--Advertisement--

तीन संगठनों की हड़ताल से व्यवस्था गड़बड़ाई

खरगोन |जिले में तीन विभागों के कर्मचारियों की हड़ताल से आमजन परेशान होने लगे हैं। लोगांे को सरकारी सुविधाएं नहीं...

Dainik Bhaskar

Jun 06, 2018, 02:15 AM IST
तीन संगठनों की हड़ताल से व्यवस्था गड़बड़ाई
खरगोन |जिले में तीन विभागों के कर्मचारियों की हड़ताल से आमजन परेशान होने लगे हैं। लोगांे को सरकारी सुविधाएं नहीं मिल पा रही है। वनकर्मियों की हड़ताल से जंगलों से सागौन के पेड़ों को काटा जा रहा है। जिले में रोजगार सहायक 22 दिन तो वनकर्मी 13 दिनों से हड़ताल पर है। जबकि ग्रामीण विस्तार अधिकारियों की हड़ताल से किसानों को न तो बीज मिल पा रहा है, न ही बोवनी को लेकर उचित सलाह। अपनी मांगों को लेकर तीनों संगठन अड़े हैं।

9 दिनों से हड़ताल- बीज मिला न सलाह

जिले में 28 मई से ग्रामसेवक हड़ताल पर चले गए हैं। 135 अधिकारियों की हड़ताल से ग्रामीण की कृषि व्यवस्था ठप हो गई है। सर्वेयर के समान वेतन और पदोन्नति की मांग को लेकर चल रही हड़ताल से ग्रामीणों को बीज और खेती की सलाह नहीं मिल पा रही है। जिलाध्यक्ष संतोष पाटीदार ने बताया हमने नारेबाजी कर सरकार का विरोध किया।

सोमवार को सागौन के 200 पेड़ कटे

19 सूत्रीय मांगों को लेकर हड़ताल शुरू हुई। जंगल की सुरक्षा व्यवस्था चौपट हो गई है। काबरी, तितरानिया, सिरवले और बिस्टान में एक सप्ताह पूर्व सागौन के पेड़ काट थे। सोमवार फिर से अंधड़ के पास लंगड़ी बैड़ी के जंगल में 200 सागौन के पेड़ काट डाले। खंडवा के तस्कर यहां आ रहे हैं। जिलाध्यक्ष ओंकारसिंह डावर ने बताया विरोध में काली पट्‌टी बांधी।

22 दिनों से हड़ताल

रोजगार सहायक नियमितिकरण की मांग कर रहे हैं। इससे मनरेगा के जल संरक्षण, तालाब गहरी करण, खेत तालाब के काम बंद हैं। ग्रामीणों के पीएम आवास योजना की किस्त नहीं निकल रही है। विभिन्न पेंशन योजनाएं ठप है। संघ के जिला अध्यक्ष विजय सिंह चौहान ने बताया मंगलवार से क्रमिक भूख हड़ताल शुरू कर दी।

X
तीन संगठनों की हड़ताल से व्यवस्था गड़बड़ाई
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..