--Advertisement--

स्वामीनारायण को 4 क्विं. आम का भोग

भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर गुजरात के वड़ताल स्थित मुख्य मंदिर की तर्ज पर पहली बार सिलमपुरा स्थित श्री...

Danik Bhaskar | May 26, 2018, 04:20 AM IST
भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

गुजरात के वड़ताल स्थित मुख्य मंदिर की तर्ज पर पहली बार सिलमपुरा स्थित श्री स्वामीनारायण मंदिर में आम्र उत्सव मनाया गया। 500 लीटर दूध, केसर से अभिषेक कर 400 किलो आम का भाेग चढ़ाया। गुजरात के मंदिर की तरह प्रभु का दरबार भी सजाया गया।

आम्र उत्सव पर शुक्रवार को अलसुबह से श्रद्धालु उमड़ने लगे। मप्र सहित विभिन्न प्रदेशों से आए श्रद्धालु भी दर्शन को पहुंचे। काकड़ आरती से पहले दूध, केसर से अभिषेक पूजन कर प्रभु का श्रृंगार किया। जिसके बाद अलग-अलग टोकरियां सजाकर लाए। जिसमें हापुस, केसर, लालपरी, तोतापरी, नीलम और बादाम का भोग लगाया।

मंदिर के वरिष्ठ किशोर शाह ने बताया 188 साल पुराने मंदिर में पहली बार आम्र उत्सव मनाया।जिसमें हरि भक्तों ने अपनी श्रद्धा अनुसार आम लाकर भगवान को भोग लगाया। भोग में लगे आम का रस बनाकर श्रद्धालुओं को वितरित किया जाएगा। सदगुरू शास्त्री रामकृष्णदास व मंदिर कोठारी स्वामी पुरुषोत्तम दास ने कहा बुरहानपुर के भक्त बहुत ही भाग्यशाली हैं जिन्हें आज भगवान के केसर अभिषेक के साथ केसर सजे आम्र उत्सव के भी दर्शन हुए है। सेवकदास शाह, राजू किशोरीवाला, अशोक शाह, सुरेंद्र नागराज, नरेंद्र मोदी, सुरेंद्र मोदी, बालाजी शाह, रणछोड़ शाह, नितिन शाह, गजेंद्र शाह, शैलेंद्र शाह, अनिल शाह, प्रवीण देवकर, अशोक दालमिल वाले, नटवर भगत, रामानंद मोदी सहित अन्य दर्शन को पहुंचे।

वृंदावन में कथा सुनाने गए पंडित चौरे-पुरुषोत्तम मास के तहत पहली बार प्रतापपुरा के पंडित सुशील चौरे उत्तरप्रदेश के वृंदावन में संगीतमय श्रीमद भागवत कथा सुनाएंगे। शुक्रवार सुबह 7 बजे पंडितजी 200 श्रद्धालुओं के साथ वृंदावन के लिए रवाना हुए। महापौर अनिल भोसले उन्हें रवाना करने पहुंचे। पंडित चौरे ने बताया कथा के दौरान मथुरा, वृंदावन, गोकुल, गोवर्धन, बरसना, नंदगांव का भ्रमण करेंगे। इसके बाद दिसंबर में भी वें कथा के लिए हरिद्वार जाएंगे।

स्वामीनारायण मंदिर में पहली बार मनाया उत्सव, देश-प्रदेश से दर्शन करने आए श्रद्धालु

भगवान को आम का भाेग लगाया।