समाज फैसला: बच्चियों से घिनौनी हरकत करने वालों का होगा सामाजिक बहिष्कार, मृत्यु पर कब्रिस्तान में नहीं दी जाएगी जगह

Chhatarpur News - नगर में बीते दिनों हुई आपराधिक घटनाओं को गंभीरता से लेते हुए मुस्लिम समाज ने आगे आकर शहर में अमन शांति कायम रखने के...

Jun 14, 2019, 08:35 AM IST
Naugaon News - mp news society decision those who make abusive actions against girls will have social boycott death will not be given in the cemetery
नगर में बीते दिनों हुई आपराधिक घटनाओं को गंभीरता से लेते हुए मुस्लिम समाज ने आगे आकर शहर में अमन शांति कायम रखने के उद्देश्य से अपराधियों के खिलाफ सख्त कदम उठाते हुए उनका सामाजिक रूप से बहिष्कार करने का एेलान किया है। साथ ही उनके एवं परिवार के समाज में किसी भी कार्यक्रम में आने जाने पर पाबंदी लगाने का ऐलान किया। साथ ही भविष्य में ऐसी घिनौनी घटनाओं को रोकने के उद्देश्य से सामाजिक बहिष्कार के साथ ऐसे लोगों की मृत्यु पर नगर के कब्रिस्तान में भी जगह नहीं दिए जाने का सर्व सम्मति से निर्णय लिया गया। नगर की जामा मस्जिद में गुरुवार की सुबह पेश इमाम मौलाना मुनव्वर रजा कादरी के अध्यक्षता में मुस्लिम समाज की बैठक बुलाई गई। बैठक में पिछले दिनों शहर में हुई घिनौनी हरकत के बाद खराब हुए माहौल के बीच शहर में अमन शांति बनाए रखने के उद्देश्य से अहम फैसले लिए गए। बैठक में सर्वसम्मति से घिनौनी हरकतों के आरोपियों का सामाजिक बहिष्कार करते हुए उनके समाज में आने जाने पर पाबंदी लगाने का फैसला लिया। साथ ही निर्णय लिया कि ऐसी घिनौनी घटना से शहर को बचाने के लिए भविष्य में अगर किसी मुस्लिम समुदाय के व्यक्ति अथवा परिवार के द्वारा ऐसा निंदनीय कृत्य किया जाता है तो उसका सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा। इसके साथ ही मृत होने पर कब्रिस्तान तक में जगह नहीं दी जाएगी। पेश इमाम रजा कादरी ने कहा कि हमारी शरियत किसी भी बहन बेटी के साथ घिनौनी हरकत करने की इजाजत नहीं देती। इसके अलावा आपराधिक घटनाओं के पीछे कहीं न कहीं नशाखोरी का अहम योगदान है। शराब आदि नशा करने वाले युवाओं और उनके परिवार के खिलाफ भी सख्त कदम उठाने पर सहमति बनी। बैठक में जामा मस्जिद के पूर्व सदर बब्बू राईन ने कहा कि शहर की अमन शांति की मिसाल दी जाती है, इसको चंद खराब लोगों के चलते मिटने नहीं देंगे। इसलिए बैठक कर अहम फैसले लिए गए ताकि भविष्य में मुस्लिम समाज का कोई भी युवक किसी भी बहन बेटी के साथ घिनौनी हरकत न करें और अपने शहर की गंगा जमुनी तहजीब कायम रहे। कलीम खान ने आरोपियों की नमाजे जनाजा तक न पढ़ाने की बात कही।

मुस्लिम समाज के यह प्रतिनिधि रहे शामिल: इस दौरान पूर्व सदर बब्बू राईन, हाजी अशफाक अंसारी, हाजी नसीरुद्दीन, चुनना बेग, अजीज राईन, गुलाम सिद्दीकी, नसीम कुरैशी, सलीम घड़ी साज, निजाम बाबा, वसीम सैय्यद, ताहिर मंसूरी, इमरान खान, बंटी सुलेमान, सोहराब खान, अल्लू खान, रिजवान राईन, जाहिद कुरैशी, नईम कुरैशी, मुश्ताक, बजीर वारसी आिद मौजूद थे।

बच्चियों के साथ हो रही घटनाओं के खिलाफ मुस्लिम समाज ने की बैठक।

भास्कर संवाददाता। नौगांव

नगर में बीते दिनों हुई आपराधिक घटनाओं को गंभीरता से लेते हुए मुस्लिम समाज ने आगे आकर शहर में अमन शांति कायम रखने के उद्देश्य से अपराधियों के खिलाफ सख्त कदम उठाते हुए उनका सामाजिक रूप से बहिष्कार करने का एेलान किया है। साथ ही उनके एवं परिवार के समाज में किसी भी कार्यक्रम में आने जाने पर पाबंदी लगाने का ऐलान किया। साथ ही भविष्य में ऐसी घिनौनी घटनाओं को रोकने के उद्देश्य से सामाजिक बहिष्कार के साथ ऐसे लोगों की मृत्यु पर नगर के कब्रिस्तान में भी जगह नहीं दिए जाने का सर्व सम्मति से निर्णय लिया गया। नगर की जामा मस्जिद में गुरुवार की सुबह पेश इमाम मौलाना मुनव्वर रजा कादरी के अध्यक्षता में मुस्लिम समाज की बैठक बुलाई गई। बैठक में पिछले दिनों शहर में हुई घिनौनी हरकत के बाद खराब हुए माहौल के बीच शहर में अमन शांति बनाए रखने के उद्देश्य से अहम फैसले लिए गए। बैठक में सर्वसम्मति से घिनौनी हरकतों के आरोपियों का सामाजिक बहिष्कार करते हुए उनके समाज में आने जाने पर पाबंदी लगाने का फैसला लिया। साथ ही निर्णय लिया कि ऐसी घिनौनी घटना से शहर को बचाने के लिए भविष्य में अगर किसी मुस्लिम समुदाय के व्यक्ति अथवा परिवार के द्वारा ऐसा निंदनीय कृत्य किया जाता है तो उसका सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा। इसके साथ ही मृत होने पर कब्रिस्तान तक में जगह नहीं दी जाएगी। पेश इमाम रजा कादरी ने कहा कि हमारी शरियत किसी भी बहन बेटी के साथ घिनौनी हरकत करने की इजाजत नहीं देती। इसके अलावा आपराधिक घटनाओं के पीछे कहीं न कहीं नशाखोरी का अहम योगदान है। शराब आदि नशा करने वाले युवाओं और उनके परिवार के खिलाफ भी सख्त कदम उठाने पर सहमति बनी। बैठक में जामा मस्जिद के पूर्व सदर बब्बू राईन ने कहा कि शहर की अमन शांति की मिसाल दी जाती है, इसको चंद खराब लोगों के चलते मिटने नहीं देंगे। इसलिए बैठक कर अहम फैसले लिए गए ताकि भविष्य में मुस्लिम समाज का कोई भी युवक किसी भी बहन बेटी के साथ घिनौनी हरकत न करें और अपने शहर की गंगा जमुनी तहजीब कायम रहे। कलीम खान ने आरोपियों की नमाजे जनाजा तक न पढ़ाने की बात कही।

मुस्लिम समाज के यह प्रतिनिधि रहे शामिल: इस दौरान पूर्व सदर बब्बू राईन, हाजी अशफाक अंसारी, हाजी नसीरुद्दीन, चुनना बेग, अजीज राईन, गुलाम सिद्दीकी, नसीम कुरैशी, सलीम घड़ी साज, निजाम बाबा, वसीम सैय्यद, ताहिर मंसूरी, इमरान खान, बंटी सुलेमान, सोहराब खान, अल्लू खान, रिजवान राईन, जाहिद कुरैशी, नईम कुरैशी, मुश्ताक, बजीर वारसी आिद मौजूद थे।

फांसी देने की मांग को लेकर राष्ट्रपति को देंगे ज्ञापन

साथ ही सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि आरोपियों की वजह से मुस्लिम समाज की छवि खराब हुई है इसलिए मुस्लिम समाज उनका सामूहिक रूप से बहिष्कार करता है। साथ ही घिनौनी हरकत करने वाले आरोपियों को फांसी की सजा देने अथवा शरियत के क़ानून के मुताबिक सजा देने की मांग के चलते राष्ट्रपति, राज्यपाल के नाम ज्ञापन देने पर भी सहमति बनी।

भास्कर संवाददाता। नौगांव

नगर में बीते दिनों हुई आपराधिक घटनाओं को गंभीरता से लेते हुए मुस्लिम समाज ने आगे आकर शहर में अमन शांति कायम रखने के उद्देश्य से अपराधियों के खिलाफ सख्त कदम उठाते हुए उनका सामाजिक रूप से बहिष्कार करने का एेलान किया है। साथ ही उनके एवं परिवार के समाज में किसी भी कार्यक्रम में आने जाने पर पाबंदी लगाने का ऐलान किया। साथ ही भविष्य में ऐसी घिनौनी घटनाओं को रोकने के उद्देश्य से सामाजिक बहिष्कार के साथ ऐसे लोगों की मृत्यु पर नगर के कब्रिस्तान में भी जगह नहीं दिए जाने का सर्व सम्मति से निर्णय लिया गया। नगर की जामा मस्जिद में गुरुवार की सुबह पेश इमाम मौलाना मुनव्वर रजा कादरी के अध्यक्षता में मुस्लिम समाज की बैठक बुलाई गई। बैठक में पिछले दिनों शहर में हुई घिनौनी हरकत के बाद खराब हुए माहौल के बीच शहर में अमन शांति बनाए रखने के उद्देश्य से अहम फैसले लिए गए। बैठक में सर्वसम्मति से घिनौनी हरकतों के आरोपियों का सामाजिक बहिष्कार करते हुए उनके समाज में आने जाने पर पाबंदी लगाने का फैसला लिया। साथ ही निर्णय लिया कि ऐसी घिनौनी घटना से शहर को बचाने के लिए भविष्य में अगर किसी मुस्लिम समुदाय के व्यक्ति अथवा परिवार के द्वारा ऐसा निंदनीय कृत्य किया जाता है तो उसका सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा। इसके साथ ही मृत होने पर कब्रिस्तान तक में जगह नहीं दी जाएगी। पेश इमाम रजा कादरी ने कहा कि हमारी शरियत किसी भी बहन बेटी के साथ घिनौनी हरकत करने की इजाजत नहीं देती। इसके अलावा आपराधिक घटनाओं के पीछे कहीं न कहीं नशाखोरी का अहम योगदान है। शराब आदि नशा करने वाले युवाओं और उनके परिवार के खिलाफ भी सख्त कदम उठाने पर सहमति बनी। बैठक में जामा मस्जिद के पूर्व सदर बब्बू राईन ने कहा कि शहर की अमन शांति की मिसाल दी जाती है, इसको चंद खराब लोगों के चलते मिटने नहीं देंगे। इसलिए बैठक कर अहम फैसले लिए गए ताकि भविष्य में मुस्लिम समाज का कोई भी युवक किसी भी बहन बेटी के साथ घिनौनी हरकत न करें और अपने शहर की गंगा जमुनी तहजीब कायम रहे। कलीम खान ने आरोपियों की नमाजे जनाजा तक न पढ़ाने की बात कही।

मुस्लिम समाज के यह प्रतिनिधि रहे शामिल: इस दौरान पूर्व सदर बब्बू राईन, हाजी अशफाक अंसारी, हाजी नसीरुद्दीन, चुनना बेग, अजीज राईन, गुलाम सिद्दीकी, नसीम कुरैशी, सलीम घड़ी साज, निजाम बाबा, वसीम सैय्यद, ताहिर मंसूरी, इमरान खान, बंटी सुलेमान, सोहराब खान, अल्लू खान, रिजवान राईन, जाहिद कुरैशी, नईम कुरैशी, मुश्ताक, बजीर वारसी आिद मौजूद थे।

X
Naugaon News - mp news society decision those who make abusive actions against girls will have social boycott death will not be given in the cemetery
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना