Hindi News »Madhya Pradesh »Burhanpur» सिमी आतंकियों द्वारा जेल ब्रेक कांड के 5 साल बाद अब बढ़ेगी जिला जेल की सुरक्षा, 13 नए प्रहरी और मिले

सिमी आतंकियों द्वारा जेल ब्रेक कांड के 5 साल बाद अब बढ़ेगी जिला जेल की सुरक्षा, 13 नए प्रहरी और मिले

जेल की क्षमता 168 कैदियों की और रखें है 632 भास्कर संवाददाता | खंडवा जिला जेल में सुरक्षा के इंतजाम और बढ़ेंगे।...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 11, 2018, 03:30 AM IST

जेल की क्षमता 168 कैदियों की और रखें है 632

भास्कर संवाददाता | खंडवा

जिला जेल में सुरक्षा के इंतजाम और बढ़ेंगे। पौने पांच साल पहले खंडवा जेल से सिमी आतंकियों के फरार होने के बाद यहां 13 नए प्रहरियों की संख्या बढ़ाई गई है। डीआईजी जेल ने नियुक्ति के आदेश भी जारी कर दिए हैं। अब जेल में प्रहरियों की संख्या 27 से बढ़कर 40 हो जाएगी। वर्तमान में जेल में महिला व पुरुष मिलाकर 632 कैदी हैं। यानी एक प्रहरी करीब 16 कैदियों की निगरानी करेगा।

शहीद जननायक टंट्या भील जिला जेल प्रबंधन द्वारा लंबे समय से सुरक्षा के इंतजामों को लेकर मांग की जाती रही थी। रविवार को डीआईजी जेल इंदौर से खंडवा जिला जेल के लिए 13 प्रहरियों की नियुक्ति के आदेश जारी हुए। ये प्रहरी ट्रेनिंग लेकर जेल में सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालेंगे। जेल में खंडवा के अलावा बुरहानपुर जिले के कैदियों को रखा जा रहा है। जेल की क्षमता 168 कैदियों की है जबकि वर्तमान में जेल में 632 कैदियों को रखा गया है। जिनमें 18 महिला कैदी शामिल हैं। फिलहाल जेल में सुरक्षा के इंतजाम संतोषजनक हैं। यहां पर स्टाफ में 13 प्रहरी आैर 5 हेड कांस्टेबल की कमी कई सालों से थी।

शहीद जननायक टंट्या भील जिला जेल के लिए डीआईजी जेल ने नए प्रहरियों की नियुक्ति के आदेश दिए

पांच साल पहले भागे थे ये आतंकी

खंडवा जेल से सिमी के 6 आतंकी 30 सितंबर 2013 की दरमियानी रात 2.30 बजे फरार हुए थे। इनमें डॉ. अबू फैज़ल पिता इमरान (26) जुहू अंधेरी वेस्ट मुंबई, एजाजुद्दीन पिता अजीजुद्दीन (28) निवासी करेली जिला नरसिंहपुर, अमजद पिता रमज़ान (22) निवासी खंडवा, असलम पिता अय्यूब (23) निवासी खंडवा, ज़ाकिर पिता बदउल हुसैन (28) निवासी खंडवा, महबूब गुड्डू पिता इस्माइल (24) खंडवा शामिल थे।

18 में 13 पद भरे, 5 रिक्त: वर्तमान में जेल में जेल अधीक्षक, सहायक अधीक्षक, उप अधीक्षक, जेलर, 27 प्रहरी, 3 मुख्य प्रहरी, 3 हेड कांस्टेबलों का स्टाफ है। प्रहरी के 40, हेड कांस्टेबल के 8 पद हैं, जिनमें सालों से केवल 27 प्रहरी व 3 हेड कांस्टेबल ही ड्यूटी कर रहे हैं। अब प्रहरियों के पद पूरे हो गए हैं जबकि हेड कांस्टेबल के पांच पद अब भी रिक्त हैं।

सुरक्षा में कमियों को पूरा करने के प्रयास करेंगे

वैसे तो जेल में सुरक्षा को लेकर पुख्ता इंतजाम हैं। सीसीटीवी के अलावा प्रहरियाें द्वारा सभी बैरकों पर नजर रखी जा रही है। नए प्रहरियों के आ जाने से जेल की सुरक्षा और अच्छी तरह से की जा सकेगी। -प्रभात चतुर्वेदी, जेल अधीक्षक

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Burhanpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×