• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Burhanpur News
  • कलेक्टोरेट, जिला अस्पताल और कोर्ट में जरूरी काम 25 घंटे से रहे ठप
--Advertisement--

कलेक्टोरेट, जिला अस्पताल और कोर्ट में जरूरी काम 25 घंटे से रहे ठप

भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर तेज आंधी, बारिश से गिरे पेड़ से टूटे तार, टेढ़े हुए पाेल और फीडर क्षतिग्रस्त होने के...

Danik Bhaskar | Jun 08, 2018, 03:20 AM IST
भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

तेज आंधी, बारिश से गिरे पेड़ से टूटे तार, टेढ़े हुए पाेल और फीडर क्षतिग्रस्त होने के बाद से दूसरे दिन तक मोहम्मदपुरा क्षेत्र सरकारी और निजी ऑफिसों में जरुरी काम रुक गए। जिला अस्पताल में 25 घंटे तक उपचार और विभिन्न जांच के लिए आए मरीजों की जांच नहीं हो पाई। वहीं न्यायालय में भी कम्प्यूटर बंद होने से सीआईएस नंबर नहीं निकलने से चालान पेश नहीं हो पाए। कलेक्टाेरेट, पंजीयक, नाप-तोल, लोक सेवा केंद्र, ट्रायबल, उद्योग विभाग, जिला पंचायत कार्यालयों में बिजली गुल होने से दिनभर के विभागीय जरुरी काम ठप हो गए।

जिला अस्पताल: उमस से बेचैन हुए बच्चे, बुजुर्ग, महिलाएं -बुधवार देर शाम को बिजली गुल होने के बाद जिला अस्पताल में तीनों जनरेटर शुरू किए गए। जिसमें लगभग 200 लीटर डीजल रातभर में जल गया। ऐसे में सुबह से जनरेटर नहीं चल पाया। जचकी, एसएनसीयू का जनरेटर चला। बाकी मेडिकल, सर्जिकल, चाइल्ड, मेटरनिटी, टीबी सहित अन्य वार्डों में अंधेरा रहा। सबसे ज्यादा बच्चे और बुजुर्ग परेशान रहे। अटेंडर घरों से हाथ पंखे लाए। बुजुर्ग उमस से बेचैन हुए। काउंटर पर पर्ची भी कर्मचारियों ने हाथ से बनाकर दी। भीड़ ज्यादा होने से पर्ची बनाने में देरी हो गई। इधर दोपहर 1 बजते ही डॉक्टर चेंबर बंद कर चले गए। जिसके बाद आए मरीजों को जांच के लिए परेशान होना पड़ा। शाम 5 बजे के बाद आए मरीज भी परेशान हुए। आक्रोश बढ़ने पर सिविल सर्जन डॉ. शकील अहमद ने बताया बुधवार शाम से क्षेत्र की बिजली गुल है।

जिला न्यायालय: आरोपियों के चालान पेश नहीं हो पाए-कठुआ कांड के विरोध में 20 अप्रैल को तोड़फोड़, मारपीट करने वाले जेल में बंद 50 आरोपियों सहित 7 फरार आरोपियों का गुरुवार को चालान पेश करने के लिए कोतवाली टीआई अजित तिवारी न्यायाधीश राजेंद्र पाटीदार की कोर्ट में पहुंचे। कोर्ट की बिजली बंद होने के कारण ऑनलाइन मिलने वालो केस रजिस्ट्रेशन नंबर नहीं निकल पाया। जिस कारण चालान वापस ले जाना पड़ा। इसके अलावा भी कई पक्षकार और वकीलों के काम अधूरे रह गए। न्यायालय का मुख्य स्वागत द्वार उखड़ गया था। न्यायाधीशों के आवास पर लगे पार्किंग के टीन शेड भी उड़ गए।

जिला अस्पताल में भर्ती मरीज गर्मी से बेचैन हो गए।

पूरे शहर में बिजली सुचारू

एई मेंटनेंस आरके दीक्षित ने बताया गुरुवार शाम 4.30 बजे तक सुधार काम चलता रहा। जिसके आधे घंटे बाद मोहम्मदपुरा, बहादरपुर, लोनी क्षेत्र की बिजली सुचारू कर दी गई। बुधवार रात 12.30 बजे के बाद शहरी क्षेत्र में बिजली सुचारू हो गई थी। अब कोई क्षेत्र नहीं बचा जहां बिजली नहीं हो। अस्पताल में कोई ओर परेशानी होगी। जिस कारण उनकी बिजली बंद हो सकती है।