Hindi News »Madhya Pradesh »Burhanpur» सिटी बस चलाने के लिए ठेकेदार ने नहीं बनाई कंपनी, िनगम से अनुबंध करने से इंकार

सिटी बस चलाने के लिए ठेकेदार ने नहीं बनाई कंपनी, िनगम से अनुबंध करने से इंकार

शहर में सिटी बस का संचालन कंपनी की शर्तों में अटक गया है। निविदा सफल होने पर निगम ने कार्य आदेश भी दे दिया, लेकिन...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 08, 2018, 03:20 AM IST

शहर में सिटी बस का संचालन कंपनी की शर्तों में अटक गया है। निविदा सफल होने पर निगम ने कार्य आदेश भी दे दिया, लेकिन ठेकेदार ने बस संचालन के लिए कंपनी नहीं बनाई। सख्ती दिखाते हुए निगम ने अंतिम नोटिस दिया तो ठेकेदार की अमृत जेट लाइन ने अनुबंध से इंकार कर दिया। अब ठेकेदार की अमानत राशि निगम राजसात करेगा और फिर से निविदा जारी करेगा। इसके चलते फिलहाल सिटी बस संचालन शुरू नहीं हो पाएगा।

सिटी बस चलाने के लिए निगम दो साल से प्रयास कर रहा है। इसके लिए राज्य स्तर पर टेंडर किए। प्रथम क्लस्टर के लिए ठेकेदार कंपनी अमृत जेट लाइन के टेंडर स्वीकृत हुए। सरकार से 40 प्रतिशत सब्सिडी मिलने के बावजूद कंपनी बनाने की शर्तं और उसके नियमों का पालन ठेकेदार के लिए मुसीबत बन गई। ठेकेदार कंपनी बनाने के लिए तैयार नहीं है। शहर में तीन क्लस्टर में सिटी बस का संचालन प्रस्तावित है। पहले क्लस्टर के लिए अमृत जेट लाइन ने निविदा भरी थी। 2.72 करोड़ की लागत से 12 सिटी बसें चलाई जाना थी। इसके लिए एमआईसी में प्राप्त दरों पर अधिकतम देय राशि 1 करोड़ 6 लाख 8 हजार रुपए की स्वीकृति की अनुशंसा कर सरकार को प्रस्ताव भेजा था। क्लस्टर दो और तीन के लिए निविदा स्वीकृत नहीं हो पाई। इसके लिए फिर से टेंडर हो चुके हैं।

यह है शर्तों की जटिलता

बस संचालन के लिए ठेकेदार को कंपनी बनाना जरुरी है।

ड्राइवर, कंडक्टर और अन्य कर्मचारियों को कंपनी एक्ट के अनुसार वेतन और सुविधाएं देना हाेंगी।

डीजल के भाव बढ़ने पर किराया वृद्धि टैरिफ के अनुसार 10 प्रतिशत होगी। इससे डीजल महंगा होने के बावजूद कम दूरी वाले स्थान के किराए पर असर नहीं होगा।

लाइन की बस में खराबी होने पर नहीं चलने की स्थिति में निगम आयुक्त बस कंपनी पर दंड भी लगा सकेंगे।

मांगा जवाब : चीफ आपरेटिंग आॅफिसर को मिला नोटिस

चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर श्याम श्रीवास्तव को नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग ने नोटिस दिया है। इसमें बुरहानपुर के साथ खंडवा का अतिरिक्त प्रभार होने की बात कही। साथ ही बुरहानपुर में निविदाकार द्वारा बस संचालन में असमर्थता जताने पर कारण पूछा है। निविदाकार को शर्तें व अन्य जानकारी समय पर नहीं बताने पर जवाब मांगा है। तीन दिन में स्पष्टीकरण नहीं दिया जाता है तो सेवा समाप्ति की बात नोटिस में कही है।

प्रथम क्लस्टर में इन मार्गों पर चलाना थी सिटी बसें

बोरगांव खुर्द से रेलवे स्टेशन तक दो इंट्रासिटी बस।

खंडवा से इंदौर तक 4 स्टेंडर्ड बस।

चीरा खदान से नागचून रोड पर दो इंट्रा सिटी बस।

खंडवा से ओंकारेश्वर 4 मिडी बस।

शर्तें जटिल हैं, इसलिए नहीं करेंगे अनुबंध

कंपनी की शर्तें जटिल हैं। इसलिए मेरे साथ ही रितेश गोयल ने कलेक्टर को भी अपनी समस्या बता दी। हम अनुबंध नहीं करेंगे। शर्तों में संशोधन होने पर ही सिटी बस चला सकेंगे। सब्सिडी इतनी राशि अन्य कामों में खर्च हो जाएगी। -इंद्रजीत राजपाल, अमृत जेट लाइन

राजसात करेंगे तीन लाख की अमानत राशि

बस संचालन शासन के निर्देश और टेंडर की शर्तों के अनुसार ही होगा। ठेकेदार ने अनुबंध करने से मना कर दिया है। उसकी अमानत राशि करीब 3 लाख रुपए राजसात करेंगे। इसके बाद फिर से टेंडर करेंगे। -जेजे जोशी, आयुक्त, नगर निगम

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Burhanpur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: सिटी बस चलाने के लिए ठेकेदार ने नहीं बनाई कंपनी, िनगम से अनुबंध करने से इंकार
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Burhanpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×