--Advertisement--

नोटिस थमाने के बाद भी शहरी पेयजल योजना पर केवल 70 फीसदी काम

साढ़े 9 करोड़ रुपए की योजना पर इस साल जनवरी में पूरा करना था काम भास्कर संवाददाता|ब्यावरा हजारों लोगों की...

Dainik Bhaskar

May 15, 2018, 02:10 AM IST
साढ़े 9 करोड़ रुपए की योजना पर इस साल जनवरी में पूरा करना था काम

भास्कर संवाददाता|ब्यावरा

हजारों लोगों की पेयजल सुविधा के लिए शासन स्तर पर मंजूर हुई साढ़े 9 करोड़ रुपए की मुख्यमंत्री शहरी पेयजल योजना का काम डेड लाइन निकलने के बाद भी पूरा नहीं हो सका। निर्माण एजेंसी को पिछले साल जनवरी में काम सौंपा था। इसे इस जनवरी 2018 में पूरा करना था। लेकिन बीते एक साल बाद मेंं निकाय क्षेत्र में अब तक केवल 70 फीसदी काम हो पाया है। नपा के नोटिस थमाने के बाद भी निर्माण एजेंसी काम पूरा नहीं कर सकी। ऐसे में हजारों लोगों को समय पर इस योजना की सुविधा नहीं मिल पा रही है। नलों से तीसरे दिन पानी मिल रहा है। करोड़ों रुपए की शहरी पेयजल योजना के काम में हुई लेटलतीफी से शहर के हजारों लोगों को नलों से समय पर पानी नहीं मिल पा रहा है। तीसरे दिन नलों से पानी मिलने पर लोगों की जलापूर्ति नहीं हो पाती। रोज की जलापूर्ति के लिए लोग कुएं,बोरिंग सहित अन्य जल स्रोतों पर निर्भर रहने को मजबूर रहते हैं। कुएं बोरिंग से पानी ढोते समय महिलाओं के साथ बड़ी उम्र के लोगों को भी परेशानियां होती हैं।

शहरी पेयजल योजना में यह होना है काम

करोड़ों रुपए की योजना से शहर का वाटर डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम ठीक करना है। इसमें जरूरत के हिसाब से नई 4,6,8 इंच के अलावा बड़ी 10 व 12 इंच पेयजल पाइप लाइन शहरी क्षेत्र के प्रत्येक कोने में डलना है। शहर के प्रत्येक कोने को मिलाकर अलग अलग इंच की 86 किमी लंबाई तक पाइप लाइन डलना है। इसी के साथ कुशलपुरा डेम का अतिरिक्त पानी स्टोरेज के लिए 10 लाख लीटर पेयजल क्षमता की टंकी निर्माण के साथ 7 हजार 500 से अधिक कनेक्शन के लिए भी काम करना है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..