Hindi News »Madhya Pradesh »Burhanpur» 500 से ज्यादा रसूखदारों ने राइजिंग लाइन में डाल रखा अवैध कनेक्शन, नहीं मिल रहा पानी

500 से ज्यादा रसूखदारों ने राइजिंग लाइन में डाल रखा अवैध कनेक्शन, नहीं मिल रहा पानी

भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर फैक्ट्री, अस्पताल, होटल, ढाबा संचालक व अवैध सर्विसिंग सेंटरों के अलावा कुछ लोगों ने...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 10, 2018, 05:20 AM IST

500 से ज्यादा रसूखदारों ने राइजिंग लाइन में डाल रखा अवैध कनेक्शन, नहीं मिल रहा पानी
भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

फैक्ट्री, अस्पताल, होटल, ढाबा संचालक व अवैध सर्विसिंग सेंटरों के अलावा कुछ लोगों ने अपने घरों में राइजिंग लाइन से सीधे कनेक्शन ले रखा है। यह कनेक्शन बगैर अनुमति की चोरी-छिपे लिए गए हैं। हमारे हिस्से का है जो कि चोरी से रसूखदार पानी वापरकर निगम को आर्थिक क्षति पहुंचा रहे हैं। अगर यह कनेक्शन बंद कर दिए जाए तो जलसंकट से कुछ हद तक राहत मिल सकती है। यह बात आलमगंज के लोगों ने निगम में महापौर अनिल भौसले का घेराव करते हुए कहा।

अवैध कनेक्शन डालकर रोज हजारों लीटर पानी बहा रहे हैं। राइजिंग लाइन में पूरे समय पानी रहता है और वह 24 घंटे बहती है। इसी लाइन से शहर के विभिन्न क्षेत्रों में रखी पानी की टंकियां में पानी एकत्र कर जलापूर्ति की जाती है। राइजिंग लाइन से किसी को भी सीधे कनेक्शन लेने का नियम ही नहीं है लेकिन शहर में 100 से ज्यादा रसूखदारों ने राइजिंग लाइन से कनेक्शन ले रखा है। कई सालों से यह खेल चल रहा है लेकिन निगम ने अब तक इस ओर ध्यान नहीं दिया। कई लोगों ने जिनके बड़े उद्याेग-धंधे हैं उन्होंने जमीन से चार फीट नीचे लाइन से कनेक्शन किया जो कि दिखाई नहीं देता। कुछ कनेक्शन तो बाहर से दिखाई देे रहे हैं जो होटल, ढाबों और लोगों के घरों तक गए हैं।

लोग बोले- निगम कार्रवाई करे तो चोरी होने से बच सकता है हमारे हिस्से का पानी

फारुक मियां की दरगाह के पास नाले में बिछा हुआ अवैध कनेक्शन का जाल।

अवैध कनेक्शन वालों को पानी की कमी नहीं

शहर में कितना भी जलसंकट हो अवैध कनेक्शन वालों को पानी की कमी नहीं होती। पानी का एक-एक रुपए जमा करने वाले लोग पानी को तरस रहे हैं। पानी नहीं मिलने पर निगम का घेराव किया जा रहा है। निगम आयुक्त, महापौर पीड़ित लोगों को आश्वासन देकर शांत कर देते है लेकिन जनप्रतिनिधि और अफसर जलसंकट की तह में नहीं जा रहे। उतावली से लेकर ताप्ती पंपिंग स्टेशन तक सर्वे करें तो 500 से ज्यादा अवैध कनेक्शन मिल जाएंगे। अगर इन कनेक्शनों को बंद कर दिया जाए तो आम लोगों को जलसंकट से कुछ हद तक छुटकारा मिल सकता है। बुधवार को निगम मेें जलसंकट को लेकर आलमगंज के लोगों ने महापौर का घेराव कर कहा। जलसंकट को लेकर उतावली नदी से ताप्ती नदी तक राइजिंग लाइन की पड़ताल की गई तो चौकाने वाला खुलासा हुआ। नदियों के आसपास संचालित होटल ढाबे वाले दिन में ही अपने बगीचों में पानी बहा रहे थे। ईंट भट्‌टे वाले भी यह नहीं बता पाए कि नल कनेक्शन वैध है या अवैध, पंपिंग पर तैनात कर्मचारी पानी चोरों के खिलाफ सिर्फ इतना ही कहा कि सब को पता है अपन छोटे कर्मचारी क्या कर सकते हैं।

शहर में जलसंकट के पांच कारण

100 से ज्यादा अवैध कनेक्शन सीधे राइजिंग लाइन से।

100 से ज्यादा अवैध सर्विसिंग सेंटर सीधे पाइप लाइन से अवैध कनेक्शन।

ताप्ती और उतावली किनारे ईंट भट्‌टे।

बगैर टोटियों के नल और निगम के फूटे टैंकर। घरेलू कनेक्शन लेकर लोग हजारों लीटर पानी बोतल और केन में बेच रहे हैं।

कालाबाग के लोगों ने भी पानी को लेकर महापौर-आयुक्त को घेरा

आजाद नगर के कालाबाग में जलसंकट से परेशान लोगों ने बुधवार को आयुक्त पवनसिंह व महापौर अनिल भौसले को घेर लिया। कक्ष के बाहर वार्ड के करीब 50 लोगों ने महापौर आयुक्त से कहा- हम तीन साल से पानी को लेकर परेशान है। हमारे यहां पानी नहीं आ रहा है। हर बार आश्वासन देते हैं। महापौर अनिल भौसले ने कहा- मैं कल (गुरुवार) को आपके वार्ड में आऊंगा निरीक्षण के बाद समस्या का हल करेंगे। करीब आधा घंटे तक आक्रोशित लोगों जलसंकट की परेशानी बताई। इस दौरान आश्वासन मिलने के बाद सभी लोग निगम से चले गए।

अवैध कनेक्शन को लेकर अभियान चलाएंगे

अवैध नल कनेक्शन बंद करने के लिए अभियान शुरू करेंगे। गुरुवार को इस संबंध में अधिकारियों की बैठक लेंगे। अनिल भौसले, महापौर

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Burhanpur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 500 से ज्यादा रसूखदारों ने राइजिंग लाइन में डाल रखा अवैध कनेक्शन, नहीं मिल रहा पानी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Burhanpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×