प्रदेश के 378 नगरीय निकायों में से 143 अब ओडीएफ नहीं; दोबारा हुए सर्वे में 23 शहर विफल, 120 निकायों ने तो आवेदन ही नहीं किया : जिंदल

Chhatarpur News - प्रदेश के सभी 378 नगरीय निकायों ने एक बार फिर ओडीएफ का सर्टिफिकेट ले लिया, लेकिन ये निकाय अब उसे बरकरार रखने में रुचि...

Bhaskar News Network

Sep 13, 2019, 07:10 AM IST
DEREE News - mp news 143 out of 378 urban bodies in the state no longer odf 23 cities failed in the resumed survey 120 bodies have not even applied jindal
प्रदेश के सभी 378 नगरीय निकायों ने एक बार फिर ओडीएफ का सर्टिफिकेट ले लिया, लेकिन ये निकाय अब उसे बरकरार रखने में रुचि नहीं ले रहे हैं। मौजूदा स्थिति में 143 शहर ओडीएफ नहीं हैं। इनमें से 23 दोबारा हुए सर्वे में फेल हो गए, जबकि 120 ने इसके लिए आवेदन ही नहीं किया। यह बात केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय के ज्वाइंट सेक्रेटरी वीके जिंदल ने राजधानी में आयोजित एक वर्कशॉप में कही। जिंदल ने कहा कि केंद्र सरकार ने स्वच्छ भारत मिशन के लिए मप्र को दिए 721 करोड़ रुपए, लेकिन निकायों ने अब तक 163 करोड़ रुपए की डिमांड नहीं भेजी है। जिंदल ने कहा कि पिछले सर्वे में मप्र की रैंकिंग देशभर में चौथे नंबर पर थी।

अब ओडीएफ के लिए 90% शौचालय निर्माण जरूरी : पत्रकारों से चर्चा में जिंदल ने कहा कि मप्र स्वच्छ भारत मिशन की राशि का उपयोग करने में नंबर एक पर है। जिंदल ने कहा कि ओडीएफ का क्राइटेरिया बदल गया है। अब 90% शौचालयों का निर्माण हुए बिना ओडीएफ नहीं देंगे।

संसाधनों का उपयोग नहीं कर पा रहे शहर : दुबे

नगरीय विकास एवं आवास विभाग के पीएस संजय दुबे ने कहा कि कई शहर संसाधनों का पूरा उपयोग नहीं कर रहे हैं। हमने सभी शहरों की मौजूदा स्थिति की फोटोग्राफी कराई है। नॉन रिसाइकलेबल प्लास्टिक का निष्पादन अब भी एक चुनौती बना हुआ है। दुबे ने यहां तक कहा कि सफाई नगरीय निकायों का पहला दायित्व है। अन्य कार्य निकाय भले न करें, लेकिन उन्हें सफाई तो करना ही होगी। नगर निगम आयुक्त बी विजय दत्ता ने भोपाल में किए जा रहे नवाचारों का प्रेजेंटेशन दिया।

सगीर बोले - कमिश्नर मेरा फोन नहीं उठाते

कार्यशाला में नेता प्रतिपक्ष मो. सगीर ने निगमायुक्त बी. विजय दत्ता पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘मैं माफी के साथ कहना चाहूंगा कि कृपया करके हमारा फोन उठा लिया करें। हम पर्सनल काम के लिए तो फोन लगाते नहीं।

जयवर्धन बोले- स्वच्छ भारत मिशन के लिए मिलेगी ज्यादा राशि

मैं भोपाल-इंदौर की रैंकिंग से ही खुश होने वाला नहीं, पूरे प्रदेश की रैंकिंग नंबर वन आना चाहिए

भोपाल| नगरीय निकायों को सबसे अधिक राशि स्वच्छ भारत मिशन के लिए मिलेगी, लेकिन प्रदेश की ओवरऑल रैंकिंग नंबर वन आना चाहिए। स्वच्छ भारत का मुद्दा किसी राजनीतिक दल से नहीं आम आदमी से जुड़ा है। यह बात नगरीय विकास एवं आवास मंत्री जयवर्धन सिंह ने वर्कशॉप में कही। उन्होंने आवारा पशु मुक्त होने वाले पहले शहर को एक करोड़ रुपए का पुरस्कार देने पर विचार करने की बात भी कही।

सिंह झाबुआ में अायोजित एक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद शाम को कार्यशाला में पहुंचे। उन्होंने कहा कि सिर्फ भोपाल और इंदौर की रैंकिंग से ही मैं खुश होने वाला नहीं हूं। स्वच्छता अभियान में टेक्नाेलॉजी का पूरा उपयोग करें। शहर के तालाबों और नालों की सफाई भी करें। शहरों में घूमने वाली उपेक्षित गायों को गोशालाओं में भेजें। उन्होंने कहा कि स्वच्छता अभियान में सफाईकर्मियों का योगदान सराहनीय है। उनकी मांगों पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है। इस अवसर पर स्पॉट फाइन के लिए नगर निगम के 200 सफाई दरोगा को पीओएस मशीन दी गई।

भोपाल को नंबर एक बनाने मिलकर काम करेंगे : महापौर आलोक शर्मा भी भाजपा के घंटानाद कार्यक्रम में व्यस्त थे। वे भी कार्यशाला में देरी से पहुंचे। उन्होंने कहा कि भोपाल को नंबर एक का शहर बनाने के लिए सभी लोग मिलकर काम करेंगे। उन्होंने स्वच्छता पाठशाला और रोको-टोको अभियान के बारे में भी बताया।

शान गाएंगे मप्र का स्वच्छता गान, साथ देंगे जावेद अली

भोपाल| बॉलीवुड के प्रसिद्ध गायक शान मप्र की स्वच्छता की ‘शान’ सभी लोगों को सुनाएंगे। स्वच्छता के लिए बने स्टेट थीम सॉन्ग को शान ने आवाज दी है। इसमें उनका साथ जावेद अली सहित तीन अन्य सिंगर ने दिया है। जल्द ही इसकी लॉन्चिंग होगी। नगरीय प्रशासन ने स्वच्छता की थीम पर 4 गाने बनवाए हैं। एक गाने में पूरे प्रदेश को शामिल किया है और अन्य गीत इंदौर व जबलपुर को ध्यान में रखते हुए तैयार किए जा रहे हैं। भोपाल का गाना तैयार होकर लॉन्च हो गया है। स्टेट थीम सॉन्ग में शान के साथ जावेद अली, पायल देव व देव नेगी की आवाज भी सुनाई देगी। जबलपुर को छोड़कर अन्य तीन गानों में शान की आवाज है। इन सभी गीतों के गीतकार एवं संगीतकार ऋषिकिंग हैं। गीतों के साथ वीडियो भी तैयार किए हैं। स्टेट थीम सॉन्ग में भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर, उज्जैन सहित अन्य स्थानों के वीडियो शूट शामिल हैं। गौरतलब है कि स्वच्छता को लेकर जागरुकता और फैलाने के लिए ये गीत बनवाए गए हैं। भोपाल को लेकर बना स्वच्छता गीत बुधवार को ही कार्यशाला में लॉन्च किया गया है। ये गीत कचरा उठाने वाली गाड़ियों में सुनाई देगा। इसकी थीम है ‘स्वच्छता की राजधानी है भोपाल घर मेरा’।

DEREE News - mp news 143 out of 378 urban bodies in the state no longer odf 23 cities failed in the resumed survey 120 bodies have not even applied jindal
X
DEREE News - mp news 143 out of 378 urban bodies in the state no longer odf 23 cities failed in the resumed survey 120 bodies have not even applied jindal
DEREE News - mp news 143 out of 378 urban bodies in the state no longer odf 23 cities failed in the resumed survey 120 bodies have not even applied jindal
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना