• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Burhanpur
  • पूर्व प्रदेशाध्यक्ष ने कहा- पदमुक्त होकर अब कांग्रेस के लिए करूंगा काम, जारी रहेगा संघर्ष
--Advertisement--

पूर्व प्रदेशाध्यक्ष ने कहा- पदमुक्त होकर अब कांग्रेस के लिए करूंगा काम, जारी रहेगा संघर्ष

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष के पद से मुक्त होने के बाद शनिवार को अरुण यादव पहली बार खंडवा आए। पद से मुक्त होने के मौके...

Dainik Bhaskar

May 13, 2018, 04:25 AM IST
पूर्व प्रदेशाध्यक्ष ने कहा- पदमुक्त होकर अब कांग्रेस के लिए करूंगा काम, जारी रहेगा संघर्ष
कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष के पद से मुक्त होने के बाद शनिवार को अरुण यादव पहली बार खंडवा आए। पद से मुक्त होने के मौके को यादगार बनाने के लिए कांग्रेस कार्यालय में कार्यकर्ता सम्मेलन हुआ। सम्मेलन के बहाने किए गए इस शक्ति प्रदर्शन में अरुण यादव बोले की अब पदमुक्त होकर कांग्रेस के लिए काम करूंगा। सोनिया गांधी-राहुल गांधी के सपने को प्रदेश में सरकार बनाकर पूरा करना है। यह दूसरा बड़ा सम्मेलन था। इससे पहले साढ़े चार साल पहले अरुण यादव के प्रदेशाध्यक्ष बनने पर ऐसा ही सम्मेलन हुआ था।

दोपहर एक बजे से शुरू हुए सम्मेलन में पद से हटने का दर्द अरुण यादव छुपा नहीं सके। उन्होंने ने कहा जब परिर्वतन होता है तब स्वभाविक रूप से ऊंच-नीच होती है। पिछले साढ़े चार साल में संघर्ष किया। पद से हटाने का सीधे जिक्र न करते हुए कहा संघर्ष थोड़े दिनों के लिए छूट गया है। उसे नहीं छोड़ना है। अब मैं खुद आपके बीच में रहूंगा। राहुल गांधी से आग्रह किया है कि अगले 6 महीने के लिए सारी जिम्मेदारियों से मुक्त करें। ताकि मैं अपने क्षेत्र में जाकर संघर्ष कर पार्टी को मजबूत कर सकूं। उन्होंने बताया कि कांग्रेस को सबसे ज्यादा आशा निमाड़ मालवा से ही है।

पार्टी की पीठ में छुरा घोंपने वालों की शिकायत राहुल गांधी से करेंगे

विरोधियों पर ऐसे साधे निशाना

अरुण यादव अपने पदमुक्त होने के बाद भी विरोधियों पर निशाना साधा। उन्होंने राजनारायण की वापसी पर उनके प्रतिस्पर्धी नारायण पटेल का नाम लेते हुए कहा दुखी होने की बात नहीं है, जो पिछले साढ़े 4 साल से संघर्ष कर रहे है, वे परेशान न हों। वह इसलिए क्योंकि जो बरसाती होते है न, आगे नहीं कहूंगा। सब समझ चुके हैं। यह बरसात के थोड़े दिन पहले निकलते है, टर्र-टर्र करते हैं। इसके बाद गायब हो जाते है। उनसे संघर्ष करना है। जिन्होंने हमारी मातृ संस्था की पीठ में छुरा घोपने का काम किया है। उनके बारे में राहुल गांधी को बताएंगे। सम्मेलन में कसरावद विधायक सचिन यादव, जिलाध्यक्ष ओंकार पटेल, अजय ओझा, रियाज हुसैन, इकबाल कुरैशी, संदीप जायसवाल, शहर कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष इंदल पंवार सहित अनेक नेता और कार्यकर्ता शामिल रहे। संचालन आलोक रावत ने किया।

गांधी भवन में हुए सम्मेलन में उपस्थित कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव।

बड़े बोल-नरेंद्र मोदी के पिता भी आ जाएंगे तो लड़ेंगे चुनाव

अरुण यादव ने सम्मेलन के बाद पत्रकारों बात की एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी आ जाएं या उनके पिता आ जाएं, उनसे भी लडेंग़े। चुनाव लड़ने के सवाल को टाल गए। बोले मेरा भविष्य राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी तय करेंगे। प्रदेश में कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री प्रोजेक्ट किए जाने के सवाल को यादव ने सिरे से नकार दिया। साथ ही प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ व चुनाव प्रचार समिति अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया को किनारे रखने का प्रयास किया। कहा विधानसभा चुनाव राहुल गांधी के नेतृत्व में लडेंग़े। वे कांग्रेस का चेहरा होंगे। सरकार बनने पर मुख्यमंत्री कौन बनेगा यह बाद में तय होगा। खंडवा में विपक्ष में कांग्रेस की भूमिका दिखाई नहीं दे रही देने के सवाल यादव ने स्वीकार करते हुए कहा स्थानीय स्तर पर कुछ कमियां है।

मंच पर डटे रहे हरदा, खरगोन से आए नेता

मंच पर बुरहानपुर के जिलाध्यक्ष अजय रघुवंशी, पूर्व विधायक हमीद काजी, पूर्व विधायक रविंद्र महाजन, किशोर महाजन खरगोन जिले के पूर्व सांसद ताराचंद पटेल, खरगोन सहकारी सूत मिल अध्यक्ष बोंदरसिंह मंडलोई, सेवादल अध्यक्ष शांतिलाल पाटीदार, तोताराम महाजन, छाया मोरे, बड़वाह से सचिन बिर्ला, बड़वानी जिलाध्यक्ष सुखलाल परमार, हरदा से लक्ष्मी नारायण पवार, इंदौर से मुकेश छांजेड आदि कार्यकर्ता शामिल रहे।

वाहनों में भरकर बुलाए गए थे कार्यकर्ता

सम्मेलन में भीड़ जुटाने के लिए खंडवा के अलावा बुरहानपुर, खरगोन, बड़वानी, हरदा से कार्यकर्ताओं को जुटाया। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ व ज्योतिरादित्य सिधियां के समर्थकों ने से दूरी बनाई। कार्यक्रम में बुरहानपुर से 84, खरगोन, बड़वाह, सनावद, कसरावद से 150, हरदा से 28, बड़वानी से 35, इंदौर से 22 चार पहिया वाहन में कार्यकर्ता और नेता आए थे।

यह भी हुआ.....




पहले हमलावर थे, राहुल से मिलने के बाद बदले सुर

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष के पद से हटाए जाने के बाद अरुण यादव हमलावर थे। कहा था कि वे कोई भी चुनाव अब नहीं लड़ेंगे। उनकी बयानबाजी के बीच कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने दिल्ली तलब कर समझाइश दी। राहुल से मुलाकात के बाद यादव के सुर बदले हैं। प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ व प्रचार समिति के अध्यक्ष सिंधिया की तारीफ भी कर रहे हैं। हालांकि अभी भी वे प्रदेश नेतृत्व को स्वीकार नहीं कर पाए हैं।

X
पूर्व प्रदेशाध्यक्ष ने कहा- पदमुक्त होकर अब कांग्रेस के लिए करूंगा काम, जारी रहेगा संघर्ष
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..