--Advertisement--

दोपहर में बेटियों से कहा- हम उधर वाले घर जा रहे हैं, शाम को कमरे में मिला दंपती का शव

Dainik Bhaskar

May 11, 2018, 03:52 AM IST

Burhanpur News - भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर शिकारपुरा थाना क्षेत्र के सिलमपुरा में गुरुवार शाम पति-प|ी के शव मिले। कमरे से जहर...

तीनों बेटियों के साथ दिलीप और तीनों बेटियों के साथ दिलीप और

बुरहानपुर (एमपी)। जिले के शिकारपुरा थाना क्षेत्र में 09 मई को पति-पत्नी के शव मिले। कमरे से जहर की बोतल भी पुलिस ने बरामद की है। मामला आत्महत्या का बताया जा रहा है। पुलिस ने कमरा सील कर दिया है। गुरुवार दोपहर दिलीप और ज्योति ने अपनी तीनों बेटियों को नाना के घर पर छोड़कर कहा कि हम उधर वाले घर जा रहे हैं। तुम यहीं पर रहो। इसके बाद तीनों बेटियां खेल में लग गई।

- दोपहर से शाम हो गई दिलीप और ज्योति वापस नहीं आए तो बेटियों ने अपने मामा गोलू से कहा- मम्मी-पापा कहां गए हैं, वह अभी तक नहीं आए।

- दो लड़के दिलीप और ज्योति को उनके घर देखने गए। इस दौरान दोनों के मुंह से फेस आ रहे थे। लोगों ने दोनों को एक अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया।

- सीएसपी सुनील पाटीदार ने कहा, आत्महत्या का कारण पता नहीं चला है। सभी ने यह कहा कि दोनों को किसी बात का टेंशन नहीं था। तीनों बेटियों के साथ कपल हंसी-खुशी रहता था।


शादी को 12 साल हो गए, कभी नहीं हुआ विवाद

- दिलीप और पत्नी ज्योति तीन बेटियों खुशी (10), तनु (9), ऋषिका (8) के साथ रहता था। पत्नी घर पर ही कपड़ों में प्रेस का काम करती थी। दिलीप एक दुकान पर लिखा-पढ़ी का काम करता था। दोनों ससुराल के पास ही एक मकान में रहते थे। इनकी शादी को 12 साल हो गए लेकिन कभी विवाद नहीं हुआ।


10 मई को परिवार सहित जाने वाले थे गोआ
- फेसबुक पर ज्यादातर समय ऑनलाइन रहने वाले दिलीप को घूमने का बहुत शौक था। वह परिवार और दोस्तों के साथ शुक्रवार को गोआ जाने वाला था।


मम्मी-पापा नहीं दिखे तो बेचैन हुई बेटियां
- खुशी, तनु व ऋषिका तीनों बेटियां मम्मी-पापा के बगैर एक पल नहीं रहती है। दोपहर में अचानक ही दोनों एक साथ बच्चों को कहकर गए कि उधर वाले घर से आते हैं।

- बेटियों ने शाम को अपने नाना अौर मामा से कहा कि मम्मी-पापा उधर वाले घर का कहकर गए हैं लेकिन अब तक नहीं आए।

- घटना के बाद भी नाना ने बेटियों को नहीं बताया कि अब उनके मम्मी-पापा कभी नहीं आएंगे। मोहल्ले वालों ने कहा- बेटियां होने के बाद भी कभी चेहरे पर शिकन नहीं लाई।

- दिलीप को अपनी बेटियों पर गर्व महसूस होता था। वह खुद स्कूल बस तक छोड़ने जाते थे। दिलीप की शादी 26 मार्च 2006 को हुई थी।

X
तीनों बेटियों के साथ दिलीप और तीनों बेटियों के साथ दिलीप और
Astrology

Recommended

Click to listen..