--Advertisement--

सड़क निर्माण में भीलट मंदिर को ना पहुंचाएं नुकसान

सड़क किनारे स्थित मंदिर व लगाए पौधे। दूसरी ओर खाली पड़ी जमीन। भास्कर संवाददाता | भग्यापुर सेंधवा से बिस्टान तक 75...

Danik Bhaskar | Jan 06, 2018, 02:15 AM IST
सड़क किनारे स्थित मंदिर व लगाए पौधे। दूसरी ओर खाली पड़ी जमीन।

भास्कर संवाददाता | भग्यापुर

सेंधवा से बिस्टान तक 75 किमी सीमेंट की सड़क का काम जारी है। इसको लेकर सड़क के किनारे खुदाई की जा रही है। कई जगह मंदिर व भवनों को तोड़ा जा रहा है। गांव के पास सड़क किनारे स्थित भीलट मंदिर को सड़क निर्माण में नुकसान नहीं पहुंचाने को लेकर ग्रामीणों ने अधिकारियों को आवेदन सौंपे।

सरपंच रविंद्र सोलंकी व दिनेश मालवीया ने बताया मंदिर 50 साल पुराना है। 10 साल पहले मंदिर की देखरेख कर रहे शंकर मालवीया व पंचायत के सहयोग से यहां करीब 150 पौधे लगाए थे। सिंचाई के लिए हैंडपंप भी खुदवाया। गंदगी के स्थान पर अब हरियाली लहलहा रही है। वर्षभर यहां धार्मिक व सामाजिक कार्यक्रम होते रहते हैं। लेकिन अब सड़क निर्माण कंपनी द्वारा मंदिर की बाउंड्रीवॉल व पौधों को नुकसान पहुंचाने की आशंका है। इसको लेकर भगवानपुरा तहसीलदार प्रकाश परिहार, एसडीएम राजेंद्रसिंह, कलेक्टर अशोक वर्मा सहित पीडब्ल्यूडी व एमपीआरडीसी इंदौर के नाम आवेदन दिए। ग्रामीणों ने कहा मंदिर को नुकसान ना पहुंचाते हुए सामने की सरकारी जमीन पर सड़क का निर्माण किया जाना चाहिए। पंकज मालवीया, राधेश्याम मालवीया व गिरधारी टेमरे ने कहा मंदिर को नुकसान पहुंचता है इससे लोगों की आस्था आहत होगी। इस मामले में खुदाई कर रही जेएचई इंडिया लिमिटेड मुंबई के प्रोजेक्ट मैनेजर नागेश राव ने कहा अधिकारियों के निर्देश के अनुसार काम किया जाएगा।

नहीं होने देंगे नुकसान