--Advertisement--

नहीं बनी 3 साल से मंजूर पानी की टंकी, जलसंकट

Dainik Bhaskar

Apr 26, 2018, 02:35 AM IST

Biyawara News - शहर में तीन साल पहले शुरू हुई पेयजल संवर्धन योजना के तहत मंजूर दस लाख लीटर पानी की टंकी का काम एक साल से ज्यादा समय...

नहीं बनी 3 साल से मंजूर पानी की टंकी, जलसंकट
शहर में तीन साल पहले शुरू हुई पेयजल संवर्धन योजना के तहत मंजूर दस लाख लीटर पानी की टंकी का काम एक साल से ज्यादा समय से पेंडिंग हैं। इसे अब तक पूरा नहीं किया गया। इससे इस साल की गर्मियों में भी शहर के 70 हजार नागरिकों को पेयजल की किल्लत बनी रहेगी।

गौरतलब है कि कुशलपुरा डेम पर बनी जल आवर्धन योजना के तहत नपा ने डेम से पानी लाने की व्यवस्था तो कर ली थी। लेकिन प्रोजेक्ट में खामी के चलते स्टोरेज की व्यवस्था नहीं की थी। इस कारण शहर में डेम से आने वाले पानी के संग्रहण के लिए पर्याप्त टंकी न होने से तीसरे दिन पानी सप्लाई किया जाता है। यानि नौ करोड़ से ज्यादा खर्च के बावजूद नपा तीन सालों पहले शुरू हुई जल आवर्धन योजना के बावजूद शहर के लोगों को रोजाना पेयजल उपलब्ध नहीं करा पा रही। जबकि डेम में शहर में सालभर के लिए जरूरी पेयजल संग्रहित है।

तीन साल पहले स्वीकृत हुई थी 88 लाख की टंकी : योजना शुरू होने के बाद ही स्टोरेज के प्रावधान में कमी की बात सामने आ गई थी। इसके चलते सरकार ने शहर में पेयजल संग्रहण के लिए गुलाब शाह की बावड़ी के पास 3 साल पहले 88 लाख रुपए से 10 लाख लीटर पेयजल क्षमता की टंकी को मंजूर दी थी।

गौरतलब है कि कुशलपुरा डेम से आने वाला 40 लाख लीटर पानी ही स्टोरेज हो पाता है, जबकि शहर में रोजाना 50 लाख लीटर पानी की जरूरत होती है।

अब तक पूरी नहीं हुई टंकी

लेकिन नपा अधिकारियों की उदासीनता व ठेकेदार की लेटलतीफी के चलते गुलाब शाह की बावड़ी में बनने वाली टंकी का काम अब तक पूरा नहीं हो पाया है। नपा स्टाफ के मुताबिक इसे पूरा होने में अभी काफी समय लगेगा। ऐसे में पर्याप्त पानी स्टोरेज की समस्या इस बार की गर्मियों में भी हल नहीं होगी। जिससे शहर के 70 हजार से ज्यादा लोगों को परेशानी होगी।


X
नहीं बनी 3 साल से मंजूर पानी की टंकी, जलसंकट
Astrology

Recommended

Click to listen..