--Advertisement--

646 स्कूलों को शौचालयों की सफाई के लिए दिए 23 लाख रु.

Burhanpur News - भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर स्कूलों के शौचालयों की सफाई के लिए अब स्कूल प्रबंधन कोई बहाना नहीं बता पाएंगे। अब...

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2018, 03:30 AM IST
646 स्कूलों को शौचालयों की सफाई के लिए दिए 23 लाख रु.
भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

स्कूलों के शौचालयों की सफाई के लिए अब स्कूल प्रबंधन कोई बहाना नहीं बता पाएंगे। अब तक राशि नहीं होने की बात कहकर शौचालयों की सफाई नहीं करवाई जाती थी। इस समस्या के निराकरण के लिए राज्य शासन ने ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों को सफाई के लिए राशि जारी कर दी है। जिलेभर के 646 स्कूलों को 23 लाख 22 हजार रुपए दे दिए गए हैं। इस राशि से सफाई करवाना होगी। एक स्कूल को 3600-3600 रुपए दिए गए हैं। स्कूलों को निर्देश दिए गए हैं कि सफाई में लापरवाही बरती जाती है तो प्राथमिक, माध्यमिक के हेडमास्टर, प्रधान पाठक पर कार्रवाई की जाएगी। इस राशि में जरूरी सामग्री और कर्मचारी का भुगतान भी करना होगा। स्कूलों को निर्देश दिए गए हैं कि सालभर शौचालयों का उपयोग करवाना होगा। विद्यार्थियों सहित स्टाफ को परेशानी नहीं होना चाहिए।

डीपीसी अशोक शर्मा ने कहा अब तक स्कूलों द्वारा शौचालयों की सफाई में लापरवाही बरती जा रही थी। सफाई नहीं होने के कारण विद्यार्थी और स्टाफ इनका उपयोग नहीं कर पा रहे थे। दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। कई स्कूलों में शौचालयों को ताले लगाकर बंद कर दिया गया था। कारण पूछने पर गंदगी और सफाई के लिए राशि नहीं होने की बात कही जाती थी। अब पूरी जवाबदारी स्कूल प्रबंधन की रहेगी।

स्कूलों में हो रही तोड़फोड़, चौकीदारों की जरूरत

ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों में तोड़फोड़ हो रही है। बदमाश दरवाजे, खिड़की, दीवारों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। शराबखोरी की जा रही है। इससे शासकीय संपत्ति का नुकसान हो रहा है। इसके लिए चौकीदारों की जरूरत पड़ रही है। शासन से कोई व्यवस्था नहीं है। ग्राम पंचायत की भी जिम्मेदारी है कि स्कूलों में सुरक्षा व्यवस्था करें। अब स्कूलों की सुरक्षा के लिए चौकीदारों की नियुक्ति की मांग उठ रही है।

स्कूलों के निरीक्षण में अनुपस्थित मिले शिक्षक, कटेगा वेतन

डीपीसी अशोक शर्मा ने स्कूलों में शिक्षकों से जानकारी जुटाई।

भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

स्कूलों में शिक्षकों की लापरवाही रुक नहीं रही है। अफसरों के निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है। स्कूलों में पढ़ाई शुरू होने से पहले जरूरी व्यवस्थाएं की जाना है। इसके लिए 11 जून से स्कूलों में जाने के निर्देश दिए गए थे। बुधवार को डीपीसी अशोक शर्मा निरीक्षण के लिए निकले। इस दौरान शिक्षकों की लापरवाही समाने आई। कई शिक्षक स्कूल नहीं पहुंचे। अनुपस्थित शिक्षकों की रिपोर्ट कलेक्टर डॉ. सतेंद्रसिंह को प्रस्तुत की जाएगी। कलेक्टर संबंधित शिक्षकों पर वेतन काटने सहित अन्य कार्रवाई करेंगे।

निरीक्षण में अंबाड़ा प्राथमिक स्कूल में रिंकी चौहान, डवालीखुर्द में सहायक अध्यापक शेख सलीम, शमीम बनो, रईसा मुंशी, दीपिका पाटील अनुपस्थित थे। जनशिक्षक संदीप जायसवाल को दौरे में दोपहर 12 बजे नावथा माध्यमिक और प्राथमिक स्कूल बंद मिले। डवालीकलां प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल भी बंद थे। लालपड़ावा पहुंचने पर स्कूल में कोई नहीं मिला। ताले लगे थे। दोपहर करीब डेढ़ बजे हिंगना प्राथमिक स्कूल बंद था। शंकरपुरा प्राथमिक स्कूल में दोनों शिक्षक मौजूद थे। माध्यमिक स्कूल के दोनों शिक्षक अनुपस्थित पाए गए। नेवरी और देवरीमाल स्कूलों में शिक्षक मौजूद थे। कार्यक्रम की तैयारियां चल रही थी। यह सभी स्कूल अंबाड़ा जनशिक्षा केंद्र के तहत आते हैं। शिक्षकों को सख्त निर्देश दिए गए कि 15 जून से पहले सभी तैयारियां पूरी होना चाहिए।

X
646 स्कूलों को शौचालयों की सफाई के लिए दिए 23 लाख रु.
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..