बीना

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Bina
  • टीम को स्कूल उपस्थिति पंजी में स्टॉफ के नहीं मिले हस्ताक्षर, मौके पर पंचनामा बनाया गया
--Advertisement--

टीम को स्कूल उपस्थिति पंजी में स्टॉफ के नहीं मिले हस्ताक्षर, मौके पर पंचनामा बनाया गया

एक्सीलेंस स्कूल में शुक्रवार को लगे परिवेदना शिविर में स्कूल क्रमांक 2 की प्रभारी प्राचार्य अरुणा दुबे के...

Dainik Bhaskar

May 20, 2018, 04:35 AM IST
एक्सीलेंस स्कूल में शुक्रवार को लगे परिवेदना शिविर में स्कूल क्रमांक 2 की प्रभारी प्राचार्य अरुणा दुबे के गैरहाजिर मिलने पर डीईओ संतोष शर्मा ने उन्हें प्राचार्य प्रभारी के पद से प्रभार मुक्त करते हुए उनका कार्यालय सील करवाया था। उक्त मामले की जांच करने के लिए शनिवार को बीईओ दिनेश यादव, बीआरसी पीएस राय, बीएसी राजेश शर्मा, राजेंद्र गोस्वामी, एसएस शुक्ला दाेपहर 12 बजे स्कूल पहुंचे और सील कार्यालय खोलकर प्रभारी प्राचार्य अरूणा दुबे की मौजूदगी में उपस्थिति पंजीयन रजिस्टर आदि की जांच पड़ताल की। मौके पर पंचनामा बनाया भी बनाया है।

बीईओ यादव ने बताया कि परिवेदना शिविर में शासकीय स्कूल क्रमांक 2 संकुल प्रभारी प्राचार्य श्रीमती दुबे अनुपस्थित रहने के कारण शिकायतों के निराकरण में असुविधा होने पर डीईओ शर्मा ने मोबाइल से जानकारी ली थी। पता चला कि वे बगैर सूचना के मुख्यालय से बाहर गईं हुई हैं। डीईओ के आदेशानुसार उसी दिन की शाम को स्कूल कार्यालय को सील कर शनिवार को टीम ने वास्तविक स्थिति की जांच पड़ताल की है।

उन्होंने बताया कि जांच में उपस्थिति पंजीयन रजिस्टर में पाया कि प्रभारी प्राचार्य दुबे 14 मई से 18 मई तक विभाग को बगैर किसी सूचना दिए मुख्यालय से बाहर हैं। हस्ताक्षर काॅलम भी खाली रखा गया है। आदेश पंजी पर शिक्षिका कामना सिंह को प्रभार दिया जाना पाया गया है, लेकिन आदेश में दिनांक का उल्लेख नहीं किया गया।



शिक्षिका कामना सिंह 18 मई तक उपस्थित रहीं और शनिवार को अनुपस्थित रहीं। बीईओ यादव ने बताया कि जांच में पाया कि स्कूल प्रभारी प्राचार्य श्रीमती दुबे का अवकाश का आवेदन शनिवार को टेबल के कांच में लगा प्राप्त हुआ है। किसी भी शिक्षक का उपस्थिति पंजी में काॅलम खाली होना संशय है।

सस्पेंड नहीं, बल्कि प्रभारी के पद से प्रभार मुक्त किया: बतादे कि शासकीय उच्चतर माध्यमिक स्कूल क्रमांक 2 प्रभारी प्राचार्य अरूणा दुबे एवं भानगढ़ हाई स्कूल प्रभारी प्राचार्य एके परिहार को डीईओ ने सस्पेंड नहीं किया था। बल्कि उन्हें उनके स्कूल एवं संकुल प्राचार्य पद के प्रभार से प्रभार मुक्त कर अन्य शिक्षकों को जिम्मेदारी सौंपी थी।

X
Click to listen..