--Advertisement--

बेसहारा और अनाथ बच्ची को मिल रहा कई माताओं का प्यार

गुलगंज गांव की कस्तूरी स्वसहायता समूह की अनीता जो स्वयं दूसरों के यहां खाना बनाकर अपने परिवार का भरण-पोषण करती है।...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:20 AM IST
बेसहारा और अनाथ बच्ची को मिल रहा कई माताओं का प्यार
गुलगंज गांव की कस्तूरी स्वसहायता समूह की अनीता जो स्वयं दूसरों के यहां खाना बनाकर अपने परिवार का भरण-पोषण करती है। वह अपने गांव में कुछ दिन से एक मानसिक रूप से विक्षिप्त महिला को देखा, जिसके साथ तकरीबन 6 वर्ष की बच्ची दिन भर इधर-उधर भटकती रहती थी। जिसको न खाने का होश और न ही रहने का ठिकाना।

अनीता की ममता उस दिन जाग गई जब उसने उस मासूम बच्ची को लोगों का झूठा खाना खाते देखा। अनीता के मन में ख्याल आया कि इस बच्ची का क्या होगा। इस बात को लेकर वह सारी रात इसी ख्याल में डूबी रही और सुबह होते ही वह उस बच्ची के पास पहुंच गई। उसे अपने घर लाई, नहलाकर अपनी बच्ची के कपड़े पहनाए व खाना खिलाया। अनीता ने यह बात अपने स्वसहायता समूह की बैठक में बताई। सबने उसके कार्य की सराहना करते हुए कहा कि अब यह बच्ची सभी सदस्यों की है। कम्यूनिटी मोबिलाइजर प्रमोद कटारे के सहयोग से समूह की महिलाओं ने निर्णय लिया कि बच्ची हर दिन बारी-बारी से समूह सदस्यों के यहां खाना खाएगी और उसकी सादी की जिम्मेदारी भी समूह सदस्यों की होगी। इस समूह को और सबलता तब मिली जब कृष्णा स्वसहायता समूह का भी साथ मिल गया। सभी ने मिलकर बच्ची के नाम से बैंक में बचत खाता खुलवाया है। जिससे की उसकी पढ़ाई-लिखाई हो सके। वर्ष 2010 में दोनों समूह, लोकेशन समन्वयक उमाशंकर रिछारिया व प्रमोद कटारे बच्ची का नाम स्कूल में दर्ज करवाने गए। पर बच्ची के माता-पिता के नाम की जानकारी नहीं होना एक समस्या बनकर खड़ी हो गई। तब सभी समूह सदस्यों ने कहा कि हम 24 सदस्यों का नाम इसकी माता के रूप में दर्ज कर दीजिए। वहीं इस बच्ची का नाम दर्षना रखा गया और स्कूल में नाम दर्ज हुआ।

X
बेसहारा और अनाथ बच्ची को मिल रहा कई माताओं का प्यार
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..