बजरंग गढ़ मंदिर में विधि-विधान से हुई श्रीराम भक्त लक्ष्मणजी की प्राण-प्रतिष्ठा

Chhatarpur News - माता बंबरबैनी पर्वत पर स्थित बजरंगगढ़ मंदिर में विधि-विधान से पूजन अर्चन के साथ श्रीराम भक्त एवं उनके अनुज लक्ष्मण...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 08:20 AM IST
Lovekush Nagar News - mp news life status of shriram bhakta laxmaji who came from law and order in bajrang garh mandir
माता बंबरबैनी पर्वत पर स्थित बजरंगगढ़ मंदिर में विधि-विधान से पूजन अर्चन के साथ श्रीराम भक्त एवं उनके अनुज लक्ष्मण जी की प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा हुई। माता बंबरबैनी विकास समिति एवं माता बंबरबैनी तत्काल विकास समिति के संयोजकत्व में यह 3 दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किया गया। पहले दिन नगर में गाजे बाजे के साथ शोभायात्रा निकाली गई। श्री लक्ष्मण जी बग्गी पर सवार होकर निकले, सैकड़ों उत्साही भक्त गण जयकारे लगाते हुए एवं भजनों की धुन पर थिरकते हुए निकले। दूसरे दिन मंदिर में संगीतमय अखंड रामधुन शुरू हुई। इसके साथ ही विद्वान आचार्यों के मार्गदर्शन में लक्ष्मण जी महाराज का पूजन अर्चन किया गया, जलवास, अन्नवास, फल-फूल वास कराया गया। हजारा भरा गया, श्रद्धालुओं ने हजारा में जलार्पण किया। तीसरे दिन सुबह से यज्ञ, हवन के साथ महाराज लक्ष्मण जी की प्रतिमा को सिंहासन पर विराजमान किया गया। सुबह से कन्या भोज एवं भंडारा हुआ। जिसमें सैकड़ों श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया। कार्यक्रम देर शाम तक चला। शाम को भजन संध्या में क्षेत्रीय कलाकारों ने अपने भजनों की प्रस्तुतियां दीं। इस आयोजन में गिरधारी लाल पाठक और माधव प्रसाद पाठक सहित मौके पर दोनों समितियों के पदाधिकारी, सदस्य एवं समाजसेवी मौजूद रहे।

मंदिर में पूजन अर्चन कर स्थापित की गई श्रीलक्ष्मण जी की मूर्ति

भास्कर संवाददाता। लवकुशनगर

माता बंबरबैनी पर्वत पर स्थित बजरंगगढ़ मंदिर में विधि-विधान से पूजन अर्चन के साथ श्रीराम भक्त एवं उनके अनुज लक्ष्मण जी की प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा हुई। माता बंबरबैनी विकास समिति एवं माता बंबरबैनी तत्काल विकास समिति के संयोजकत्व में यह 3 दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किया गया। पहले दिन नगर में गाजे बाजे के साथ शोभायात्रा निकाली गई। श्री लक्ष्मण जी बग्गी पर सवार होकर निकले, सैकड़ों उत्साही भक्त गण जयकारे लगाते हुए एवं भजनों की धुन पर थिरकते हुए निकले। दूसरे दिन मंदिर में संगीतमय अखंड रामधुन शुरू हुई। इसके साथ ही विद्वान आचार्यों के मार्गदर्शन में लक्ष्मण जी महाराज का पूजन अर्चन किया गया, जलवास, अन्नवास, फल-फूल वास कराया गया। हजारा भरा गया, श्रद्धालुओं ने हजारा में जलार्पण किया। तीसरे दिन सुबह से यज्ञ, हवन के साथ महाराज लक्ष्मण जी की प्रतिमा को सिंहासन पर विराजमान किया गया। सुबह से कन्या भोज एवं भंडारा हुआ। जिसमें सैकड़ों श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया। कार्यक्रम देर शाम तक चला। शाम को भजन संध्या में क्षेत्रीय कलाकारों ने अपने भजनों की प्रस्तुतियां दीं। इस आयोजन में गिरधारी लाल पाठक और माधव प्रसाद पाठक सहित मौके पर दोनों समितियों के पदाधिकारी, सदस्य एवं समाजसेवी मौजूद रहे।

8 दिवसीय श्रुत संवर्धन संस्कार शिविर मे बच्चों को देव शास्त्र एवं गुरू पूजन के बारे मे बताया

भास्कर संवाददाता|घुवारा

नगर के श्री दिगंबर जैन बड़ा मंदिर परिसर में 8 दिवसीय श्रुत संवर्धन संस्कार शिक्षण शिविर आयोजित किया जा रहा है। शिविर के तीसरे दिवस पर सांगानेर जयपुर से आए पं अनुज शास्त्री व पं विवेक जैन शास्त्री और स्थानीय विद्वान पं अनीश शास्त्री ने बच्चों से पहले भगवान का अभिषेक कराया। उसके बाद सभी बच्चों ने देव शास्त्र गुरू की पूजन किया। इसके बाद द्रव्य प्रदाता वैद्य विजय कुमार जैन, पं अनीश शास्त्री ने बताया कि बच्चों में संस्कारों का होना बहुत जरूरी है। क्योकि संस्कारों से ही बच्चों का भविष्य उज्जवल बनता है। उन्होंने बच्चों को णमोकार मंत्र का महत्व बताया और 4 कषायों के बारे में समझाते हुए कहा कि कभी कषायों को नहीं करना चाहिए। कषायो को करने से कर्मो का बंध होता है, इससे हमें दूर रहना चाहिए। गुरुवार को वैद्य संजय जैन शिक्षक ने सभी शिविरार्थी बच्चों को स्वल्पाहार कराया। इस शिविर का संचालन अजय कांत जैन शास्त्री एवं संजय जैन जबलपुरी द्वारा किया जा रहा है। शिविर में शाम करीब 4 बजे से महिलाओं भक्तामर की कक्षा लगाई जाती है। जिसमे बड़ी संख्या में महिलाएं बढ़चढ़ कर भाग ले रही हैं। शाम 7 बजे से 8 बजे तक छहढाला की कक्षा लगाई गई। इसके बाद महिलाओं के बीच अनेक प्रतियोगिताएं हुई।

घुवारा। कार्यक्रम मे मौजूद महिलाएं और बच्चियां।

भास्कर संवाददाता|घुवारा

नगर के श्री दिगंबर जैन बड़ा मंदिर परिसर में 8 दिवसीय श्रुत संवर्धन संस्कार शिक्षण शिविर आयोजित किया जा रहा है। शिविर के तीसरे दिवस पर सांगानेर जयपुर से आए पं अनुज शास्त्री व पं विवेक जैन शास्त्री और स्थानीय विद्वान पं अनीश शास्त्री ने बच्चों से पहले भगवान का अभिषेक कराया। उसके बाद सभी बच्चों ने देव शास्त्र गुरू की पूजन किया। इसके बाद द्रव्य प्रदाता वैद्य विजय कुमार जैन, पं अनीश शास्त्री ने बताया कि बच्चों में संस्कारों का होना बहुत जरूरी है। क्योकि संस्कारों से ही बच्चों का भविष्य उज्जवल बनता है। उन्होंने बच्चों को णमोकार मंत्र का महत्व बताया और 4 कषायों के बारे में समझाते हुए कहा कि कभी कषायों को नहीं करना चाहिए। कषायो को करने से कर्मो का बंध होता है, इससे हमें दूर रहना चाहिए। गुरुवार को वैद्य संजय जैन शिक्षक ने सभी शिविरार्थी बच्चों को स्वल्पाहार कराया। इस शिविर का संचालन अजय कांत जैन शास्त्री एवं संजय जैन जबलपुरी द्वारा किया जा रहा है। शिविर में शाम करीब 4 बजे से महिलाओं भक्तामर की कक्षा लगाई जाती है। जिसमे बड़ी संख्या में महिलाएं बढ़चढ़ कर भाग ले रही हैं। शाम 7 बजे से 8 बजे तक छहढाला की कक्षा लगाई गई। इसके बाद महिलाओं के बीच अनेक प्रतियोगिताएं हुई।

Lovekush Nagar News - mp news life status of shriram bhakta laxmaji who came from law and order in bajrang garh mandir
X
Lovekush Nagar News - mp news life status of shriram bhakta laxmaji who came from law and order in bajrang garh mandir
Lovekush Nagar News - mp news life status of shriram bhakta laxmaji who came from law and order in bajrang garh mandir
COMMENT