बारिश से देरी, सुबह 11 बजे के बाद शहर में पहुंचीं 100 प्रतिमाएं

Burhanpur News - भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर रिमझिम बारिश के बीच शहर में आठ घंटे देरी से चल समारोह की शुरुआत हुई। हर साल रात 12 से 1...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 07:01 AM IST
Burhanpur News - mp news 100 statues arrived in the city after 11 am delayed by rain
भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

रिमझिम बारिश के बीच शहर में आठ घंटे देरी से चल समारोह की शुरुआत हुई। हर साल रात 12 से 1 बजे के बीच प्रतिमाएं शहर में आ जाती हैं लेकिन इस साल बारिश होने से सुबह 9 बजे के बाद प्रतिमाएं शहर में जमा होने लगी। 11 बजे के बाद शहर में 100 से भी ज्यादा बड़ी प्रतिमाएं पहुंचीं। ढोल-ताशों की थाप और डीजे के भक्ति गीतों पर युवा जमकर झूमे। व्यायामशाला के सदस्यों ने भी लेझिम खेला। गुलाल के राजा शहर में आए तो इतना गुलाल उड़ाया गया कि सड़कें भी इससे भर गई।

बड़ी प्रतिमाओं के देरी से आने के कारण विसर्जन में भी लंबा समय लगा। रात 8 बजे तक प्रतिमाएं शहर से बाहर नहीं जा पाई थी। ताप्ती नदी का जलस्तर बढ़ने से भी विसर्जन में सावधानी बरती जा रही है। एक समय में सिर्फ दो प्रतिमाओं को ही छोटे पुल पर भेजा गया। विसर्जन के दौरान पुल पर ज्यादा लोगों का आवागमन प्रतिबंधित किया गया।

खतरे के निशान के पास बह रही ताप्ती, बचाव के लिए होमगार्ड तैनात

ताप्ती नदी के पुराने पुल पर विसर्जन के दौरान नदी खतरे के निशान के पास से बह रही थी। ताप्ती का जलस्तर 219.980 मीटर है, जो खतरे के निशान से 0.820 मीटर कम है। सुरक्षा की दृष्टि से होमगार्ड की एक टीम नदी में ही नाव बांधकर ठहरी रही। बचाव के लिए रस्सी से बांधकर हवा भरे ट्यूब पानी में छोड़े गए थे। साथ ही रेस्क्यू बोट भी तैनात रखी गई थी।

शहर के आधे हिस्से में 12 घंटे बंद रही बिजली

चल समारोह के कारण शहर के अाधे हिस्से मे बिजली बंद रखी गई। शहर में कई जगह बिजली के तार काफी नीचे हैं, ऊंची प्रतिमाओं के गुजरने के समय इनके टकराने और टूटने का डर रहता है। इसलिए सावधानी रखते हुए बिजली बंद रखी गई लेकिन रात तक प्रतिमाओं के शहर में ही रहने से परेशानी हुई। 12 घंटे से भी ज्यादा समय तक बिजली चालू नहीं की जा सकी।

ताप्ती नदी खतरे के निशान के पास बह रही इसलिए दो प्रतिमाओं का ही एक समय विसर्जन।

गोराड़िया में भी भक्ति भाव से किया प्रतिमाओं का विसर्जन

नेपानगर |
ग्राम गोराड़िया में गणेशोत्सव धूमधाम से मनाया गया। इस दौरान गुरुवार को गांव में चल समारोह निकाला गया। इसने पूरे गांव में भ्रमण किया। इसमें श्रद्धालु जमकर झूमते-गाते शामिल हुए। शाम को प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया। वहीं लगातार 10 दिन तक गणेश पंडालों में आरती-पूजा होती रही।

पहला पुरस्कार किसे मिले, इस पर हुई कहासुनी, दूसरे दिन दो झांकियों को दिया पहला नंबर

नेपानगर | कांट्रेक्टर कॉलोनी की धारा 370 पर बनाई झांकी और अशोक सम्राट नगर की चंद्रयान- 2 पर बनाई गई झांकी को लेकर निर्णायकों में संशय की स्थिति रही। दोनों ही झांकी देश के ज्वलंत मामलों पर बनी थी। इसलिए रात में पहला इनाम किसे दें यह तय नहीं हो पाया। इसको लेकर कुछ देर के लिए कहासुनी भी हुई। यही कारण रहा कि निर्णायकों ने दोनों ही झांकियों का निर्णय पेंडिंग कर दिया। दूसरे दिन दोनों झांकियों को एक-एक नंबर दिया गया। दूसरा पुरस्कार एमजी नंबर वार्ड क्रमांक 20 की पर्यावरण पर बनी झांकी को मिला। तीसरा पुरस्कार भवानी नगर वार्ड की त्रिशूल पर बनाई गई झांकी को दिया गया। पुरस्कार वितरण नगर पालिका द्वारा किया गया।

सार्वजनिक स्थानों की 200 से अधिक प्रतिमाएं हुईं चल समारोह में शामिल

शहर में 450 से ज्यादा सार्वजनिक स्थानों पर गणेश प्रतिमाएं स्थापित की गई थी। इनमें से लगभग 200 प्रतिमाएं चल समारोह में शामिल हुई। शुक्रवार सुबह 9 बजे के बाद कमल चौक से गांधी चौक, फव्वारा चौक, बाईसाहब की हवेली, पांडुमल चौराहा से राजपुरा तक प्रतिमाओं की लंबी कतार लगी रही।

अनुच्छेद 370, चंद्रयान-2 की झांकी को सबने सराहा, दोनों रहे प्रथम

नेपानगर |
गणेशोत्सव के दौरान गुरुवार रात शहर में झिलमिलाती झांकियों का कारवां निकला। यह शहर के विभिन्न क्षेत्रों से होता हुआ नेहरू स्टेडियम पहुंचा। यहां झांकियों के संचालकों को पुरस्कृत किया गया। पहला पुरस्कार कांट्रेक्टर कॉलोनी द्वारा धारा 370 जैसे ज्वलंत मुद्दे पर बनाई गई झांकी और अशोक सम्राट नगर द्वारा चंद्रयान 2 पर बनाई गई झांकी को मिला।

शहर में गणेश प्रतिमा विसर्जन का सिलसिला गुरुवार देर रात चला। बड़ी प्रतिमाओं को गणेश उत्सव समितियों सदस्यों ने नगर पालिका द्वारा बनाए गए कुंड में विसर्जित किया। शहर में गणेशोत्सव के समापन पर पांच झांकियां निकाली गई। कांट्रेक्टर काॅलोनी द्वारा धारा 370 पर झांकी बनाई गई। जबकि अशोक सम्राट नगर ने चंद्रयान 2 की झांकी बनाई। एमजी नगर वार्ड क्रमांक 20 द्वारा पर्यावरण पर झिलमिलाती झांकी बनाई गई। इस दौरान नगर पालिका अध्यक्ष राजेश चौहान, उपाध्यक्ष वैशाली पाटील, नेता प्रतिपक्ष गेंदालाल मौर्य, विधायक प्रतिनिधि संजय टोरानी, सुजीत पाटील, पार्षद सुरेश सोनवणे, प्रकाश खांडेकर, ज्ञानेश्वर महाजन, प्रदीप दवे, सुनीता सपकाले ने झांकियों को पुरस्कृत किया।

अनुच्छेद 370 पर बनी झांकी की सराहना की। इनसेट में चंद्रायान-2 पर बनाई गई झांकी सराही गई।

Burhanpur News - mp news 100 statues arrived in the city after 11 am delayed by rain
Burhanpur News - mp news 100 statues arrived in the city after 11 am delayed by rain
Burhanpur News - mp news 100 statues arrived in the city after 11 am delayed by rain
Burhanpur News - mp news 100 statues arrived in the city after 11 am delayed by rain
Burhanpur News - mp news 100 statues arrived in the city after 11 am delayed by rain
X
Burhanpur News - mp news 100 statues arrived in the city after 11 am delayed by rain
Burhanpur News - mp news 100 statues arrived in the city after 11 am delayed by rain
Burhanpur News - mp news 100 statues arrived in the city after 11 am delayed by rain
Burhanpur News - mp news 100 statues arrived in the city after 11 am delayed by rain
Burhanpur News - mp news 100 statues arrived in the city after 11 am delayed by rain
Burhanpur News - mp news 100 statues arrived in the city after 11 am delayed by rain
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना