विज्ञापन

3 नदियों से रोजाना हो रहा रेत का अवैध खनन, सरकारी कार्यों में हो रहा उपयोग

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2019, 04:06 AM IST

Burhanpur News - धुलकोट क्षेत्र में रेत का अवैध खनन किया जा रहा है। क्षेत्र की तीन बड़ी नदियों सहित नालों से अवैध रेत निकाली जा रही...

Nepanagar News - mp news illegal mining of sand being done daily by 3 rivers use in governmental work
  • comment
धुलकोट क्षेत्र में रेत का अवैध खनन किया जा रहा है। क्षेत्र की तीन बड़ी नदियों सहित नालों से अवैध रेत निकाली जा रही है। इस रेत का उपयोग सरकारी कार्यों सहित निजी कार्यों में किया जा रहा है। ट्रैक्टर-ट्राॅलियों से रेत परिवहन किया जा रहा है। सुबह से देरशाम तक अवैध खनन और परिवहन का सिलसिला चल रहा है। ग्रामीणों ने कहा कि सरकारी कार्यों के लिए ठेकेदारों द्वारा रेत खरीदने के बजाय अवैध खनन करवाया जा रहा है।

धुलकोट क्षेत्र में सुक्ता, बसाली और झिरपांजरिया में नदी है। ग्रामीणों ने बताया कि सुबह से अवैध खनन का सिलसिला शुरू हो जाता है। इसके लिए मजदूर लगाए गए हैं। मजदूर रेत निकालकर रखते हैं। एक ट्राॅली रेत निकलने पर इसका परिवहन किया जा रहा है। मजदूर रेत को छानकर रखते हैं। एक ट्राॅली में लगभग 30 घनमीटर रेत आती है। दिनभर में 20 से ज्यादा ट्रैक्टर-ट्राॅलियाें से रेत का परिवहन किया जा रहा है। यह रेत नदी और गांवों के आसपास ढेर लगाकर रखी गई है। सारी रेत ठेकेदारों द्वारा निकलवाई जा रही है। रेत के संबंध में किसी को जानकारी नहीं होती है। जरूरत पड़ने पर ढेर से रेत उठाकर निर्माण स्थल पर पहुंचाई जा रही है।

धुलकोट के पास जगह-जगह बड़ी मात्रा में रेत जमा कर रखी है।

अफसरों का ध्यान नहीं, ग्रामीण बोले- कार्रवाई करें

धुलकोट क्षेत्र में तीन पुलों सहित अन्य निर्माण कार्य किए जा रहे हैं। इसी जगह पर रेत पहुंचाई जा रही है। अब तक एक बार भी कार्रवाई नहीं हुई है। विभागीय अफसर निरीक्षण करें तो बड़ी मात्रा में अवैध रेत पकड़ी जा सकती है। ग्रामीणों ने कहा कि लगातार अवैध रेत खनन से नदियों में गड्ढे हो गए हैं। पर्यावरण को नुकसान के साथ ही राजस्व का लाखों रुपए का नुकसान हो रहा है। ट्रैक्टर-ट्राॅलियां चलने के कारण खेतों सहित गांवों के रास्ते खराब हो रहे हैं। अधिकांश रास्ते कच्चे हैं। बीच गांवों से होकर ट्रैक्टर-ट्राॅली गुजरने से हादसे का अंदेशा रहता है।

ग्रामीण बोले- माफियाओं को नेताओं का संरक्षण

ग्रामीणों ने कहा कि अवैध रेत खनन माफियाओं को नेताओं का संरक्षण मिल रहा है। इसलिए कार्रवाई नहीं हो रही है। खुले तौर पर अवैध खनन किया जा रहा है। मिलीभगत होने के कारण ही खुलेआम अवैध रेत का परिवहन किया जा रहा है।

देड़तलाई, नेपानगर क्षेत्र में भी नहीं रूक रहा अवैध खनन

देड़तलाई और नेपानगर क्षेत्र में ताप्ती नदी से भी रोजाना अवैध खनन किया जा रहा है। राजस्व विभाग ने एक महीने पहले बड़ी मात्रा में रेत जब्त की थी। इसके बाद कोई कार्रवाई नहीं की गई। इस कारण माफियाओं ने फिर से अवैध खनन शुरू कर दिया है। नेपानगर और देड़तलाई क्षेत्र में नदी में लगभग 30 किमी के दायरे में अवैध खनन किया जा रहा है। इनके पास किसी तरह की रॉयल्टी नहीं होती है। देड़तलाई क्षेत्र से रेत महाराष्ट्र और खंडवा ले जाई जा रही है।

निंबोला क्षेत्र में किसानों ने की है वीडियो रिकार्डिंग

निंबाेला क्षेत्र के किसानों ने कहा कि अवैध खनन को रोकने के लिए अफसरों को शिकायतें की लेकिन कार्रवाई नहीं की जा रही है। अवैध रेत परिवहन का वीडियो और फोटो लेकर सबूत जुटाए हैं। किसानों ने कहा कि इसकी जानकारी होने के बाद भी राजस्व विभाग के अफसर जांच नहीं कर रहे हैं। क्षेत्र में अवैध खनन बंद होना चाहिए।

X
Nepanagar News - mp news illegal mining of sand being done daily by 3 rivers use in governmental work
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन