50 किमी की रफ्तार पर मिनी ट्रक का स्टेयरिंग हुअा जाम, ऐपे को टक्कर मारी, तीन की मौत, सात घायल

Burhanpur News - भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर/निंबोला इंदौर-इच्छापुर हाईवे ने शुक्रवार को तीन और जान ले ली। बुरहानपुर से इंदौर...

Sep 14, 2019, 07:02 AM IST
भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर/निंबोला

इंदौर-इच्छापुर हाईवे ने शुक्रवार को तीन और जान ले ली। बुरहानपुर से इंदौर जा रहे 50 किमी की रफ्तार से दौड़ रहे मिनी ट्रक का अचानक स्टेयरिंग जाम हो गया। ड्राइवर ने संभालने की कोशिश की, लेकिन ट्रक रांग साइड में जाकर सामने से आ रहे ऐपे से जा टकराया। इससे ऐपे में सवार दो लोगों की मौके पर मौत हो गई। एक घायल ने देर शाम निजी अस्पताल में दम तोड़ा। हादसे में सात लोग घायल हुए हैं। मरने वालों में 60 वर्षीय वृद्धा महाराष्ट्र की रहने वाली है। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि ऐपे पूरी तरह चकनाचूर हो गया। हादसा दोपहर 2.30 बजे रईपुरा के पास पुलिया पर हुआ।

ऐपे एमपी-68 आर-0845में बैठकर नौ लोग निंबोला से बुरहानपुर की ओर जा रहे थे। रईपुरा के पास सामने से आ रहे मिनी ट्रक एमपी-13 जीए-7510ने गलत साइड से आकर ऐपे को टक्कर मार दी। मिनी ट्रक के ड्राइवर ने बताया इस दौरान ट्रक की रफ्तार 50 किमी प्रति घंटा थी। अचानक स्टेयरिंग जाम हो गया। ऐसे में सामने से आ रहे ऐपे से टक्कर हो गई। टक्कर की आवाज इतनी तेज थी जैसे कुछ फटा हो। इसे सुनकर ग्रामीण दौड़कर मौके पर पहुंचे। ऐपे में फंसे घायलों को निकाला। इसमें करोनिया फाल्या निवासी अमरसिंह पिता कालू (35) और महाराष्ट्र के फैजपुर निवासी मासूमबाई पति अल्लाबख्श (60) की मौके पर ही मौत हो गई। मगरूल निवासी दुर्गाबाई चंदन (30) ने बुरहानपुर के निजी अस्पताल में शाम करीब 7 बजे दम तोड़ा। मासूमबाई रिश्तेदार के यहां निंबोला आई थी। रामसिंह और दुर्गाबाई बुरहानपुर जा रहे थे। हादसे के बाद मिनी ट्रक और ऐपे पिचक कर चिपक गए। ट्रक ड्राइवर को निकालने के लिए ग्रामीणों को ट्रक पीछे खींचना पड़ा।

निजी वाहन से घायलों को अस्पताल पहुंचाया

एक एंबुलेंस गंभीर घायलों को जिला अस्पताल लेकर गई। रोड पर तीन अन्य घायल पड़े थे। उन्हें अस्पताल ले जाने के लिए लोगों ने एक निजी वाहन को रोका और अस्पताल भिजवाया। अस्पताल में डॉ. धवल ने रामसिंह और मासूमबाई को मृत घोषित कर दिया। इधर बुरहानुपर के निजी अस्पताल में दुर्गाबाई ने दम तोड़ दिया।

हाईवे का सफर कितना खतरनाक हम ऐसी तस्वीर नहीं छापते लेकिन घटना की भयावहता दिखाना भी जरूरी

मृतक : अमरसिंह पिता कालू (35)

मृतक : दुर्गाबाई चंदन (30)

घायल : संजू पिता सोबरिया (15)

हादसे में ये हुए घायल : ऐपे में सवार निंबोला निवासी सोनी पिता फराज (12), मुस्कान पिता रफीक (15), शाफजान पति रफीक (36), हसीना पति फरान (40), इरफान पिता मथा (27), संजू पिता सोबरिया (15) और इंदौर निवासी ट्रक ड्राइवर नीरज कोली घायल हुए हैं। मुस्कान की जांघ और संजू के पैर की हड्डी टूट गई है।

ग्रामीणों ने की मदद : आठ फीट गहरे पानी में भी घायलों को ढूंढा

हादसा होते ही रईपुरा के ग्रामीण मौके पर पहुंचे। हाईवे की पुलिया पर ही हादसा हुआ। नीचे नाले में आठ फीट तक पानी है। सभी घायल बदहवास थे। ऐपे में बैठे किसी घायल के पानी में गिरने की शंका के चलते ग्रामीणों ने पानी में भी उनकी तलाश की। आधा घंटा ढूंढने के बाद भी वहां कोई नहीं मिला। ग्रामीणों काे डर था कि हादसे में कोई पानी में न डूब गया हो।

टक्कर इतनी जोरदार थी की ऑटो के परखच्चे उड़ गए। पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से मलबे को सड़क से हटाया।

सबकुछ इतना जल्दी हुआ कि ब्रेक नहीं लगा पाया

मिनी ट्रक के ड्राइवर नीरज कोली ने बताया वह इंदौर से गैस सिलेंडर लेकर बुरहानपुर डिलेवरी देने आया था। माल खाली करने के बाद वापस लौट रहा था। हाईवे पर अचानक स्टेयरिंग जाम हो गया और ट्रक तेजी से एक ओर चला गया। सब इतनी जल्दी हुआ कि ब्रेक भी नहीं लगा पाया। मुझे पैर में अंदरूनी चोट लगी है। हादसे में मेरी कोई गलती नहीं है। ट्रक की जांच होगी तो सब सामने आ जाएगा।

ड्यूटी चार्ट पर हस्ताक्षर कर चले गए कर्मचारी

जिला अस्पताल में अव्यवस्थाओं से घायल परेशान हुए। दोपहर 2 बजे के बाद अस्पताल में इमरजेंसी में संजय चंदेल, विनोद महाजन, शिवलाल निकम की ड्यूटी थी। सभी कर्मचारी ड्यूटी चार्ट पर हस्ताक्षर कर चले गए। जब घायलों को लाया गया तो सुबह की ड्यूटी कर रहे जितेंद्र नायदे और धीरज ने इलाज में परिजन की सहायता की। दो घंटे बीतने के बाद भी कर्मचारी अस्पताल नहीं पहुंचे।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना