Hindi News »Madhya Pradesh »Bina» भानगढ़ थाना क्षेत्र के बिलखना गंव का मामला : तांत्रिक विधा के वशीभूत होकर खुद को आग लगाने का दिया बयान

भानगढ़ थाना क्षेत्र के बिलखना गंव का मामला : तांत्रिक विधा के वशीभूत होकर खुद को आग लगाने का दिया बयान

एक परिवार में बहन की शादी की तैयारी चल रही थी। महिलाएं शादी की रस्म-मेहर का पानी भरने जा ही रही थी कि तभी पता चला कि...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 04, 2018, 05:40 AM IST

भानगढ़ थाना क्षेत्र के बिलखना गंव का मामला : तांत्रिक विधा के वशीभूत होकर खुद को आग लगाने का दिया बयान
एक परिवार में बहन की शादी की तैयारी चल रही थी। महिलाएं शादी की रस्म-मेहर का पानी भरने जा ही रही थी कि तभी पता चला कि दुल्हन के बड़े पापा के लड़के (भाई) ने अपने घर में ही केरोसिन डाल कर आग लगी ली हैं। आग में झुलसने से उसकी हालत गंभीर हो गई है। कच्चा मकान सहित सामान जल कर राख हो गया है।

ये मामला शहर से करीब 15 किमी दूर भानगढ़ पुलिस थाना क्षेत्र के बिलाखना गांव का है। जहां 30 वर्षीय सुरेंद्र पिता रामदयाल अहिरवार ने कच्चे मकान के अंदर सुबह साड़े 9 से 10 बजे के बीच खुद पर केरोसिन डालकर आग लगा ली। उसे आग में जलता देख पड़ोसी सहित रिश्तेदार दौड़ कर आए और आग को बुझाकर तुरंत डायल 100 को सूचना दी। डायल 100 के पहुंचते ही वे उसमंे रखकर सिविल अस्पताल लेकर आए। ड्यूटीरत डां. वीरेंद्र ठाकुर ने प्राथमिक इलाज कर उसे सागर रैफर कर दिया। डां. ठाकुर ने बताया कि वह करीब 99 प्रतिशत तक झुलस चुका हैं। जिससे उसकी हालत गंभीर लग रही है। गंभीर हालत देखकर उसे सागर रैफर किया था, लेकिन परिजन रैफर करवाकर भोपाल ले गए हैं। शासकीय अस्पताल में पीड़ित से आग लगाने का कारण पूछा तो वह तांत्रिक विद्या के वशीभूत होकर आत्महत्या करने का कारण बता रहा था। उसने गांव के लोगों के द्वारा ही तांत्रिक विद्या करने के आरोप लगाए हैं। दादी श्याम बाई ने बताया कि गुरूवार को बिलाखना के नई बस्ती में उसके मझले बेटे धन्नालाल की बेटी मनीषा का विवाह था। शाम को लायरा से बारात आना थी। सुबह करीब साढ़े 9 बजे के पहले रिश्तेदारों के साथ तैयार होकर विवाह घर जा रहे थे, कि वहां पहुंचने से ही पहले रास्ते में खबर मिली कि घर में आग लगी है। जाकर देखा तो गांव के लोग आग बुझा रहे थे। आग बुझने के बाद अंदर से नाती सुरेंद्र को जली हुई अवस्था में बाहर निकाला।

बहन की शादी की रस्मों के बीच चचेरे भाई ने खुद को लगाई आग, भर्ती

मरघट ले जाकर पिलाया था नारियल का पानी

अस्पताल में सुरेंद्र ने बताया कि पड़ोस में रहने वाले एक व्यक्ति एवं उसके साढ़ू ने उसके ऊपर जादू टोना किया है। ये दोनों उसे श्मशान घाट ले गए और वहां उन्होंने नारियल फोड़कर उसका पानी पिलाया, राख खिलाई, उसके बाद उसको अंदर से आवाज आई की मर जाओ। आज ही मर जाओ। मैंने मरने के लिए खुद पर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा ली। ग्रामीणों ने बताया कि यह करीब एक साल से श्मशान घाट में आता जाता रहता था। कभी-कभी रात में भी चला जाता था। बड़े पिता संग्राम सिंह ने बताया कि सुरेंद्र की एक 6 साल की बेटी एवं एक 6 साल का बेटा था। बेटे की करीब एक साल पहले बीमारी के कारण मौत हो गई थी तभी से वह गुमशुम रहता था। घर में ही रहता था अौर बहुत कम बाहर निकलता था। बेटे की मौत के बाद वह मानसिक रुप से परेशान रहने लगा था।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bina

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×