Hindi News »Madhya Pradesh »Burhanpur» अनाज मंडी में सन्नाटा, सब्जियों की आवक कम हाने से बढ़े दाम, केले के भी भाव गिरे

अनाज मंडी में सन्नाटा, सब्जियों की आवक कम हाने से बढ़े दाम, केले के भी भाव गिरे

भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर प्रदेशव्यापी किसान आंदोलन का असर बुरहानपुर में भी देखने को मिला लेकिन किसान...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 02, 2018, 04:25 AM IST

अनाज मंडी में सन्नाटा, सब्जियों की आवक कम हाने से बढ़े दाम, केले के भी भाव गिरे
भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

प्रदेशव्यापी किसान आंदोलन का असर बुरहानपुर में भी देखने को मिला लेकिन किसान संगठनों ने सिर्फ अपना सांकेतिक समर्थन ही दिया। जिलेभर की मंडियों में अलसुबह से पुलिस अलर्ट थी। अनाज मंडी में सन्नाटा पसरा रहा। सब्जियों की आवक घटने से दाम बढ़ गए। जबकि केला की पूछ-परख कम होने से दाम गिर गए। प्रदेशभर में शांत माहौल की खबर से संभवत: आज बाजार उठेगा।

जिलेभर में करीब 15 हजार किसानों ने लगभग 15000 हेक्टेयर से अधिक केला फसल की बोवनी हुई है। जिसमें से अधिकांश कट चुका है तो कुछ कटने के लिए केला तैयार है। कटाई के बाद सीधे हरियाणा, पंजाब, राजस्थान में निर्यात करना होगा। जबकि कलेक्टर डॉ. सतेंद्रसिंह बोल चुके, ट्रकों को प्रशासन पार करवाएगा। हिम्मत जुटाकर किसानों ने केला नीलाम के लिए लगा दिया। नुकसान के डर से व्यापारी बोली नहीं लगा रहे हैं। 229 वाहन ब्रिक्री को लेकर किसानों में चिंता बढ़ गई है। जिलेभर में 900 टन क्षमता के 17 कोल्ड स्टोरेज हंै लेकिन इसमें रखे तो अन्य प्रदेशों में जाते-जाते केला खराब हो जाएगा।

सिर्फ एक टन आवक होने से 20 रुपए किलो तक महंगी हुई सब्जी

समर्थन मूल्य पर चना खरीदी केंद्र पर दोपहर में तुलावटी, हम्माल सुस्ताते रहे। इक्का-दुक्का किसान पहुंचते रहे।

खंडवा रोड स्थित थोक सब्जी मंडी सुबह 5 बजे से शुरू हो गई थी। लेकिन सब्जियों की आवक 5.30 बजे से होने लगी। आधे घंटे में पूरे बाजार में नीलामी शुरू हो गई। इसमें आसपास के किसान सब्जियां लेकर आए।

रुस्तमपुर, पंधाना क्षेत्र से आवक बहुत कम रही। नासिक से टमाटर, गोभी, पत्ता गोभी आया। स्थानीय लोनी, बहादरपुर और बोरगांव से भी सब्जी आई। रुस्तमपुर, पंधाना, कमाठी, कुमठी से कम आवक हुई। पिछले दिनों के मुकाबले चहल-पहल भी कम दिखी लेकिन दाम में अच्छी खासी बढ़ोतरी दर्ज की गई। 31 मई को कुल 158 क्विंटल सब्जी नीलाम हुई थी। जबकि शुक्रवार सिर्फ 102 क्विंटल ही बिक पाई लेकिन लेवालों में सब्जियों को लेकर बहुत पूछ-परख रही। जिस कारण दाम में भी काफी उछाल आया। अदरक के 20 रुपए किलाे दाम बढ़े। जबकि चौला फल्ली 12 से 35 रुपए कम हो गए। विक्रेता रोशन महाजन ने कहा बाजार में महंगी है लेकिन लोग इतने ऊंचे दाम पर नहीं खरीद रहे।

329 में से बिके सिर्फ 100, 125 रुपए तक गिरे दाम

केला नीलाम मंडी में बिकने के लिए 329 वाहन आए। लेकिन व्यापारियों ने सिर्फ 100 वाहन की बोली लगाई। जिसके न्यूनतम 501 और अधिकतम 982 रुपए दाम रहे। यानी गुुरूवार के मुकाबले दाम 75 रुपए से 125 रुपए तक गिरे हैं।

कृषि उपज मंडी में सन्नाटा हाने से हम्माल, तुलावटी सुस्ताते रहे

रेणुका कृषि उपज मंडी में आम दिनों के मुकाबले ज्यादा सन्नाटा पसरा रहा। गिनते के किसान अनाज बेचने के लिए पहुंचे थे। आवक कम होने से हम्माल, तुलावटी सुस्ताते रहे। जिस कारण अधिकांश व्यापारी भी मंडी में नहीं पहुंचे। ऊपर की अनाज मंडी में सिर्फ 15 ही वाहन उपज आई। जिनसे व्यापारियों ने सिर्फ 250 बोरी उपज खरीदी। जबकि कल तक 40 से ज्यादा किसानों से 800 बोरी उपज खरीदी हुई थी। हड़ताल के कारण 650 बोरी उपज आवक अचानक कम हो गई। समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए सिर्फ 40 वाहन आए। पिछले दिन के मुकाबले 35 से ज्यादा वाहनों की आवक कम हो गई। दरियापुर और निंबोला केंद्र पर कर्मचारी भी नदारद रहे। सिर्फ परिवहन के लिए ट्रकों में ढुलाई का काम चलता रहा। उसमें भी दोपहर के बाद विशेष नमाज के लिए हम्माल चले गए। जिसके बाद से इक्का-दुक्का लोग नजर आए। लेकिन अफसर निगरानी के लिए राउंड लगाते रहे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Burhanpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×