सांकेतिक भाषा में विद्यार्थियों को सिखा रहे अक्षर ज्ञान, ताकि विपरीत परिस्थितियों में काम आ सके

Burhanpur News - भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर विपरीत परिस्थितियों में अपनी या किसी अन्य व्यक्ति की जान को खतरे से बाहर निकालने...

Dec 08, 2019, 09:00 AM IST
Burhanpur News - mp news syllable language is being taught to students in sign language so that it can be used in adverse situations
भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

विपरीत परिस्थितियों में अपनी या किसी अन्य व्यक्ति की जान को खतरे से बाहर निकालने के लिए प्राथमिक स्कूल के विद्यार्थी सांकेतिक भाषा में अक्षर ज्ञान सीख रहे हैं। स्कूल छूटने पर अतिरिक्त आधा घंटा प्रधान पाठक पढ़ा रहे हैं। फोफनार के ग्राम दहीहंडी में प्राथमिक स्कूल। जहां प्रधान पाठक डिंगबर पवार सांकेतिक भाषा में अक्षर ज्ञान दे रहे हैं। प्रधान पाठक पवार ने कहा- आए दिन टीवी, समाचार पत्रों में ऐसी घटनाएं पढ़ने को मिलती है, जिसमें मौका मिलने पर भी खुद को किसी भी परिस्थिति में बचाने में नाकाम रहते हंै। इसको ध्यान में रखते हुए मैंने विद्यार्थियों को सांकेतिक रूप से पढ़ाने का प्रयास शुरू किया है। करीब छह महीने से हर रोज आधा घंटा अतिरिक्त पढ़ा रहा हूं। इसमें सबसे पहले मैंने सांकेतिक रूप से बच्चाें के नाम पूछे। एक महीने तक विद्यार्थियों को समझने में मुश्किल हुई। उसके बाद से अब उन्हें अक्षरों का ज्ञान होने लगा है। करीब छह महीने से उन्हें सामान्य ज्ञान का अक्षर ज्ञान दे रहा हूं।

नेता, मंत्री, अफसरों के नाम पूछता हूं। इससे पहले बता देता हूं कि नेता या अफसर का नाम बताना। ये ध्यान में रखकर विद्यार्थी आसानी से सांकेतिक अक्षर झट से बता देते हंै। ये नवाचार यदि हर स्कूल में कराया जाए तो विद्यार्थियों में पढ़ने में रूचि भी आएगी। मैं जो पढ़ा रहा हूं, उसे खेल-खेल में विद्यार्थी घर पर भी अपने परिजन से सांकेतिक भाषा में बात करते हंै। इससे उनका अक्षर ज्ञान मजबूत होगा और पढ़ाई में मन लगेगा।

स्कूल में प्रधान पाठक विद्यार्थियों को सांकेतिक भाषा में पढ़ा रहे।

X
Burhanpur News - mp news syllable language is being taught to students in sign language so that it can be used in adverse situations
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना