Hindi News »Madhya Pradesh »Chhatarpur» 15 स्कूलों की मान्यता नवीनीकरण का आवेदन न करने पर नोटिस जारी

15 स्कूलों की मान्यता नवीनीकरण का आवेदन न करने पर नोटिस जारी

मिली गड़बड़ी, तो हो सकता है आपराधिक प्रकरण दर्ज भास्कर संवाददाता। छतरपुर शिक्षा व्यवस्था में गड़बड़ियों को लेकर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:15 AM IST

मिली गड़बड़ी, तो हो सकता है आपराधिक प्रकरण दर्ज

भास्कर संवाददाता। छतरपुर

शिक्षा व्यवस्था में गड़बड़ियों को लेकर जिला हमेशा ही सुर्खियों में रहा है। अब निजी स्कूलों की मान्यता को लेकर मामला सामने आया है। इसमें लोक शिक्षण संचालनालय ने जिला शिक्षा अधिकारी को 4 सालों में मान्यता नवीनीकरण के लिए ऑनलाइन आवेदन नहीं करने वाले स्कूलों की जानकारी भेजने को कहा, तो डीईओ ने फिर दस्तावेज खंगाले, जिसमें 15 स्कूल ऐसे सामने आए, जिन्होंने चार साल से नवीनीकरण के लिए ऑनलाइन आवेदन ही नहीं किया, ताे मान्यता की बात अलग है।

लोक शिक्षण संचालनालय के आयुक्त नीरज दुबे ने पत्र जारी करते हुए कहा है कि इन निजी स्कूलों की जानकारी एमपी ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से एकत्र की जा रही है। यदि भविष्य में यह स्कूल की मान्यता या माध्यमिक शिक्षा मंडल से संबद्धता निरंतर करने के इच्छुक है, तो वह एमपी ऑनलाइन पोर्टल डीईओ से जानकारी सत्यापित कराकर अपलोड करें। उन्होंने यह भी कहा कि यदि इन स्कूलों द्वारा यदि पोर्टल पर सत्यापित कराकर जानकारी अपलाेड नहीं की जाती है, तो मान्यता समाप्त करते हुए माशिमं को पत्र लिखा जाएगा।

इन स्कूलों की सूची डीईओ

ने की जारी

चार साल से मान्यता का नवीनीकरण न कराते हुए यह स्कूल संचालित है, जिनकी सूची विभाग द्वारा जारी की गई है। इसमें इंद्रा हाईस्कूल नौगांव, आदर्श हाईस्कूल मनवारा छतरपुर, वीएन हाईस्कूल मुड़ेरा, लक्ष्मीबाई हाईस्कूल सुकवा, ग्रामोदय हाईस्कूल ईश्वरपुरवा पहरा, बुंदेलखंड हायर सेकंडरी स्कूल ललपुर, गुरुकुल हाईस्कूल सटई रोड छतरपुर, ओम सरस्वती विद्या मंदिर भंडर छतरपुर, श्रीबीपी दीक्षित हाईस्कूल नौगांव, शिवम हाईस्कूल सरवई, वीडेंट हाईस्कूल छतरपुर, अटल ज्योति ऐविल इंग्लिश स्कूल और एके मॉडल हाईस्कूल बसारी सहित दो अन्य स्कूल शामिल है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Chhatarpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×