--Advertisement--

सूखे स्वीमिंग पूल को जांच में बताया उपयोगी

संभाग आयुक्त को भेजी तत्कालीन कलेक्टर की स्वीमिंग पूल जांच रिपोर्ट शिकायतकर्ता ने झूठा बताया, दोबारा जांच की...

Dainik Bhaskar

Jun 07, 2018, 03:25 AM IST
सूखे स्वीमिंग पूल को जांच में बताया उपयोगी
संभाग आयुक्त को भेजी तत्कालीन कलेक्टर की स्वीमिंग पूल जांच रिपोर्ट शिकायतकर्ता ने झूठा बताया, दोबारा जांच की मांग

भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

एक साल से बंद पड़े स्वीमिंग पूल को संभागायुक्त को भेजे गए जांच प्रतिवेदन में तत्कालीन कलेक्टर दीपकसिंह ने उपयोगी बताया है। जबकि हकीकत यह है कि 1.49 करोड़ रुपए से बना पूल चालू ही नहीं हुआ। आरटीआई एक्टिविस्ट डॉ. आनंद दीक्षित मीडिया के सामने आकर निगम की लापरवाही छिपाने और कलेक्टर के झूठे प्रतिवेदन देने का आरोप लगाया है।

दीक्षित ने कहा मैंने 3 अक्टूबर 2017 को जन सुनवाई में शिकायत की। इसमें लिखित में दिया गया था कि नगर निगम द्वारा विकास योजना 2021 में अवधारित भूमि उपयोग का उल्लंघन कर प्रगतिरत स्वीमिंग पूल का निर्माण काम तत्काल बंद कराए। जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। इसके बाद तत्कालीन कलेक्टर दीपकसिंह ने न जाने कैसे जांच की। उन्होंने संभाग आयुक्त को ये लिखकर भेज दिया कि नगर निगम, नगर व ग्राम निवेश उप संचालक से प्रतिवेदन लिया और उनकी प्रतियां दिखाई। आगे पत्र में ये लिखा कि उप संचालक द्वारा संबंधित भूमि पर बुरहानपुर विकास योजना 2021 की कंडिका 4.14 अनुसार खेल मैदान भूमि उपयोग में तरण पुष्कर (स्वीमिंग पूल) स्वीकार्य करने योग्य बताया है। वर्तमान में स्वीमिंग पूल पूरी तरह से बनकर तैयार हो चुका है जिसका उपयोग हो रहा है। जबकि निर्माण के बाद से बंद पड़ा हुआ है। पूल का पूरा पानी सूख गया है। पक्षी उसमें मृत पड़े हुए हैं। संसाधनों पर धूल चढ़ गई है। बेसिंग के नल भी गायब है। ऐसे में उनका प्रतिवेदन कितना सच है ये पूल और परिसर देखकर पता चलता है। मैं मांग करता हूं कि दोबारा जांच हो और जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। इंदौर में खेल युवक कल्याण विभाग स्वीमिंग पूल को संचालित करता है। यहां भी निगम को खेल विभाग को दे देना चाहिए।

स्वीमिंग पूल शुभारंभ से अाज तक सूखा है। डॉ. दीक्षित ने इसकी शिकायत की है।

X
सूखे स्वीमिंग पूल को जांच में बताया उपयोगी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..