बुरहानपुर

--Advertisement--

जिले में केला उत्पादक: 20 हजार

नुकसानी: 28 गांव के 2500 किसान प्रभावित एक कारण यह भी

Dainik Bhaskar

Jun 10, 2018, 02:15 AM IST
जिले में केला उत्पादक: 20 हजार
नुकसानी: 28 गांव के 2500 किसान प्रभावित

एक कारण यह भी


केला फसल को नुकसान | 1 से 6 जून के बीच आई थी आपदा, सर्वे के लिए खेतों में घूम रहे अफसर

वैरायटी बदलने से 9 के बजाय 40 किलो तक के हो गए पौधे, एक के साथ चार गिरे इसलिए बड़ा नुकसान

सदाकत पठान/राजेंद्र चौकसे | बुरहानपुर

जिले में 1 से 6 जून के बीच चली तेज हवा-आंधी से कई गांवों में केले की फसल को भारी नुकसान हुआ है। किसान नुकसानी से सदमे में है तो अफसर खेत-खेत जाकर नुकसानी का आकलन कर रहे हैं। अफसरों का कहना है 10 साल में अब तक का सबसे बड़ा नुकसान इस साल हुआ है। इसका कारण बीज कंपनियों की मनमानी व वैरायटियों में परिवर्तन को माना जा रहा है। कंपनियों की बात में आकर किसान ऐसे बीज लगा रहे हैं, जिनमें प्राकृतिक अापदा से लड़ने की क्षमता नहीं है। ये पौधे हवा-आंधी में औंधे मुहं गिर जाते हैं। यही वजह है बीते साल 52 करोड़ रुपए नुकसान हुआ था, जबकि इस साल आंकड़ा और अधिक हो सकता है।

शाहपुर, फोफनार, इच्छापुर, खकनार, नेपानगर, महाराष्ट्र के अंतुर्ली, रावेर, सावदा सहित लगभग 60 किमी के सर्कल में भी केले की उन्नत खेती 18 हजार हेक्टेयर क्षेत्र होती है। उद्यानिकी विभाग के अफसरों के अनुसार नुकसान का मुख्य कारण टेक्नोलॉजी है, क्योंकि पहले पौधे 8 से 9 किग्रा होता था लेकिन अब 35 से 40 किग्रा हो गया जिससे पौधा हेल्दी और वजनदार हो गया है। हवा-आंधी में एक पौधा चार को लेकर गिरता है। जिससे नुकसान का आंकड़ा बढ़ जाता है। जिले के 50 प्रतिशत से ज्यादा किसान ग्रेनाइन का माल इस्तेमाल कर रहे हैं। बताया जाता है अभी जो पौधे रोपे जा रहे है उनमें मजबूती नहीं है। पहले श्रीमंती, वसाई, महालक्ष्मी, अर्द्धपुरी, अंबियामोर, बसराई सहित अन्य वैरायटियां चलती थी। इनमें प्रोडक्टशन कम होता लेकिन मजबूती ज्यादा होती थी। टिश्यु कल्चर में प्रोडक्शन ज्यादा होता लेकिन पौधा नरम होता है जो कि टूटता भी गिरता भी है।

क्षेत्र : 15,000 हेक्टेयर में लगाई थी केला फसल

ये देखिए...तेज हवा-आंधी से खेतों में केले की फसल आड़ी हो गई है

बुरहानपुर जिले के शाहपुर सहित आसपास के क्षेत्रों में केले की फसल को भारी नुकसान हुआ है।

ऐसे समझें: इस बदलाव के कारण हो रहा नुकसान

केले की वैरायटी श्रीमंती, अर्दपुरी, अंिबयामोर, वसाई, ऊंची श्रीमती वह देशी बीज हैं िजससे केला 12-15 महीने में तैयार होकर कटता है। इसे लगाने का समय मई, जून और जुलाई है, लेिकन इसके स्थान पर िकसान कंपनियों के बहकावे में आकर िटश्यू कल्चर के बीज अपना रहे हैं। इसकी समय सीमा कम है यह बीज भी मई, जून और जुलाई में लगता है। इसकी खासियत यह है िक यह वैरायटी जल्द आ जाती है, जो जीनाईन ग्रेनाइल वैरायटी के बनते है। 12 माह में ही फसल कटकर नपती हो जाती है परंतु इससे िकसानों को नुकसान है। ग्रेनाइट वैरायटी के पौधों का वजन ज्यादा होता है। जिसके कारण यह थोड़ी सी आंधी, तूफान में ही आैंधे हो जाते हैं। ग्रेनाइल वेरायटी से फसल उत्पादन तो ठीक रहता है, लेिकन यह प्राकृितक आपदा में िटक नहीं पाते।

2613.. हेक्टेयर में फसल आड़ी हुई

यह जानना इसलिए जरूरी है क्योंकि बुरहानपुर जिले की अर्थव्यवस्था का सबसे बड़ा हिस्सा केले के करोड़ों रुपए के कारोबार पर निर्भर करता है

ये देखिए एेसे भी ठगा जाता है किसान


जानिए...कैसे किसान का पैसा फसल पर होता है खर्च

1 पौधे पर लगभग 75 रु. खर्च, हम्माली-बैंक ब्याज अलग से

प्रति हेक्टेयर में चार से साढ़े चार हजार केले के पौधे लगते हैं। प्रति पौधे पर लगभग 80 से 90 रुपए खर्च आता है। 15 रुपए का पौधा, 10 रु. गोबर खाद, 10 से 15 रु. फर्टिलाइजर, 10 रु. कल्टीवेशन, 10 रु. निंदाई गुड़ाई, 10 रु. एरिगेशन मेंटेनेंस, 10 रु. लगवाई-रोपना, मिट्टी चढ़ाना, 5 से 10 रु. लुंगर बाहर निकालना, हम्माली व बैंक ब्याज आदि खर्च अलग से है। इसमें जमीन का लागत मूल्य शामिल नहीं है। जिले में लगभग 17 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में केले की 80 प्रतिशत से अधिक फसल ड्रिप सिंचाई पद्धति से ली जाती है। पौधों से पौधों की दूरी 5 बाय 5 या 5.50 बाय छह रहती है।


ये हैं िनर्देश



(शुक्रवार को प्रभावित किसानों से चर्चा के बाद इंदौर कमिश्नर राघवेंद्रसिंह ने उक्त निर्देश दिए।)

विदेश में भी जाता है यहां का केला



200 किसानों के केस बने, सर्वे जारी है


6 से 12 माह का वाले पौधों को ज्यादा नुकसान


एक सलाह यह भी...

एक सलाह यह भी...



10 साल में पहली बार इतना बड़ा नुकसान


22हजार केली में से 10 हजार गिर गई


X
जिले में केला उत्पादक: 20 हजार
Click to listen..