मोरटक्का पुल : इंदौर के लिए सिर्फ 10 बसें चली

Burhanpur News - 100 किमी का फेरा लगाकर जाने से ढाई घंटे का समय ज्यादा लग रहा, किराया भी 100 रुपए ज्यादा भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर ...

Sep 13, 2019, 07:00 AM IST
100 किमी का फेरा लगाकर जाने से ढाई घंटे का समय ज्यादा लग रहा, किराया भी 100 रुपए ज्यादा

भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

इंदौर-इच्छापुर हाईवे पर नर्मदा पर बना मोरटक्का का पुल पिछले चार दिन से बंद है। इस कारण इंदौर के लिए सीधी बस सुविधा भी ठप पड़ी है। खरगोन रूट से बसों का संचालन होने के कारण समय और किराया ज्यादा लग रहा है। ऐसे में बसों में कम ही यात्री सफर कर रहे हैं। यही कारण है कि जिले से इंदौर के लिए िसर्फ 10 बसें ही चल रही हैं। इनमें भी पर्याप्त यात्री नहीं मिल रहे हैं। आमतौर पर जिले से इंदौर के लिए 58 बसें चलती हैं।

रविवार रात को नर्मदा नदी पर ओंकारेश्वर में बने बांध के गेट खोले जाने के बाद नदी का जलस्तर बढ़ गया था। इसके बाद सुरक्षा के मद्देनजर हाईवे के मोरटक्का पुल से आगवामन बंद कर दिया गया। सोमवार सुबह से बुरहानपुर के लिए सीधी बस सुविधा बंद है। बसें खरगोन होते हुए इंदौर आ-जा रही हैं। वर्ष 2013 के बाद ऐसी स्थिति बनी है, जब मोरटक्का पुल से आवागमन बंद करना पड़ा हो।

साढ़े सात घंटे और 300 रुपए लग रहा किराया : पहले बुरहानपुर से इंदौर तक 180 किमी का सफर पांच घंटे में होता था, लेकिन रूट बदलने से करीब 100किमी का फेरा लगाना पड़ रहा है। ऐसे में ढाई घंटे का समय ज्यादा लग रहा है। इंदौर पहुंचने में ही साढ़े सात घंटे लग रहे हैं। ऐसे में लोग जरूरत पढ़ने पर सफर कर रहे हैं। किराया भी 200 के बजाय 300 रुपए लग रहा है। बस संचालकों ने बताया पहले हर आधे घंटे में इंदौर के लिए बस जाती थी। लेकिन अब यात्रियों की संख्या इतनी कम हो गई है कि डेढ़ घंटे में एक बस इंदौर के लिए निकल रही है।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना