--Advertisement--

रैली निकाल मेधावी विद्यार्थियों का करेंगे सम्मान

आदिवासी भिलाला समाज की बैठक रविवार दोपहर गायत्री मंदिर परिसर में हुई। पदाधिकारियों व समाजजनों ने 9 अगस्त को...

Danik Bhaskar | Jul 09, 2018, 02:25 AM IST
आदिवासी भिलाला समाज की बैठक रविवार दोपहर गायत्री मंदिर परिसर में हुई। पदाधिकारियों व समाजजनों ने 9 अगस्त को आदिवासी दिवस मनाने का निर्णय लिया। महासचिव पूनमसिंह नार्वे ने बताया समाज के सभी वर्ग के लोग कार्यक्रम में भाग लेकर अपना हुनर दिखाएंगे।

सचिव गुलाबसिंह चौहान ने बताया गायत्री मंदिर से रैली निकाली जाएगी। उपमंडी अनकवाड़ी में परंपरागत सांस्कृतिक प्रस्तुतियां होगी। अध्यक्ष विश्राम डूडवे ने कहा कार्यक्रम में कक्षा 10 व 12 में उत्तीर्ण मेधावी विद्यार्थियों को प्रशंसा पत्र व शील्ड से सम्मानित किया जाएगा। कुरीतियां बंद करने वाले समाजजनों का भी सम्मान करेंगे। डूडवे ने निराशा जाहिर की कि समाज के कई शासकीय कर्मचारी आमंत्रण के बाद भी बैठकों में शामिल नहीं होते। उन्हें बैठक में आकर अपने विचार व महत्वपूर्ण सुझाव देना चाहिए। डॉ. छगन चौहान व अनारसिंह मंडलोई ने कहा कार्यक्रम की तैयारियों को लेकर 22 जुलाई को गायत्री मंदिर परिसर में फिर बैठक होगी। इसमें विभिन्न समितियों को जवाबदारी सौंपी जाएगी। समाज के मालसिंह लटटू, गणपतसिंह वास्कले, प्रह्लादसिंह वास्कले, कमलसिंह वास्कले, जमुनासिंह सोलंकी, चंदरसिंह वास्कले, प्रेमसिंह सिसौदिया, गंगाराम मुजाल्दे, बलवंतसिंह डावर, राजेश मंडलोई, विक्रम डावर, मोहन जमरे, शिवराम मेहता आदि मौजूद थे।

बच्चों को छात्रावास-आश्रम में मिले प्रवेश

समाज के बनसिंह सिसौदिया, तेनसिंह मेहता, नाथू बर्डे, परसराम कनासे, जालम जाधव, गोपाल बर्डे ने कहा आर्थिक रूप से कमजोर आदिवासी बच्चे आश्रम, शाला व छात्रावास में कक्षा 1 से 5 तक अध्ययनरत थे। अब शासन के आदेश के तहत यह सुविधा छीन ली गई है। इसका विरोध करना चाहिए। अन्य सदस्यों ने भी सहमति जताते हुए कहा शासन को समाज के बच्चों को आश्रम-छात्रावासों में पुनः प्रवेश देकर पूर्ववत व्यवस्था बनाना चाहिए।

पदाधिकारियों व समाजजनों ने 9 अगस्त को आदिवासी दिवस मनाने का निर्णय लिया

. आदिवासी दिवस की तैयारियों पर चर्चा की।