न्यूज़

--Advertisement--

किसान की बाइकर पर सवार होकर ऑफिस से निकले कलेक्टर, पहुंच गए खेतों में

रविवार दोपहर लगभग करीब 12.30 से शाम 4 बजे तक जिले में कहीं ओलावृष्टि तो कहीं बारिश हुई।

Dainik Bhaskar

Feb 12, 2018, 12:42 AM IST
कलेक्टर तरूण कुमार पिथौडे मोटर साइकिल पर बैठ फसल नुकसान की जांच करने पहुंच गए। कलेक्टर तरूण कुमार पिथौडे मोटर साइकिल पर बैठ फसल नुकसान की जांच करने पहुंच गए।

नसरुल्लागंज(भोपाल). रविवार दोपहर लगभग करीब 12.30 से शाम 4 बजे तक जिले में कहीं ओलावृष्टि तो कहीं बारिश हुई। इससे इससे खेत में खड़ी गेहूं, चना सहित अन्य फसलें बर्बाद हो गई। इससे किसानों को काफी नुकसान पहुंचा है। मौसम की अनुकूलता के चलते फसल का अच्छे उत्पादन की उम्मीद लगाए बैठे थे, लेकिन किसानों का यह सपना सपना धरा रह गया। किसानों ने एक बार फिर प्रशासन के सामने गुहार लगाना शुरु कर दिया। ओलावृष्टि की सूचना मिलते ही कलेक्टर तरूण कुमार पिथौडे किसान की मोटर साइकिल पर बैठ फसल नुकसान की जांच करने पहुंच गए। पांच मिनट में जमीन हो गई सफेद...

-चिचौली में पांच मिनट तक हुई ओलावृष्टि। इससे जमीन सफेद पड़ गई है। ओला देखने के लिए बच्चे और लोग बाहर निकल आए और हाथ में खेलने लगे।

- हालांकि बाद में फिर से धूप खिल गई है। सुबह चिचोली और आसपास बारिस के साथ ओले गिरने से मौसम में ठंडक घुली है।

- बैतूल बाजार, आरुल, मिलानपुर ,सोहागपुर, और आसपास के क्षेत्रों में भी बारिस की संभावना बनी हुई है।

सर्वे कराया जा रहा है

- एसडीएम एचएस चौधरी ने बताया कि किसानों द्वारा सूचना दी गई कि गोपालपुर इलाके में सबसे अधिक ओलावृष्टि हुई है।इसका सर्वे करने के लिए हल्का पटवारियों को निर्देश दिए हैं कि कोई गांव छूटे ना।

- सभी गांवों का सर्वे कर नुकसान की रिर्पोट बनाई जाए। जहां -जहां भी नुकसान हुआ है उन्हें उचित बीमा रकम दिलाई जाएगी।

फसल नुकसान को लेकर किसानों में छाई चिंता

- दोपहर में नगर में तेज धूल भरी आंधी चली तथा कुछ देर बाद रिमझिम बारिश का सिलसिला चलता रहा।

- वहीं ग्रामीण इलाकों में बेर व मक्का के आकार के ओले भी गिरे। तेज हवा चलने से गेहूं की फसल खेतों में बिछ गई है।

- इससे किसानों में चिंता देखने को मिल रही है। अमलाहा में करीब 10 मिनट हल्की बारिश हुई।

बुदनी के कई गांव में हुई ओलावृष्टि

- एसडीएम शैलेन्द्र हिनोतिया ने जानकारी देते हुए बताया कि बुदनी नगर में भी ओलावृष्टि हुई है। इसके अलावा आसपास के कुछ गांवों में ओले गिरे है, लेकिन फसलों को नुकसान कम हैं।

- बावजूद इसके प्रशासन ने सर्वे कार्य शुरु कर दिया हैं। इसी प्रकार रेहटी इलाके में भी करीब 10 मिनट तक बारिश हुई।

- यहां पर कहीं भी ओलावृष्टि होने की सूचना नहीं मिली है। शाहगंज में दोपहर 2 बजे की करीब 20 मिनट तक बारिश हुई।

इन गांवों में सबसे ज्यादा नुकसान

प्राप्त जानकारी के अनुसार गांव डोभा, कुमनताल, चीचली, बाईबोड़ी, चांदाग्रहण, नेहरूगांव, हमीदगंज, सुकरवास, जोगला, मगरिया, श्यामपुर, गोपालपुर, निमोटा, छिदगांव मौजी, बरखेड़ी, बांकोट, मंजाखेड़ी, बजगांव, तुमड़ी, बोरखेड़ा, पिपलिया, बसंतपुर, पांगरी, लोदावड, रफीकगंज, लोदड़ी, अंबाकदीम, घोघरा, सुआपानी आदि गांव में हुई ओलावृष्टि से किसानों की फसल बर्बाद हो गई।

रविवार दोपहर लगभग करीब 12.30 से शाम 4 बजे तक जिले में कहीं ओलावृष्टि तो कहीं बारिश हुई। रविवार दोपहर लगभग करीब 12.30 से शाम 4 बजे तक जिले में कहीं ओलावृष्टि तो कहीं बारिश हुई।
ओला देखने के लिए बच्चे और लोग बाहर निकल आए और हाथ में खेलने लगे। ओला देखने के लिए बच्चे और लोग बाहर निकल आए और हाथ में खेलने लगे।
तेज धूल भरी आंधी चली तथा कुछ देर बाद रिमझिम बारिश का सिलसिला चलता रहा। तेज धूल भरी आंधी चली तथा कुछ देर बाद रिमझिम बारिश का सिलसिला चलता रहा।
हालांकि बाद में फिर से धूप खिल गई है। सुबह चिचोली और आसपास बारिस के साथ ओले गिरने से मौसम में ठंडक घुली है। हालांकि बाद में फिर से धूप खिल गई है। सुबह चिचोली और आसपास बारिस के साथ ओले गिरने से मौसम में ठंडक घुली है।
भोपाल में ऐसा नजारा पहली बार देखने को मिला है। भोपाल में ऐसा नजारा पहली बार देखने को मिला है।
ओलों के गोले दिखाता किसान ओलों के गोले दिखाता किसान
X
कलेक्टर तरूण कुमार पिथौडे मोटर साइकिल पर बैठ फसल नुकसान की जांच करने पहुंच गए।कलेक्टर तरूण कुमार पिथौडे मोटर साइकिल पर बैठ फसल नुकसान की जांच करने पहुंच गए।
रविवार दोपहर लगभग करीब 12.30 से शाम 4 बजे तक जिले में कहीं ओलावृष्टि तो कहीं बारिश हुई।रविवार दोपहर लगभग करीब 12.30 से शाम 4 बजे तक जिले में कहीं ओलावृष्टि तो कहीं बारिश हुई।
ओला देखने के लिए बच्चे और लोग बाहर निकल आए और हाथ में खेलने लगे।ओला देखने के लिए बच्चे और लोग बाहर निकल आए और हाथ में खेलने लगे।
तेज धूल भरी आंधी चली तथा कुछ देर बाद रिमझिम बारिश का सिलसिला चलता रहा।तेज धूल भरी आंधी चली तथा कुछ देर बाद रिमझिम बारिश का सिलसिला चलता रहा।
हालांकि बाद में फिर से धूप खिल गई है। सुबह चिचोली और आसपास बारिस के साथ ओले गिरने से मौसम में ठंडक घुली है।हालांकि बाद में फिर से धूप खिल गई है। सुबह चिचोली और आसपास बारिस के साथ ओले गिरने से मौसम में ठंडक घुली है।
भोपाल में ऐसा नजारा पहली बार देखने को मिला है।भोपाल में ऐसा नजारा पहली बार देखने को मिला है।
ओलों के गोले दिखाता किसानओलों के गोले दिखाता किसान
Click to listen..