• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Burhanpur News
  • देश की सरकार चला रहे हैं रंगा-बिल्ला, जिले की हुकूमत का जिम्मा बंटी-बबली के भरोसे
--Advertisement--

देश की सरकार चला रहे हैं रंगा-बिल्ला, जिले की हुकूमत का जिम्मा बंटी-बबली के भरोसे

भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों के विरोध में एक घंटे के जिला स्तरीय धरना प्रदर्शन में...

Danik Bhaskar | May 28, 2018, 03:30 AM IST
भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों के विरोध में एक घंटे के जिला स्तरीय धरना प्रदर्शन में कांग्रेसियों ने भाजपा सरकार सहित स्थानीय नेताओं को खूब कोसा और महंगाई पर जनता के हालात बताए। दबाव बनाने के लिए जवान उनकी वीडियो शूटिंग करते रहे। जिलाध्यक्ष अजयसिंह रघुवंशी ने कहा- सरकार ने जो वादे किए, वो अधूरे पड़े हैं। जो वादे नहीं किए, उन्हें पूरा कर जनता पर बोझ बढ़ा दिया। इनके पूर्वजों ने सिखाया है वादे पूरे नहीं करेंगे। ये अंग्रेजों के मुखबिर थे, जिन्हें देश की लड़ाई का हिस्सा माना जा रहा है। इस तरह देश की सरकार रंगा-बिल्ला और हमारे जिले की सरकार बंटी-बबली चला रहे हैं।

रविवार दोपहर 12 बजे से जय स्तंभ पर धरना प्रदर्शन शुरू हुआ। इसका दोपहर 1 बजे तक ही समय निर्धारित किया था। धरना आधा भी नहीं हुआ था कि मांग पत्र लेने एसडीएम सोहन कनाश पहुंचे। प्रदर्शन खत्म होने को करीब 25 मिनट बचे हुए थे। तब तक एसडीएम सामने की होटल में जाकर बैठे। जहां गला तर करने के लिए उन्होंने ठंडाई पी। आधे घंटे तक उन्होंने धरना खत्म होने का इंतजार किया। ऐसे में चुनिंदा कांग्रेस नेता महंगाई पर विरोध कर पाए। दोपहर 1 बजते ही विरोध प्रदर्शन खत्म हुआ और एसडीएम को ज्ञापन देकर महंगाई कम कराने की मांग की। उनके जाते ही टैंकर लोकार्पण कार्यक्रम का साउंड शुरू हुआ। सुरक्षा में चारों ओर चौराहा पर पुलिस बल तैनात रहा। प्रदर्शन में महिला जिलाध्यक्ष सरिता राजेश भगत, नेता प्रतिपक्ष अकील औलिया, उपनेता अमर यादव, इंद्रसेन देशमुख, महामंत्री शैली कीर, प्रवक्ता शेख रूस्तम सहित अन्य मौजूद थे।

निर्धारित समय होने से जिलाध्यक्ष अजयसिंह रघुवंशी 10 मिनट बोले। इसमें उन्होंने भाजपा को कोसा।

महंगी रसोई से भी बढ़ रहे घरेलू विवाद

पूर्व निगमाध्यक्ष व पार्षद गौरी दिनेश शर्मा ने कहा महिला हूं इस नाते महंगी रसोई पर बोलूं्गी। भाजपा सरकार भी महिला सुरक्षा का दवा करती है, ऐसे में महंगाई को भी उन्हें दूर करना होगा, क्योंकि यहीं घरेलू विवाद की भी जड़ है। पारले-जी पर 18 प्रतिशत और गोल्ड बिस्किट पर 3 प्रतिशत जीएसटी लगा दिया। इससे बच्चों की पहुंच से भी बिस्किट बहुत दूर हो गए हंै।

ऐसे अच्छे दिन नहीं हमें पुराने बुरे दिन चाहिए

ग्रामीण जिलाध्यक्ष किशोर महाजन जनता को झूठे वादे बताकर केंद्र में सरकार बन गई लेकिन चार साल में महंगाई, गरीबी, बेरोजगारी दूर नहीं कर पाई। यूपीए सरकार में कच्चे तेल से आधी कीमत में पेट्रोल-डीजल मिलता था। वो आज तीन गुने दाम पर मिल रहा है। यदि ये अच्छे दिन है तो हमें ऐसे नहीं पुराने वाले बुरे दिन चाहिए। मप्र भी सबसे ज्यादा टैक्स लेने वाला प्रदेश बन गया है। पेट्रोल-डीजल बढ़ती कीमतों से लोगों का बजट गड़बड़ाया है।