Hindi News »Madhya Pradesh »Burhanpur» चाचा-भतीजे व 5 वकील 45 दिन बाद भी पुलिस गिरफ्त से बाहर

चाचा-भतीजे व 5 वकील 45 दिन बाद भी पुलिस गिरफ्त से बाहर

भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर शहर में 20 अप्रैल को जुमा की नमाज के बाद कठुआ रेपकांड के विरोध में निकाली गई रैली के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 05, 2018, 02:35 AM IST

भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

शहर में 20 अप्रैल को जुमा की नमाज के बाद कठुआ रेपकांड के विरोध में निकाली गई रैली के दौरान तोड़फोड़, मारपीट कर उपद्रव फैलाने वाले 50 आरोपी खंडवा जेल में बंद हैं। इनकी जमानत स्थानीय कोर्ट के बाद हाईकोर्ट से भी खारिज कर दी गई है। चूंकि मामले के मुख्य आरोपी व कांग्रेस नेता सुरेंद्रसिंह ठाकुर, हर्षित ठाकुर (चाचा-भतीजा) व अधिवक्ता जहीरउद्दीन शेख, देवानंद तायड़े, हफीजउद्दीन, नूरउद्दीन, साेहेल हाशमी प्रकरण दर्ज होने के बाद से फरार है। अलग-अलग धाराओं में 9 चालान में 50 से ज्यादा आरोपी शामिल हैं।

फरार आरोपियों पर कोर्ट ने धारा 82 के तहत कार्रवाई कर फरार घोषित कर दिया है जिसके बाद पुलिस ने आरोपियों पर 1-1 हजार रुपए का इनाम की घोषणा की है। गिरफ्तारी के लिए इंदौर, भोपाल व महाराष्ट्र के कई शहरों में दबिश दी गई। आरोपियों के जहां भी रिश्तेदार है वहां जाकर पूछताछ की गई। कानून की प्रक्रिया के मुताबिक 60 दिन के भीतर कोर्ट में चालान पेश करना अनिवार्य होता है। मामले को 45 दिन बीत गए हैं और मुख्य आरोपी अब भी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। इस कारण जेल में बंद आरोपियों की सुनवाई प्रारंभ हो सके इसलिए चालान का पेश किया जाना जरूरी हो गया है।

घर से महुआ शराब बेचते पकड़ाई महिला, जेल भेजा

फरार आरोपियों के कारण नहीं मिल रही जमानत, फरारी में चालान पेश करने की तैयारी

भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

शहर में 20 अप्रैल को जुमा की नमाज के बाद कठुआ रेपकांड के विरोध में निकाली गई रैली के दौरान तोड़फोड़, मारपीट कर उपद्रव फैलाने वाले 50 आरोपी खंडवा जेल में बंद हैं। इनकी जमानत स्थानीय कोर्ट के बाद हाईकोर्ट से भी खारिज कर दी गई है। चूंकि मामले के मुख्य आरोपी व कांग्रेस नेता सुरेंद्रसिंह ठाकुर, हर्षित ठाकुर (चाचा-भतीजा) व अधिवक्ता जहीरउद्दीन शेख, देवानंद तायड़े, हफीजउद्दीन, नूरउद्दीन, साेहेल हाशमी प्रकरण दर्ज होने के बाद से फरार है। अलग-अलग धाराओं में 9 चालान में 50 से ज्यादा आरोपी शामिल हैं।

फरार आरोपियों पर कोर्ट ने धारा 82 के तहत कार्रवाई कर फरार घोषित कर दिया है जिसके बाद पुलिस ने आरोपियों पर 1-1 हजार रुपए का इनाम की घोषणा की है। गिरफ्तारी के लिए इंदौर, भोपाल व महाराष्ट्र के कई शहरों में दबिश दी गई। आरोपियों के जहां भी रिश्तेदार है वहां जाकर पूछताछ की गई। कानून की प्रक्रिया के मुताबिक 60 दिन के भीतर कोर्ट में चालान पेश करना अनिवार्य होता है। मामले को 45 दिन बीत गए हैं और मुख्य आरोपी अब भी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। इस कारण जेल में बंद आरोपियों की सुनवाई प्रारंभ हो सके इसलिए चालान का पेश किया जाना जरूरी हो गया है।

नेपानगर | एमजी नगर में घर से अवैध महुआ शराब बेचते हुए महिला को नेपा पुलिस ने पकड़ा है। महिला के कब्जे से करीब 56 लीटर शराब जब्त की गई है। यह शराब 2800 रुपए की बताई जा रही है। सोमवार को महिला को न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया गया है। टीआई भरतसिंह रावत ने बताया मुखबिर से सूचना मिली थी कि एमजी नगर में रंगलीबाई पति प्यारसिंह घर से अवैध शराब बेच रही है। सूचना पर पुलिस ने रविवार शाम घेराबंदी की। दबिश देकर 56 लीटर शराब जब्त की। कार्रवाई मंे एएसआई मंजूला महाजन व अन्य जवान शामिल थे। महिला के खिलाफ अबकारी एक्ट की धारा 34/2 के तहत मामला कायम किया गया है।

जेल में बंद आरोपियों को मिल सकती है जमानत

कोतवाली पुलिस ने नौ चालान पेश करने के लिए 7 व 14 जून तय की है। प्रथम न्यायिक मजिस्ट्रेट रवि नायक व अनिल चौहान की कोर्ट में चालान पेश होंगे। चालान पेश होने के बाद जेल में बंद आरोपियों की जमानत मिलने की संभावना है। अब तक आरोपियों की जमानत खारिज करने के पीछे अनुसंधान पूरा नहीं होना व चालान का प्रस्तुत नहीं होना मुख्य वजह थी।

कड़ी सुरक्षा के बीच पेश होगा चालान

16 जून को ईद है आरोपियों को जेल में बंद होने को डेढ़ माह बीत गया ऐसे में सभी जमानत की आस लगाकर बैठे हैं। बुधवार को कोर्ट पेशी के दौरान कोर्ट में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम किए हैं। पुलिस को चालान पेश करने के लिए 60 दिन का समय था लेकिन दोनों पक्षों की ओर से पुलिस पर राजनीतिक दबाव भी बनाया जा रहा है।

चालान पेश होने से फरार आरोपियों की उम्मीदें बढ़ेगी

चालान पेश होने पर फरार आरोपी अपने आप को कोर्ट के सामने सरेंडर करते हैं तो संभावना है कि उनकी जमानत आवेदन पर मजिस्ट्रेट द्वारा विचार किया जा सकता है, क्योंकि उनके खिलाफ जिन धाराओं में केस दर्ज हुआ है वह प्रथम न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा सुनवाई योग्य है। कोर्ट चाहे तो उनके जमानत आवेदन पर विचार कर सकता है।

इधर... वकील और एक अन्य पर धार्मिक भावना भड़काने का मामला दर्ज

समाज विशेष और धार्मिक भावना भड़काने कर मामले में पुलिस ने वकील और एक अन्य पर केस दर्ज किया। जानकारी अनुसार लालबाग क्षेत्र के वकील चाल में प्रीतम नारायण ने माली समाज पर टिप्पणी की समाजजन की शिकायत पर आरोपी के विरुद्ध 188 के तहत केस दर्ज किया। दूसरे मामले में गणपति नाका पुलिस ने अधिवक्ता पर धारा 295 ए (धार्मिक भावना भड़काना) के तहत मामला दर्ज कर तलाश शुरू की है। आरोपी वकील का पुलिस को मोबाइल नम्बर मिला है। सोशल मीडिया पर टिप्पणी के बाद आरोपी वकील का नाम सामने आया है। फिलहाल पुलिस द्वारा मामले की जांच कर रही है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Burhanpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×