--Advertisement--

कलाकारों ने केशरी महाराज के अभिनय से किया जीवंत

शिल्पग्राम मे मंगलवार की शाम महाबली छत्रसाल नाटक का मंचन किया गया। महाराजा छत्रसाल स्मृति शोध संस्थान छतरपुर के...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:00 AM IST
शिल्पग्राम मे मंगलवार की शाम महाबली छत्रसाल नाटक का मंचन किया गया। महाराजा छत्रसाल स्मृति शोध संस्थान छतरपुर के लिए शिवेंद्र शुक्ला के निर्देशन में निर्मित इस नाट्य प्रस्तुति को दक्षिण मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, नागपुर, संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार के संयोजन में मासिक नाट्य प्रस्तुति श्रृंखला के अंतर्गत शिल्पग्राम के मुक्ताकाशी मंच पर प्रदर्शित किया गया।

बुंदेलखंड की धरती को मुग़ल सल्तनत की गुलामी से मुक्त कराने का बीड़ा महाराज छत्रसाल ने उठाया और बुंदेली युवाओं में मातृभूमि के प्रति जोश भरकर गुलामी से मुक्त कराया। चम्पतराय के घर जन्म लेने से लेकर स्वतंत्र बुंदेली रियासत की स्थापना, बुंदेली सामंतों व क्षत्रपालों के आपसी मनमुटाव मिटाकर उन्हें मातृभूमि के प्रति एकजुट करना, प्रजा का उचित न्याय करना, गुरु महामति प्राणनाथ से आशीर्वाद प्राप्त करना, मराठा छत्रपति शिवाजी महाराज से भेंट कर बुंदेलखंड की स्वतंत्रता के लिए सहयोग एवं आशीर्वाद प्राप्त करना। पेशवा बाजीराव से मित्रता इत्यादि प्रसंगों का सजीव मंचन किया गया। कलाकारों ने अपने अभिनय से जनता के समक्ष बुंदेलखंड की संस्कृति का शौर्य कालखंड उपस्थित कर दिया अनेक बुंदेली संवादों पर मंच क्षेत्र तालियों से गूंज गया।

बालक छत्रसाल की भूमिका जयादित्य प्रताप सिंह ने एवं युवा छत्रसाल की भूमिका अंकुर यादव ने निभाई। खबास की भूमिका में सुभाष अहिरवार ने दर्शकों को खूब गुदगुदाया। कार्यक्रम का शुभारंभ मध्यप्रदेश सूचना आयुक्त आत्मदीप एवं छतरपुर नगरपालिका अध्यक्ष अर्चना सिंह ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया । इस मौके पर विद्यााभारती के प्रांत प्रमुख पवन तिवारी, खजुराहो पर्यटन क्षेत्र विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष डॉ. घासीराम पटेल, राजनगर नगर परिषद अध्यक्ष रचना पटेरिया सहित अनेक गणमान्य विशेष रूप से मौजूद रहे।

मंचन

खजुराहो के शिल्पग्राम में दक्षिण मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र नागपुर के संयोजन में हुआ मंचन

खजुराहो। बुंदेलकेशरी महाराजा छत्रसाल नाटक का मंचन करते कलाकार।