पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Tikamgarh News Someone Sat On The Mausoleum In The Sun Goddesses And Kept Sitting In Mathematics Of Victory And Defeat Among The Soldiers

किसी ने अलसुबह देवालयों में माथा टेका तो कोई सिपहसालारों के बीच जीत-हार का गणित बैठाता रहा

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भाजपा उम्मीदवार अनिल जैन सुबह उठकर मंदिर गए। घर आकर नाश्ता किया। सुबह 8 बजते ही कार्यकर्ताओं का आना शुरु हो गया। चुनावी चर्चा का दौर चलता रहा। दिन में टीकमगढ़ चला गया। जहां चुनावी संबंधी बैठक में शामिल हुआ। देर शाम को वापस निवाड़ी आकर फिर कार्यकर्ताओं से मिला। परिवारजनों से चर्चा की।

Á 11 दिसंबर तक कहीं नहीं जाऊंगा : मैं तो हमेशा से क्षेत्र में ही रहता हूं। फिलहाल 11 दिसंबर तक कहीं जाने का इरादा नहीं है।

टीकमगढ़ | 28 नवंबर को मतदान होते ही प्रत्याशियों ने भाग-दौड़ से कुछ राहत महसूस की। वोटिंग के दूसरे दिन भास्कर ने विधानसभा क्षेत्रों के हर प्रत्याशी पर नजर रखी और उनसे बात की। कोई अलसुबह उठा तो किसी ने मार्निंग वॉक की तो कोई देरी से जागा। चर्चा में बताया कि हम नतीजे आने तक कार्यकर्ताओं के बीच रहेंगे तो किसी ने कहा ईवीएम जहां रखी गईं हैं वहां नजर रखेंगे।

सत्ता पर आसीन होने की उम्मीद रखने वाले हर प्रत्याशी की दिनचर्या पिछले एक दिन से कुछ अलग नजर आई।
पृथ्वीपुर विधानसभा ब्रजेंेंद्र ने मार्निंग वॉक की तो अभय सुबह से ही गांवों की ओर निकले
लोगों से मिलकर हालचाल पूछे : ब्रजेंद्र सिंह
कांग्रेस प्रत्याशी ब्रजेंद्र सिंह राठौर सुबह अपने नियमित समय से उठे। उठकर सबसे पहले अपने लान में मार्निंग वॉक किया। स्नान कर घर में बने मंदिर में पूजा अर्चना की। इसके बाद सुबह क कुनकुनी धूप में परिजनों के साथ बैठे और सभी के हालचाल पूछे। अन्यथा चुनावी व्यस्तता के कारण परिजनों के साथ बैठ ही नहीं पाते थे। फिर कार्यकर्ताओं से बात करते रहे।

Áमेरी को प्लानिंग नहीं : ब्रजेंद्र कहते हैं कि मतदान तो गया। अब सबसे अहम दिन का इंतजार है। चूंकि 11 दिसंबर को है। इस कारण कहीं बाहर जाने का कोई प्रोग्राम नहीं है।



मतगणना के लिए कार्यकर्ताओं के साथ बैठकर कार्य करेंगे। बाकी समय में क्षेत्र में जाकर कार्यकर्ताओं से भेंट करेगे। उनका उत्साह वर्धन भी करेंगे।

___

उसके बाद वह टीकमगढ़ में चुनाव संबंधी बैठक में भाग लेने के लिए रवाना हो गए। शाम को लौटकर फिर क्षेत्र से आए लोगों से मेल मुलाकात में जुट गए।

खरगापुर विधानसभा राहुल ने कहा-मैं बहुत थक गया हूं, चंदारानी की दिनचर्या वही पुरानी
मतदान का दूसरा दिन तो कार्यकर्ताओं के बीच निकल गया : राहुल
खरगापुर से भाजपा प्रत्याशी राहुल सिंह लोधी ने बताया कि प्रचार के दौरान काफी थम गया हूं। मतदान के दूसरा दिन तो कार्यकर्ताओं के बीच ही निकल गया। सुबह जल्दी उठा। पूजा-अर्चना की। परिवारजनों के साथ चर्चा की। फिर कलेक्टोरेट में मीटिंग में चला गया। शाम को फिर क्षेत्र के लोगों से मुलाकात की।

Á कोई प्लानिंग नहीं : मेरी कुछ भी प्लानिंग नहीं है। 11 दिसंबर को मतगणना के दिन की प्रतीक्षा है।

सुबह गांवों में निकल गए, फिर कार्यकर्ताओं से मिले : अभय
भाजपा प्रत्याशी डाॅ. अभय प्रताप सिंह यादव सुबह उठे और स्नान किया। इसके बाद गांवों का भ्रमण करने निकल गए। 11 बजे चुनाव संबंधी बैठक में सम्मिलित होने टीकमगढ़ रवाना हो गए। वहां से लौटने के बाद कार्यकर्ताओं के साथ बैठे। उनके साथ रायसुमारी की।

Á कार्यकर्ताओं के बीच रहेंगे : अभय का कहना है कि 11 दिसंबर तक जिले से बाहर जाने की कोई योजना नहीं है। क्षेत्र जाकर जनता से मिलेंगे। उनकी समस्याएं सुनेंगे।

पूरा दिन घर में बिताया, कार्यकर्ताओं से मिलीं : चंदारानी
कांग्रेस प्रत्याशी चंदारानी गौर ने मतदान के दूसरे दिन अपने निश्चित समय पर उठकर भगवान की पूजा अर्चना की। पूरे दिन कार्यकर्ताओं से घर पर मेल मुलाकात की। चुनाव संबंधी जानकारियां प्राप्त कीं।

Á कार्यकर्ताओं के साथ रहेंगे : आगामी 11 तारीख तक उनकी घर से बाहर जाने की कोई प्लानिंग नहीं है और वह लगातार कार्यकर्ताओं से संपर्क बनाए रखेंगी।

पूजा के बाद लोगों से चर्चा की : डॉ. शिशुपाल
सपा प्रत्याशी डाॅ. शिशुपाल यादव ने चुनाव के बाद गुरुवार को सुबह अपने नियमित काम निपटाए। टीवी देखी और न्यूज पेपर्स पर नजर डाली। इसके बाद नहाने चले गए। पूजा-अर्चना की, फिर लोगों से चर्चा करने में समय निकल गया। परिवार के लोगों से सलाह मशविरा किया। इसके बाद टीकमगढ़ में चुनाव संबंधी मीटिंग में भाग लेने चले गए।

Á कहीं घूमने का विचार नहीं : बैठक से लौटने के बाद उन्होंने बताया कि में उनका बाहर जाने का कोई प्रोग्राम नहीं है। वह नगर एवं ग्रामीण क्षेत्रों मे जाकर कार्यकर्ताओं एवं जनता से बातचीत करेंगे।

दोपहर में भरपूर नींद ली : अजय
खरगापुर विस क्षेत्र के बसपा प्रत्याशी अजय यादव ने मतदान के पश्चात दूसरे दिन पूरे दिन कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। दोपहर में भी नींद का भरपूर आनंद लिया और थकावट दूर की। उसके बाद कार्यकर्ताओं से मुलाकात जारी रखी।

Á रूटीन कार्य निपटाएंगे : फिलहाल आगामी 11 तारीख का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। अभी कहीं घूमने जाने का विचार नहीं है। इसके अलावा उनके जो रूटीन कार्य पेंडिंग डले हुए हैं उनको निपटाएंगे।

निवाड़ी विधानसभा दिनभर कार्यकर्ताओं से मिले : अनिल
टीकमगढ़ विस राकेश ने घर के काम निपटाए तो यादवेंद्र ने किया आराम
सुबह 11 बजे उठे, ग्रामीणों से मिले : राकेश

भाजपा प्रत्याशी राकेश गिरि सुबह 11 बजे उठे। स्नान किए। इसके बाद घर पर मिलने आए ग्रामीणों से चर्चा करने जुट गए। ग्रामीणों से चर्चा के दौरान ही सेविंग कराई। फिर नहाया। इसके बाद पूजा-अर्चना की। भोजन किया। फिर प|ी और बेटे और भाइयों के साथ बैठकर पारिवारिक मसले निपटाए। शाम को फिर मेल मुलाकात का सिलसिला जारी, जो रात तक चलता रहा

Á जनता के बीच ही रहूंगा : अभी तो 11 दिसंबर के दिन का इंतजार है। बाहर जाने का सभी प्रोग्राम निरस्त कर दिए हैं।

जतारा विधानसभा हरि ने पूजा की तो बंसल अपने पैतृक गांव गए
सुबह 5 बजे उठे, पूजन किया: हरिशंकर
भाजपा प्रत्याशी हरिशंकर खटीक रोज की तरह सुबह 5 बजे उठे। आधा घंटे तक पूजन किया। फिर चाय-नाश्ता में लग गए। अखबार पढ़े। इसके बाद कार्यकर्ता आ गए। उनसे मतदान के बारे में चर्चा की। पता ही नहीं चला कि 10 बज गए। फिर आनन-फानन में टीकमगढ़ के लिए रवाना हो गए। लौटकर फिर कार्यकर्ताओं को समय दिया।

Á मतगणना तक जनता के बीच : क्षेत्र की जनता ही मेरा परिवार है। मतगणना तक जनता के बीच में रहकर उनके दुख दूर करुंगा।

सुबह 10 बजे नींद खुली : यादवेंद्र सिंह

कांग्रेस प्रत्याशी यादवेंद्र सिंह बुंदेला मतदान के दूसरे दिन सुबह 10 बजे सोकर उठे। नहा धोकर अपने लान में कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। दोपहर बाद आराम करने चले गए। शाम को फिर कार्यकर्ताओं से मिले। थोड़ा समय परिवार के साथ बिताया।

Á मतगणना का इंतजार : अभी तो चुनावी गतिविधियों पर मंथन चल रहा है। हालांकि 11 तारीख तक कहीं जाने का प्रोग्राम नहीं है। जरुरत पड़ी, तभी बाहर जाऊंगा।

बहुत दिनों बाद अपने पैतृक गांव गए : बंसल
महान दल के उम्मीदवार आर आर बंसल सुबह 6 बजे उठे। 7 बजे चाय-नाश्ता किया। 8 बजे नहाया। करीब दस मिनट तक पूजन की। इसके बाद घर के पास बने मंदिर गए। भगवान के दर्शन करने के बाद अपने पैतृक गांव वैरबार चले गए। वहां परिजनों और ग्रामीणों से बातचीत की। थोड़ी देर रुकने के बाद जतारा वापस आ गए। यहां लोगों से मिलने का सिलसिला चलता रहा।

Á अभी कहीं नहीं जाऊंगा: अब तो मतगणना का इंतजार है। इस कारण जतारा छोड़कर कहीं नहीं जाने वाला हूं।



आगे भी अपने परिजनों और अपने लोगों से आगे की रणनीति बनाएंगे।

खबरें और भी हैं...