एएनएम बाेलीं- वे क्षेत्र की अवसादग्रस्त महिलाओं का सहारा बनेंगी

Chhatarpur News - राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के सभाकक्ष में गुरुवार को विश्व आत्महत्या निषेध दिवस के अंतर्गत कार्यक्रम हुए। जिसमें...

Bhaskar News Network

Sep 13, 2019, 07:05 AM IST
Chhatarpur News - mp news anm bali they will become the support of depressed women of the region
राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के सभाकक्ष में गुरुवार को विश्व आत्महत्या निषेध दिवस के अंतर्गत कार्यक्रम हुए। जिसमें 37 एएनएम सम्मिलित हुईं। सभी एएनएम ने कहा कि वह अपने कार्य क्षेत्र में खासकर महिलाओं में जो अवसाद ग्रस्त हैं उनका सहारा बनेगी, उनकी काउंसलिंग करेंगी।

कार्यक्रम के दौरान डीपीएम आरपी खरे ने कहा कि एएनएम और आशा कार्यकर्ताओं को अपने काम के दबाव से बचने के लिए खुद को प्रसन्न रखने अल्पविराम जैसी गतिविधियों से जुड़ा रहना चाहिए। पूरे प्रदेश में छतरपुर जिले में ही एएनएम को अल्पविराम प्रशिक्षण दिया गया है। इसके बाद स्वास्थ्य सेवाओं में प्रदेश की रैंक 14 से तीन तक आ गई है। मास्टर ट्रेनर लखनलाल असाटी ने बताया कि सही समय पर छोटा सा भी हस्तक्षेप एक जीवन को बचा सकता है। लोगों के बीच जागरुकता बढ़ाना और बातचीत को प्रोत्साहित करना महत्वपूर्ण कदम है। एक अच्छा दोस्त एक अच्छा श्रोता बनकर समस्या को सुनकर इस दिशा में अपनी भूमिका का निर्वहन कर सकता है।शांत समय लेने के बाद निवार बकस्वाहा में पदस्थ एएनएम मेहनाज, रमा धूरिया और कुसुम सिरोठिया ने भी अपने विचार व्यक्त किया। लखन लाल असाटी ने बल्ब आदि का आविष्कार करने वाले प्रसिद्ध वैज्ञानिक थॉमस अल्बा एडीशन के बचपन की कहानी सुनाई कि किस तरह उन्हें उनकी शरारतों और पढ़ाई न करने के कारण स्कूल से बाहर कर दिया गया था।

उनकी मां ने निराश हुए बगैर एडीशन को घर में पढ़ाया और वह दुनिया के महान वैज्ञानिक हुए। उन्होंने कहा कि 10 सितंबर को इंटरनेशनल एसोसिएशन फॉर सुसाइड प्रिवेंशन द्वारा विश्व आत्महत्या निषेध दिवस का आयोजन किया जाता है। अध्यात्म विभाग के अपर मुख्य सचिव मनोज श्रीवास्तव ने राज्य आनंद संस्थान के आनंदकों के सहयोग से प्रदेश के 18 जिलों में 15 सितंबर तक जागरुकता कार्यक्रम के तहत गतिविधियां संचालित करने के लिए कहा। प्रत्येक जिले के लिए एक-एक संपर्क व्यक्ति नामित किया है।

जानकारी के अनुसार आत्महत्या के शिकार लोगों में सबसे ज्यादा गृहणियां हैं। इसके बाद क्रमश: रोज कमाने खाने वाले लोग, खेती किसानी से जुड़े लोग, बेरोजगार छात्र आदि वर्ग के लोग आते हैं। आत्महत्या के बड़े कारणों में पारिवारिक समस्या, बीमारी, शादी से जुड़े मुद्दे शामिल हैं।

छतरपुर। अात्महत्या निषेध दिवस पर हुअा कार्यक्रम।

X
Chhatarpur News - mp news anm bali they will become the support of depressed women of the region
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना