--Advertisement--

इंदौर हादसे के 3 दिन बाद स्कूल बस व ऑटो जब्त

सरकारी आदेश पर कलेक्टर ने मीटिंग ली, यातायात पुलिस की कार्रवाई भास्कर संवाददाता | खरगोन इंदौर स्कूल बस हादसे...

Danik Bhaskar | Jan 09, 2018, 02:20 AM IST
सरकारी आदेश पर कलेक्टर ने मीटिंग ली, यातायात पुलिस की कार्रवाई

भास्कर संवाददाता | खरगोन

इंदौर स्कूल बस हादसे और सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन करने में भी अफसर कोताही बरत रहे हैं। घटना और आदेश के कई दिनों बाद अफसर जागे। अब कलेक्टर से लेकर यातायात पुलिस कार्रवाई की तैयारियां कर रही है। सोमवार को कलेक्टर ने बैठक लेकर कार्रवाई के साथ ही दो दिन में वाहनों की रिपोर्ट मांगी है। उधर, यातायात पुलिस ने तीन स्कूली बस और एक ऑटो पर कार्रवाई की है।

यातायात प्रभारी र|ाकर हिंगवे ने दोपहर 1.45 बजे बिस्टान रोड पर कार्रवाई की। इसमें ओवरलोड बस (एमपी 10पी-0196) को रोका। बस 28+2 का परमिट था लेकिन इसमें 35 बच्चे सवार थे। बस जब्त की गई। इसी दौरान वाहन (एमपी 10 पी-0188) और (एमपी10 पी-0752) की चेकिंग की। इसमें बस में स्पीड गवर्नर, सीसीटीवी कैमरे नहीं थे। टीआई ने दोनों वाहनों का 2 हजार रुपए का जुर्माना कर समझाइश दी। डायवर्शन रोड स्थिति सर्किट हाउस के सामने 3+1 पासिंग ऑटो (एमपी10 आर-0583) में 10 बच्चे बैठे थे। टीआई ने ऑटो जब्त किया है।

एसपी से कहा- महिलाओं व बच्चों की सुरक्षा हो

कलेक्टर ने एसपी डी कल्याण चक्रवर्ती से कहा कि महिलाओं व बच्चों की सुरक्षा हर हाल में की जाए। बच्चों और महिलाओं के मामलों में सावधानियां बरतकर कार्रवाई करें। शिक्षा विभाग और जनजातीय कार्य विभाग से कहा स्कूलों व छात्रावासों में पढ़ने वाले बच्चों के लिए संवेदनशीलता से काम करना है। स्कूल स्तर पर योजना बनाकर व्हाट्सएप ग्रुप बनाएं। इसमें संबंधित थाना प्रभारी और एसपी भी रहेंगे। ग्रुप में स्कूलों और छात्रावासों के बच्चे अपनी शिकायतें भी दर्ज करा सकेंगे।

कलेक्टर : रोज कार्रवाई हो, 2 दिन में दें जानकारी

इंदौर हादसे के बाद व परिवहन विभाग के अफसरों के आदेश पर प्रशासन स्कूल बसों पर कार्रवाई की तैयारी कर रहा है। सोमवार को कलेक्टर अशोक वर्मा ने यातायात विभाग और पुलिस अफसरों के साथ बैठक लेकर कार्रवाई को कहा है। उन्होंने कहा जिले में स्कूल बसों की नियमित जांच, बसों की स्थिति, कितनी और कौन से मॉडल की बसें हैं। चेकिंग की क्या स्थिति है। एआरटीओ एचएल सिमरिया को दो दिन में जिले में पंजीकृत बस व यहां से गुजरने वाली सभी बसों का डाटा देने को कहा है।