बुरहानपुर

--Advertisement--

रॉड से सिर पर पांच वार, अधमरा समझ गला घोंटा

भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर/नेपानगर नेपानगर के सात नंबर गेट में दिनदहाड़े हुई लूट व हत्या के मामले में दूसरे दिन...

Danik Bhaskar

Mar 02, 2018, 02:25 AM IST
भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर/नेपानगर

नेपानगर के सात नंबर गेट में दिनदहाड़े हुई लूट व हत्या के मामले में दूसरे दिन योगिता साहू की शार्ट पीएम रिपोर्ट में सिर पर चोट लगने से मौत हाेना बताया है। योगिता के सिर पर लोहे की रॉड से पांच वार किए। इसके बाद आरोपी ने कपड़े का फंदा बनाकर गला घोंटा ताकि वह किसी भी तरह से बच न पाए। पुलिस विभिन्न बिंदुओं पर जांच कर रही है। योगिता की हत्या के बाद उनकी बहू दीपिका से रात ढाई बजे तक पुलिस ने पूछताछ की। इस दौरान उसकी मेडिकल जांच भी कराई।

दीपिका ने पुलिस को बताया कि सोफा कवर बेचने वाले दो बदमाशों ने सास योगिता के सिर पर लोहे की रॉड मारने के बाद उसके भी सिर पर राॅड मारी थी। मेडिकल जांच में रॉड की चोट नहीं आई है। इसलिए उसका एक्स-रे जांच कराई है। इसकी रिपोर्ट अब तक नहीं आई है। घटनास्थल के आसपास मिले साक्ष्यों व दीपिका के बयानों में अंतर के चलते स्थिति उत्पन्न होने से विरोधाभास की स्थित बन रही है। हत्याकांड की जांच के लिए पुलिस ने तीन टीमें गठित की है। टीम ने नगर के प्रमुख स्थानों पर लगे सीसीटीवी फुटेज व साहू के घर के आसपास के कचरे के ढेर में भी साक्ष्य तलाशने की कोशिश की।

मोबाइल और फिंगर प्रिंट पर पुलिस जांच

पुलिस टीम योगिता की बहू दीपिका व बेटी साधना की मोबाइल कॉल डिटेल की जांच कर रही है। दीपिका के पास दो मोबाइल है यह बात कम लोगों को पता है, जो कि पुलिस ने जब्त कर लिए हैं। गुप्त मोबाइल की कॉल डिटेल व फिंगर प्रिंट जांच से खुलासा होने की उम्मीद जताई जा रही है।

दरवाजे पर खून से सने उंगलियों के निशान किसके

साहू के घर के मुख्य दरवाजे पर अंदर की ओर खून से सनी उंगलियों के निशान मिले हैं। आरोपी हत्या के बाद बाहर भागा है तो फिर अंदर लगे निशान किसके है। जबकि यह निशान बाहर की ओर होना थे। मौका-ए-वारदात कई सवाल खड़े कर रहे हैं।

बगैर सामान बिखेेरे ले गए सोना और रुपए

योगिता के परिजन अनुसार बेटी साधना की शादी 12 फरवरी को हुई। उसके दहेज में दिया गया 13 तोला सोना घर पर ही रखा हुआ था। योगिता का 8 तोला व बहू दीपिका का 3 तोला सोना घर पर ही रखा हुआ था। बदमाश मारपीट के दौरान 24 तोला सोना ले भागे व नकद दो लाख रुपए भी ले उड़े, जो कि घर के कमरों में अलग-अलग जगहों में रखा हुआ था। पुलिस टीम भी आश्चर्य कर ही है कि आरोपियों ने बगैर सामान बिखेरे सोना और नकदी कैसे निकाल लिए। एसडीओपी करणसिंह रावत, टीआई बीएस रावत, एसआई प्रीतिसिंह गुरुवार को जांच में जुटे हुए थे। पुलिस प्रत्येक बिंदुओं की बारीकी से जांच कर रही है। फोन कॉल डिटेल व घटनास्थल से मिले साक्ष्यों की जांच रिपोर्ट के बाद दो-तीन रोज में खुलासा होने की संभावना बताई जा रही है।

Click to listen..