विज्ञापन

वन अभयारण्य में नियमों को ताक पर रख देर रात चली सीरियल की शूटिंग / वन अभयारण्य में नियमों को ताक पर रख देर रात चली सीरियल की शूटिंग

Bhaskar News Network

Dec 09, 2018, 04:06 AM IST

Chhatarpur News - पर्यटन नगरी ओरछा के ऐतिहासिक स्मारक और प्राकृतिक सौंदर्य फिल्म व सीरियल निर्माताओं को खूब भा रहा है। कई हॉलीवुड...

ORCHHA News - in the forest sanctuary keep the rules in mind shooting late night serial
  • comment
पर्यटन नगरी ओरछा के ऐतिहासिक स्मारक और प्राकृतिक सौंदर्य फिल्म व सीरियल निर्माताओं को खूब भा रहा है। कई हॉलीवुड और बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग के बाद शुक्रवार को ओरछा में स्टार भारत चैनल पर जल्द प्रसारित होने वाले सीरियल एक थी रानी एक था रावण की शूटिंग बेतवा नदी किनारे बुंदेला राजाओं की छतरियों में शुरू की गई।

वन्य अभयारण्य में इस सीरियल की शूटिंग हालांकि एक दिन की थी, लेकिन यह शूटिंग काफी विवादों में रही। ओरछा के वन्य अभयारण्य में नियमों को दरकिनार कर सीरियल की शूटिंग की गई। जिस पर जिम्मेदारों ने भी ध्यान नहीं दिया। इस संबंध में जब वन विभाग के डीएफओ चंद्रशेखर से बात की तो उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ नहीं है। हां परमिशन सुबह 8 से शाम 5 बजे तक की दी गई थी, लेकिन एपीसोड की शूटिंग पूरी न होने के कारण काम कुछ देर ज्यादा हुआ। उन्होंने बताया कि शूटिंग के दौरान किसी तरह से वन्य प्राणियों को नुकसान नहीं पहुंचाया गया। जो भी अफवाह उड़ाई जा रही हैं वह गलत हैं। चर्चा यह भी है कि ड्रोन कैमरे के उपयोग से कुछ पक्षी भी मर गए हैं। हालांकि वन विभाग के अधिकारियों ने इस बात को सिरे से नकारा है। जबकि ओरछा के रहने वाले राम नरेश कहते हैं कि ड्रोन कैमरे का उपयोग करने से जहां छोटे पक्षी टकराए हैं। वहीं जानवरों ने रात में अपने आशियाने छोड़ कर दौड़ लगा दी। पेरोनेमा प्रोडक्शन के बैनर तले निर्माता हेमंत रुपरेख व निर्देशक रोहित गोयल के निर्देशन में बनाए जा रहे इस धारावाहिक की शूटिंग तीन दिनों तक ओरछा के मुख्य बाजार, महलों, बेतवा नदी किनारे स्थित राजाओं की छत्ररियों में होगी।

क्या कहना है जानकारों का : जंतुविज्ञान के प्रोफेसर डॉ. सुमित बनर्जी कहते हैं सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन के अनुसार वन अभयारण्य में किसी तरह के कोलाहल की स्वीकृति देना गैरकानूनी है। कोलाहल से अभयारण्य में रह रहे पक्षी और जानवरों पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। खासकर के रात के समय में इस तरह की अगर घटनाएं होती हैं, तो है पक्षियों जानवरों के लिए ठीक नहीं है। वहीं डीएफओ चंद्रशेखर सिंह के अनुसार फिल्म के कलाकारों द्वारा वन्य अभयारण्य को किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाया गया।

X
ORCHHA News - in the forest sanctuary keep the rules in mind shooting late night serial
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543
विज्ञापन