दस साल पहले मृत किसान की जमीन गिरवी रख िनकाला लोन; नोटिस पहुंचे, परिजन परेशान

Chhatarpur News - थाना से लेकर कलेक्टर तक को शिकायतें दर्ज कराईं पर नहीं हो रही कोई कार्रवाई भास्कर संवाददाता | छतरपुर शहर की...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 07:05 AM IST
Chhatarpur News - mp news loan mortgaged ten years ago by mortgaging the land of a deceased farmer notice reached family worried
थाना से लेकर कलेक्टर तक को शिकायतें दर्ज कराईं पर नहीं हो रही कोई कार्रवाई

भास्कर संवाददाता | छतरपुर

शहर की विजया बैंक शाखा (वर्तमान नाम बैंक आफ बड़ौदा) में केसीसी (किसान क्रेडिट कार्ड) लोन घोटाला सामने आया है। बैंक के अधिकारियों ने साजिशकर्ताओं से मिलीभगत करके गड़बड़ी की है। कूंढ़ गांव के किसानों के फर्जी पहचान पत्र बनाए गए। इसके बाद किसानों की जमीन बैंक में गिरवी रखकर लोन निकाल लिया। इतना ही नहीं दस साल पहले मृत हो चुके किसान के नाम पर भी केसीसी लोन स्वीकृत करके राशि हड़प ली गई है। अब इन कर्जदार किसानों के पास बैंकों से वसूली के नोटिस पहुंच रहे हैं। नोटिस पहुंचने के बाद से किसान परेशान हैं। पुलिस थाने से लेकर कलेक्टोरेट तक शिकायतें की गई हैं। पर इन शिकायतों पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है।

विजया बैंक शाखा छतरपुर में वर्ष 2017 के दौरान केसीसी लोन स्वीकृत किए गए हैं। इस दौरान ब्रांच मैनेजर रहे अनिल सिंह ने यह सभी केसीसी स्वीकृत किए हैं। अब कर्ज वसूली के नोटिस पहुंचने से किसान परेशान हैं। परेशान किसानों ने जानकारी जुटाई तो धोखाधड़ी सामने आ गई। कूंड़ गांव में 5 किसानों से गांव के ही दो युवकों ने बैंक मैनेजर से मिलकर राशि की वसूली की है। किसानों ने गांव के ही दो युवकों प्रेमनारायण पटेल और सुनील पटेल पर फर्जी पहचान पत्र बनाकर धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया है। इसके बाद मैनेजर से मिलीभगत करके राशि का आहरण कर लिया। अब परेशान किसान शिकायतें कर रहे हैं। लेकिन कोई अधिकारी उनकी सुनने काे तैयार नहीं है।

सुनवाई नहीं हुई तो पहुंचे न्यायालय : कूंढ़ गांव के किसान हीरा लाल पाल की दस साल पहले मौत हो गई थी। जमीन अब भी हीरालाल पाल के नाम पर ही दर्ज है।

हीरा पाल का बेटा बैजनाथ पाल अनपढ़ चरवाहा है। गांव के सुनील पटेल और प्रेम नारायण पटेल ने साजिश के तहत हीरा लाल के स्थान पर बैजनाथ पाल की फोटो लगवाकर एक फर्जी परिचय पत्र बनवाया। फिर हीरालाल के नाम से बैंक में खाता खुलवाया। इसके बाद हीरालाल की जमीन पर केसीसी स्वीकृत करा लिया। राशि बैंक खाते में आने के बाद साजिशकर्ताओं ने चेक बुक निकलवाई, चेक पर बैजनाथ से अंगूठा लगवाकर राशि का आहरण कर लिया। अब बैजनाथ के घर पर बैंक से राशि की वसूली के लिए नोटिस पहुंचने से वह परेशान है। पीड़ित किसान ने इस मामले में पुलिस प्रशासन और बैंक अधिकारियों को शिकायतें की। कोई कार्रवाई नहीं होने पर उसने अपने वकील शिव प्रताप सिंह के माध्यम से नौगांव न्यायालय में धोखाधड़ी को लेकर याचिका दायर की है। वकील शिवप्रताप सिंह ने बताया कि न्यायालय में करीब 2.50 लाख रुपए की धोखाधड़ी का केस उन्होंने दायर कर दिया है।

किसान के परिचय पत्र पर दूसरे की लगाई फोटो, 2 लाख 33 हजार का नोटिस

धोखाधड़ी का एक अन्य मामला कूड़ गांव के ही किसान भागचंद पटेल के साथ हुआ। साजिशकर्ताओं ने भागचंद के नाम से फर्जी परिचय पत्र बनवाया लेकिन इस परिचय पत्र में फोटो मूल किसान के बजाए प्रेमनारायण की दर्ज करा दी। साजिशकर्ता प्रेमनारायण बैंक शाखा में भागचंद बनकर पेश होता रहा। उन्होंने मैनेजर के साथ मिलीभगत करके भागचंद के जमीन के दस्तावेजों पर केसीसी लोन स्वीकृत करा लिया। अब भागचंद के पास 2 लाख 33 हजार रुपए की वसूली का नोटिस पहुंच गया है। इस कारण किसान परेशान है। किसान को बैंक के अधिकारी किसी भी प्रकार की जानकारी नहीं दे रहे हैं। न ही प्रशासन की ओर से किसी भी प्रकार की कोई कार्रवाई की जा रही है।

जवाब देने से बच रहे बैंक के अधिकारी

यह सभी केस पूर्व ब्रांच मैनेजर अनिल सिंह ने मंजूर किए हैं। वे ही इस गड़बड़ी के लिए जिम्मेदार है। वर्तमान में वे कर्नाटक में पदस्थ हैं। इस संबंध में अनिल सिंह ने स्वीकार किया कि भागचंद पटेल और हीरालाल पाल के केस उनकी मौजूदगी में ही स्वीकृत किए गए हैं। गड़बड़ी के संबंध में पूछे गए सवालों के संबंध में उनका कहना है कि सारे जवाब तो बैंक शाखा से ही मिल सकते हैं। अब वे वहां नहीं हैं इस कारण से याद नहीं है। वहीं वर्तमान शाखा प्रबंधक कुलदीप कुमार का कहना है कि वे कुछ भी जानकारी देने के लिए अधिकृत नहीं है। इस कारण कुछ नहीं कह सकते।

गांव के कई लोगों के साथ हुई है धोखाधड़ी

कूड़ गांव में ही कई किसानों के साथ धोखाधड़ी करके लोन पर राशि निकाल ली गई है। अब किसान बैंक के सामने कर्जदार बन गए हैं। इस कारण से परेशान हैं। गांव के कुंजबिहारी, प्रभु पटेल और घप्पू पटेल के साथ भी धोखाधड़ी की गई है। इसके साथ ही विजया बैंक में ही लुगासी और ढिलापुर गांव में लोगों के नाम पर लोन स्वीकृत करके धोखाधड़ी की गई है।

छतरपुर। भागचंद्र पटेल।

Chhatarpur News - mp news loan mortgaged ten years ago by mortgaging the land of a deceased farmer notice reached family worried
X
Chhatarpur News - mp news loan mortgaged ten years ago by mortgaging the land of a deceased farmer notice reached family worried
Chhatarpur News - mp news loan mortgaged ten years ago by mortgaging the land of a deceased farmer notice reached family worried
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना