विधायक ने कलेक्टर को पत्र लिखा, कहा- नपा को मिलने वाला जमीन आवंटन रोका जाए

Burhanpur News - नगर पालिका को हाल ही में नेपा लिमिटेड ने 360 एकड़ जमीन हस्तांतरित की हैै। इसके बाद सभी को शहर के विकास की आस बंधी थी,...

Feb 15, 2020, 08:40 AM IST

नगर पालिका को हाल ही में नेपा लिमिटेड ने 360 एकड़ जमीन हस्तांतरित की हैै। इसके बाद सभी को शहर के विकास की आस बंधी थी, लेकिन अब मामले में नया पेंच आ गया है। नगर पालिका को जमीन देने से नेपानगर विधायक सुमित्रा कास्डेकर नाराज हैं। उन्होंने कलेक्टर राजेशकुमार कौल को पत्र लिखकर कहा है कि जमीन वन विभाग की है, इसे नगर पालिका को कैसे हस्तांतरित किया जा सकता है। राज्य सरकार को कोई स्कूल, मंडी या अस्पताल भवन सहित अन्य निर्माण कार्य कराना होंगे तो क्या नगर पालिका से जमीन मांगी जाएगी। वहीं इसको लेकर संयुक्त कलेक्टर शैली कनास ने नेपानगर एसडीएम विशा माधवानी को पत्र लिखकर इस संबंध में जानकारी उपलब्ध कराने को कहा है।

विधायक कास्डेकर ने कलेक्टर को लिखे पत्र में कहा है जमीन हस्तांतरण करने से पहले यह देखना चाहिए था कि नेपा लिमिटेड ने यह जमीन वन विभाग से लीज पर ली थी। इसे वापस वन विभाग या राजस्व विभाग को लौटाया जाना चाहिए था। जमीन को लेकर वन विभाग की ओर से नेपा लिमिटेड पर जबलपुर हाईकोर्ट और अन्य न्यायालयों में कितने मुकदमे चल रहे हैं, इनका निराकरण कौन करेगा। विधायक ने कहा शासन की महत्वपूर्ण योजनाओं के जमीन की आवश्यकता होगी तो क्या शासन स्थानीय संस्था नगर पालिका से जमीन की मांग करेगा। ऐसे में नगर पालिका द्वारा जमीन की स्वीकृति नहीं देने पर शासन की महत्वपूर्ण योजनाएं अधर में लटकी रहेंगी। जबकि जमीन नगर पालिका की नहीं वन और राजस्व विभाग की हैै।

क्षेत्र में यह है जमीनी हकीकत

मंडी का निर्माण- नेपानगर में वर्षों से कृषि उपज उप मंडी नहीं है। पूर्व मंत्री तनवंतसिंह कीर के समय एक भवन मंडी के नाम पर बना था, लेकिन आज यह खंडहर हो चुका है। तब से लेकर आज तक इस भवन की ओर किसी ने ध्यान नहीं दिया। वर्तमान विधायक सुमित्रा कास्डेकर ने भी मंडी भवन के लिए कोई घोषणा या प्रस्ताव पारित नहीं कराया है।

स्कूल भवनों का निर्माण- नेपानगर सहित आसपास के ग्रामीण क्षेत्र में स्कूल भवनों की कोई कमी नहीं है। आलम यह है कि कई जगह आवश्यकता से अधिक भवन बने हुए हैं। लेकिन जहां आवश्यकता है, वहां भवन स्वीकृत ही नहीं कराया जाता। न ही जनप्रतिनिधि इस समस्या की सुध ले रहे हैं।

अस्पताल का निर्माण- वर्षों से नगर का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र समस्याओं से जूझ रहा है। कुछ महीने पहले विधायक ने विधायक निधि से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में डाॅक्टर कक्ष बनाने की घोषणा की थी। लेकिन इसको लेकर आज तक कुछ नहीं हो सका है। इसके लिए कोई राशि भी अब तक नहीं आई है।

रिकार्ड निकलवाने को भी कहा

विधायक ने पत्र में कलेक्टर से कहा है जमीन हस्तांतरण मामले में आप व्यक्तिगत रूचि लेते हुए वन विभाग की जमीन वन विभाग को और राजस्व विभाग की जमीन राजस्व विभाग को लौटाने की कार्रवाई करें। जमीन का रिकार्ड भी निकलवाएं। संयुक्त कलेक्टर की ओर से एसडीएम से पूरे मामले की जानकारी मांगी है।

विधायक बोलीं- यह जमीन वन विभाग की है

सात नंबर गेट के पास भी नेपा लिमिटेड से नगर पालिका को मिली है जमीन।

जानिए... नपा को किस-किस क्षेत्र में मिली जमीन

रेलवे कॉलोनी, राजीव नगर के नीचे पुलिया तक, गेस्ट हाउस के पीछे अतिक्रमित क्षेत्र और गिट्‌टी खदान क्षेत्र, प्रेमनगर, मातापुर बाजार क्षेत्र रेलवे गेट से बैंक ऑफ इंडिया और एसबीआई के पीछे से बी-टाइप आवास के पीछे से नगर पालिका तक। नदी किनारे पूरे पांधार क्षेत्र से रेलवे लाइन होते हुए रेलवे गेट तक, इसमें राम मंदिर, कांट्रेक्टर कॉलोनी, व्यापारी कॉलोनी शामिल है। मस्जिद क्षेत्र, बुद्ध मंदिर क्षेत्र, ई- टाइप के पीछे का हिस्सा। मराठी स्कूल के पीछे पहाड़ी क्षेत्र सम्राट अशोक नगर, संजय नगर क्षेत्र, विट्‌ठल मंदिर पहाड़ी से बुद्ध विहार पहाड़ी तक दोनों ओर की जमीन। उर्दू स्कूल के पास शास्त्री नगर, बुद्ध विहार पहाड़ी, मस्जिद पहाड़ी, सरस्वती शिशु मंदिर, भवानी माता मंिदर, पहाड़ी व सड़क किनारे की गुमटियां और मकान होते हुए बीड़ कॉलोनी स्थित भीलट बाबा सड़क तक पहाड़ी के दोनों ओर का हिस्सा। एमपीईबी कॉलोनी से रेलवे लाइन ब्रिज के पास तक फोकटपुरा।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना