Hindi News »Madhya Pradesh »Bistan» एक सप्ताह से 300 घरों में नहीं बंटा पेयजल, ग्रामीण हो रहे परेशान

एक सप्ताह से 300 घरों में नहीं बंटा पेयजल, ग्रामीण हो रहे परेशान

एक सप्ताह से पेयजल को लेकर परेशान ग्रामीणों को बुधवार को भी राहत नहीं मिली। जनपद पंचायत से ट्यूबवेल की 800 फीट केबल...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 26, 2018, 02:35 AM IST

एक सप्ताह से पेयजल को लेकर परेशान ग्रामीणों को बुधवार को भी राहत नहीं मिली। जनपद पंचायत से ट्यूबवेल की 800 फीट केबल की स्वीकृति नहीं मिलने से 300 से ज्यादा घरों में पानी नहीं बंट सका। मारुति, परसाई, जायसवाल मोहल्ले, बाजार चौक, टांटिया अवार, भगवानपुरा मार्ग व साईं कॉलोनी के लोग परेशान होते रहे। दोपहर में सीईओ को अवगत कराने के बाद स्वीकृति दी गई। सचिव ने कहा गुरुवार से समस्या नहीं आएगी। उपयंत्री अनिल गुप्ता व सचिव कांतिलाल जायसवाल ने पंचायत के 5 हार्सपॉवर व 12.5 हार्सपॉवर के पंप और 800 फीट केबल का प्राक्कलन तकनीकी स्वीकृति के लिए मंगलवार को जनपद पंचायत गोगावां भेजा था। सहायक यंत्री बीएल जमरा टालमटोल करते रहे। मंगलवार देर शाम तक स्वीकृति नहीं दी। इसके चलते पंचायतकर्मी बुधवार सुबह भी केबल नहीं डाल सके। भीषण गर्मी में लोग फिर 500 मीटर दूर से पानी लाने को मजबूर हुए। रहवासी लता गुप्ता, सरिता जायसवाल, कल्पना दीक्षित, डॉ. शिशिर शर्मा, जयंतीलाल जायसवाल आदि ने पंचायत पदाधिकारियों को कोसा तो उन्होंने सहायक यंत्री की हठधर्मिता से लोगों को अवगत कराया।

सीईओ को समस्या बताने पर मिली स्वीकृति

बुधवार दोपहर उपयंत्री गुप्ता व सचिव जायसवाल ने गोगावां पहुंचकर जपं सीईओ कविता आर्य को समस्या बताई। उन्होंने सहायक यंत्री को तकनीकी स्वीकृति के लिए कहा। शाम को स्वीकृति मिलने के बाद सचिव ने गुरुवार सुबह केबल डालकर पेयजल सप्लाय का भरोसा दिलाया।



लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के उपयंत्री ने प्राक्कलन तैयार किया था। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी व ग्रामीण यांत्रिकी विभाग की दरें अलग-अलग होती है। दरें ज्यादा होने से तकनीकी स्वीकृति नहीं दी थी। हठधर्मिता के आरोप मनगढ़ंत है। - बीएल जमरा, सहायक यंत्री, जपं गोगावां

अनकवाड़ी में भी तीन दिन से पेयजल संकट

अनकवाड़ी। निजी ट्यूबवेल से पानी लेने कतार लग रही है।

अनकवाड़ी/बिस्टान| नल-जल योजना के ट्यूबवेल की मोटर जलने से 3 दिन से अनकवाड़ी में पेयजल प्रदाय नहीं हो पा रहा है। अप्रैल की तपती गर्मी में ग्रामीण काकड़ स्थित हनुमान मंदिर परिसर में लगे निजी ट्यूबवेल से पानी लाने को मजबूर है। ठेला, बैलगाड़ी व अन्य साधन से पानी की पूर्ति की जा रही है। ग्रामीणों ने कहा लग्नसरा का समय होने से परेशानी बढ़ गई है। पंचायत ध्यान नहीं दे रही है। सरपंच नाथू वास्कले ने बताया अधिक तापमान व लोड बढ़ने से मोटर जल गई है। रिपेयर होते ही पेयजल प्रदाय शुरू किया जाएगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bistan

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×