• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Burhanpur
  • वनाधिकार कानून पढ़ाकर बोले बेदखलों को दोबारा बसाओ, कलेक्टर ने 15 दिन तक का समय मांगा
--Advertisement--

वनाधिकार कानून पढ़ाकर बोले बेदखलों को दोबारा बसाओ, कलेक्टर ने 15 दिन तक का समय मांगा

Dainik Bhaskar

Jun 09, 2018, 02:30 AM IST

Burhanpur News - जागृत आदिवासी-दलित संगठन के प्रतिनिधि मंडल से मिलने कलेक्टोरेट पहुंचा जिला प्रशासन भास्कर संवाददाता |...

वनाधिकार कानून पढ़ाकर बोले बेदखलों को दोबारा बसाओ, कलेक्टर ने 15 दिन तक का समय मांगा
जागृत आदिवासी-दलित संगठन के प्रतिनिधि मंडल से मिलने कलेक्टोरेट पहुंचा जिला प्रशासन

भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

आदिवासियों के पट्‌टों के लिए पहली बार जागृत आदिवासी-दलित संगठन जिला प्रशासन के सामने बैठा। दल प्रमुख ने वनाधिकार कानून की किताब पढ़ाकर बेदखलों और अपात्र बताए पात्रों को दोबारा बसाने के लिए पट्‌टों की मांग की। कलेक्टर ने उनके सर्वे के लिए 15 दिन का समय मांगा। उन्होंने कहा हम सर्वे करेंगे और पात्रों को लाभ दिलाकर रहेंगे।

जागृत आदिवासी-दलित संगठन पहली बार बुरहानपुर में आदिवासियों के लिए आगे आया। जिनके लिए 5 जून को संगठन प्रमुख माधुरी दवे के साथ कलेक्टोरेट पहुंचे थे। व्यस्तता के कारण कलेक्टर डॉ. सतेंद्रसिंह ने उन्हें शुक्रवार को बुलाया। निर्धारित तारीख के अनुसार सुबह 9 बजे से सभी कलेक्टोरेट पहुंच गए। आधे घंटे बाद कलेक्टर खेतों के सर्वे करने जाते-जाते उनसे मिले और दोपहर 12 बजे तक लौटकर मीटिंग करने का वादा किया। 12.30 बजे डीएफओ, एसी ट्रायबल, एसडीएम पहुंचे। कुछ देर बाद कलेक्टर भी समस्या जानने पहुंचे। संगठन प्रमुख माधुरी दवे ने 2005-06 के बाद पात्र आदिवासियों को वन विभाग के गुंडे अफसर-कर्मियों ने बेदखल कर दिया। जबकि वन अधिकार अधिनियम की धारा 3 ए (ड) देख लो। किसी को आप वन विभाग बेदखल कर ही नहीं सकता। लेकिन यहां वन विभाग ने उनके घर जलाए, मारपीट की और गोलियां चलाकर भगाया है। कई अफसर-कर्मियों ने किराना दुकान या ऑफिस में बैठकर कागजों में अपात्र घोषित कर दिए। जिसका दोबारा सर्वे और सत्यापन होना चाहिए।

सत्यापन टीम बनाओ, उनकी निगरानी भी करेंगे

कलेक्टर ने कहा अभी आंधी-बारिश से बहुत नुकसान हुआ है। सर्वे और मुआवजा आंवटन में समय लगेगा। इस बीच हम सत्यापन नहीं कर पाएंगे। खकनार के 1481 और बुरहानपुर के 1451 हितग्राही है। जिनका सत्यापन किया जाना है। 15 जून तक हम कुछ नहीं कर पाएंगे। 16 जून से हम सत्यापन की प्रक्रिया कर पाएंगे। उन्होंने एसडीएम, ट्रायबल अफसर को टीम बनाने को कहा। जिनकी निगरानी के लिए विभाग प्रमुख का दल बनाने के निर्देश दिए।

X
वनाधिकार कानून पढ़ाकर बोले बेदखलों को दोबारा बसाओ, कलेक्टर ने 15 दिन तक का समय मांगा
Astrology

Recommended

Click to listen..